Wednesday , 15 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » शिक्षाप्रदकहानियां- अपना काम खुद करें

शिक्षाप्रदकहानियां- अपना काम खुद करें

shikshaaprad-kahaaniyaan-apana-kaam-khud-karen

shikshaaprad-kahaaniyaan-apana-kaam-khud-karen

shikshaaprad-

shikshaaprad

एक बार एक किसान के गेंहू के खेत में एक चिड़िया ने घोंसला बना रखा था। उस घोंसले में उसने अंडे दिये। कुछ समय बाद अंडो में से बच्चे निकले।चिड़िया दाना चुगने के लिए दूर जंगल में जाती थी और अपने बच्चों के लिये दाना लेकर लौटती थी। इस दौरान उसके बच्चे घोंसले में अकेले रहते थे। जब चिड़िया दाना लेकर लौटकर आती तो बच्चे बहुत खुश होते और उसके द्वारा लाए गए दानों को खाते।
एक दिन चिड़िया जब दाना लेकर लौटी तो उसने देखा कि उसके बच्चे बहुत डरे हुए हैं। उसने बच्चों से पूछा क्या बात है बच्चो ? तुम सब इतने डरे हुए क्यों हो?
बच्चों ने बताया कि “आज किसान आया था और वह कह रहा था कि फसल अब पक चुकी है, मैं कल अपने बेटों से फसल काटने के लिये कहूँगा। अगर उसने फसल काटी तो हमारा घोसला टूट जायेगा, फिर हम कहाँ रहेंगे?”
चिड़िया बोली “ फ़िक्र मत करो बच्चों, अभी खेत की फसल नही कटेगी।”
सच में अगले दिन कोई फसल काटने नहीं आया और चिड़िया के बच्चे बेफिक्र हो गए। लेकिन कुछ दिनों बाद चिड़िया को बच्चे फिर से डरे हुए मिले। चिड़िया के पूछने पर बच्चों ने बताया “किसान आज भी आया था और कह रहा था कि बेटे नहीं आये तो क्या हुआ? कल फसल काटने के लिए मजदूरों को भेजूंगा।”
इस बार भी चिड़िया ने बच्चों से कहा “डरने की जरुरत नहीं हैं, फसल कल भी नहीं कटेगी।”
ऐसे ही कुछ दिन और बीत गए। कोई फसल काटने के लिए नहीं आया।
कुछ दिन बाद एक दिन बच्चे फिर से डरे हुए थे। और उन्होंने चिड़िया को बताया कि “आज किसान फिर से आया था और कह रहा था कि दूसरों के भरोसे रहकर मैंने फसल काटने में बहुत देर कर दी है। मैं कल खुद ही फसल को काटने आऊँगा।
यह सुनकर चिड़िया बच्चों से बोली “अब हमें यह जगह छोड़कर कोई सुरक्षित जगह चले जाना चाहिए। क्योंकि कल खेत की फसल जरुर कटेगी।”
वह तुरंत बच्चों को लेकर एक दूसरे घोसले में आ गई। जिसे उसने कई दिनों से कड़ी मेहनत कर के बनाया था।
अगले दिन चिड़िया और उसके बच्चो ने देखा कि किसान ने फसल काटनी शुरू कर दी है।
बच्चों ने बड़ी हैरानी से चिड़िया से पूछा “माँ, तुमने कैसे जाना कि कल खेत की फसल कट ही जाएगी?”
चिड़िया ने बच्चो को बताया कि “जब तक इंसान किसी कार्य के लिए दूसरों पर निर्भर रहता है, वह कार्य पूरा नहीं होता है। लेकिन जब इंसान उस कार्य को खुद करने की ठान लेता है तो वो कार्य जरुर पूरा होता है। किसान जब तक दूसरों पर निर्भर था तब तक उसकी फसल नहीं कटी। लेकिन जब उसने खुद फसल काटने का फैसला किया तो उसकी फसल कट गयी।
शिक्षा- जब तक हम किसी भी काम के लिए दूसरों पर निर्भर रहते हैं तो उस काम के होने की सम्भावना बहुत कम होती हैं और अगर वो काम हो भी गया तो उस तरह से नहीं हो पाता जैसे हम चाहते थे। लेकिन अगर वही काम हम खुद करें तो वो काम समय पर हो भी जायेगा और जैसा हम चाहते हैं वैसा ही होता है।

