Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » शिक्षाप्रद कहानियां- सदा दुःखी रहता है समय गंवाने वाला

शिक्षाप्रद कहानियां- सदा दुःखी रहता है समय गंवाने वाला

shikshaaprad-kahaaniyaan-sada-dukhee-rahata-hai-samay-ganvaane-vaala

shikshaaprad-kahaaniyaan-sada-dukhee-rahata-hai-samay-ganvaane-vaala

6

किसी गांव में एक व्यक्ति रहता था। वह बहुत ही भला था लेकिन उसमें एक दुर्गुण था वह हर काम को टाला करता था। वह मानता था कि जो कुछ होता है भाग्य से होता है। एक दिन एक साधु उसके पास आया। उस व्यक्ति ने साधु की बहुत सेवा की। उसकी सेवा से खुश होकर साधु ने पारस पत्थर देते हुए कहा- मैं तुम्हारी सेवा से बहुत प्रसन्न हूं। तुम बहुत गरीब हो इसलिय मैं तुम्हे यह पारस पत्थर दे रहा हूं। सात दिन बाद मै इसे तुम्हारे पास से ले जाऊंगा। इस बीच तुम जितना चाहो, उतना सोना बना लेना। उस व्यकित ने अपने घर में लोहा तलाश किया। थोड़ा सा लोहा मिला तो उसने उसी का सोना बनाकर बाजार में बेच दिया और कुछ सामान ले आया।
अगले दिन वह लोहा खरीदने के लिए बाजार गया, तो उस समय मंहगा मिला रहा था यह देख कर वह व्यक्ति घर लौट आया। तीन दिन बाद वह फिर बाजार गया तो उसे पता चला कि इस बार और भी महंगा हो गया है। इसलिए वह लोहा बिना खरीदे ही वापस लौट गया। उसने सोचा-एक दिन तो जरुर लोहा सस्ता होगा। जब सस्ता हो जाएगा तभी खरीदेंगे। यह सोचकर उसने लोहा खरीदा ही नहीं। आठवे दिन साधु पारस लेने के लिए उसके पास आ गए। व्यक्ति ने कहा- मेरा तो सारा समय ऐसे ही निकल गया। अभी तो मैं कुछ भी सोना नहीं बना पाया हूं। आप कृपया इस पत्थर को कुछ दिन और मेरे पास रहने दीजिए। लेकिन साधु राजी नहीं हुए। साधु ने कहा-तुम्हारे जैसा आदमी जीवन में कुछ नहीं कर सकता। तुम्हारी जगह कोई और होता तो अब तक पता नहीं क्या-क्या कर चुका होता।आशय यह है कि जो आदमी समय का उपयोग करना नहीं जानता, वह हमेशा दु:खी रहता है। इतना कहते हुए साधु महाराज पत्थर लेकर चले गए।
शिक्षा‬- जो व्यक्ति काम को टालता रहता है। समय का सदुपयोग करना नहीं जानता और केवल भाग्य भरोसे रहता है वह हमेशा दुखी रहता है।


 

kisee gaanv mein ek vyakti rahata tha. vah bahut hee bhala tha lekin usamen ek durgun tha vah har kaam ko taala karata tha. vah maanata tha ki jo kuchh hota hai bhaagy se hota hai. ek din ek saadhu usake paas aaya. us vyakti ne saadhu kee bahut seva kee. usakee seva se khush hokar saadhu ne paaras patthar dete hue kaha- main tumhaaree seva se bahut prasann hoon. tum bahut gareeb ho isaliy main tumhe yah paaras patthar de raha hoon. saat din baad mai ise tumhaare paas se le jaoonga. is beech tum jitana chaaho, utana sona bana lena. us vyakit ne apane ghar mein loha talaash kiya. thoda sa loha mila to usane usee ka sona banaakar baajaar mein bech diya aur kuchh saamaan le aaya.
agale din vah loha khareedane ke lie baajaar gaya, to us samay manhaga mila raha tha yah dekh kar vah vyakti ghar laut aaya. teen din baad vah phir baajaar gaya to use pata chala ki is baar aur bhee mahanga ho gaya hai. isalie vah loha bina khareede hee vaapas laut gaya. usane socha-ek din to jarur loha sasta hoga. jab sasta ho jaega tabhee khareedenge. yah sochakar usane loha khareeda hee nahin. aathave din saadhu paaras lene ke lie usake paas aa gae. vyakti ne kaha- mera to saara samay aise hee nikal gaya. abhee to main kuchh bhee sona nahin bana paaya hoon. aap krpaya is patthar ko kuchh din aur mere paas rahane deejie. lekin saadhu raajee nahin hue. saadhu ne kaha-tumhaare jaisa aadamee jeevan mein kuchh nahin kar sakata. tumhaaree jagah koee aur hota to ab tak pata nahin kya-kya kar chuka hota.aashay yah hai ki jo aadamee samay ka upayog karana nahin jaanata, vah hamesha du:khee rahata hai. itana kahate hue saadhu mahaaraaj patthar lekar chale gae.
‪shiksha‬- jo vyakti kaam ko taalata rahata hai. samay ka sadupayog karana nahin jaanata aur keval bhaagy bharose rahata hai vah hamesha dukhee rahata hai.

Comments

comments