To English Wish4me

ek baar ek kisaan ke genhoo ke khet mein ek chidiya ne ghonsala bana rakha tha. us ghonsale mein usane ande diye. kuchh samay baad ando mein se bachche nikale.chidiya daana chugane ke lie door jangal mein jaatee thee aur apane bachchon ke liye daana lekar lautatee thee. is dauraan usake bachche ghonsale mein akele rahate the. jab chidiya daana lekar lautakar aatee to bachche bahut khush hote aur usake dvaara lae gae daanon ko khaate.
ek din chidiya jab daana lekar lautee to usane dekha ki usake bachche bahut dare hue hain. usane bachchon se poochha kya baat hai bachcho ? tum sab itane dare hue kyon ho?
bachchon ne bataaya ki “aaj kisaan aaya tha aur vah kah raha tha ki phasal ab pak chukee hai, main kal apane beton se phasal kaatane ke liye kahoonga. agar usane phasal kaatee to hamaara ghosala toot jaayega, phir ham kahaan rahenge?”
chidiya bolee “ fikr mat karo bachchon, abhee khet kee phasal nahee kategee.”
sach mein agale din koee phasal kaatane nahin aaya aur chidiya ke bachche bephikr ho gae. lekin kuchh dinon baad chidiya ko bachche phir se dare hue mile. chidiya ke poochhane par bachchon ne bataaya “kisaan aaj bhee aaya tha aur kah raha tha ki bete nahin aaye to kya hua? kal phasal kaatane ke lie majadooron ko bhejoonga.”
is baar bhee chidiya ne bachchon se kaha “darane kee jarurat nahin hain, phasal kal bhee nahin kategee.”
aise hee kuchh din aur beet gae. koee phasal kaatane ke lie nahin aaya.
kuchh din baad ek din bachche phir se dare hue the. aur unhonne chidiya ko bataaya ki “aaj kisaan phir se aaya tha aur kah raha tha ki doosaron ke bharose rahakar mainne phasal kaatane mein bahut der kar dee hai. main kal khud hee phasal ko kaatane aaoonga.
yah sunakar chidiya bachchon se bolee “ab hamen yah jagah chhodakar koee surakshit jagah chale jaana chaahie. kyonki kal khet kee phasal jarur kategee.”
vah turant bachchon ko lekar ek doosare ghosale mein aa gaee. jise usane kaee dinon se kadee mehanat kar ke banaaya tha.
agale din chidiya aur usake bachcho ne dekha ki kisaan ne phasal kaatanee shuroo kar dee hai.
bachchon ne badee hairaanee se chidiya se poochha “maan, tumane kaise jaana ki kal khet kee phasal kat hee jaegee?”
chidiya ne bachcho ko bataaya ki “jab tak insaan kisee kaary ke lie doosaron par nirbhar rahata hai, vah kaary poora nahin hota hai. lekin jab insaan us kaary ko khud karane kee thaan leta hai to vo kaary jarur poora hota hai. kisaan jab tak doosaron par nirbhar tha tab tak usakee phasal nahin katee. lekin jab usane khud phasal kaatane ka phaisala kiya to usakee phasal kat gayee.
#shiksha- jab tak ham kisee bhee kaam ke lie doosaron par nirbhar rahate hain to us kaam ke hone kee sambhaavana bahut kam hotee hain aur agar vo kaam ho bhee gaya to us tarah se nahin ho paata jaise ham chaahate the. lekin agar vahee kaam ham khud karen to vo kaam samay par ho bhee jaayega aur jaisa ham chaahate hain vaisa hee hota hai.

Comments

comments