Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » शिरडी साईं बाबा मंदिर

शिरडी साईं बाबा मंदिर

shirdi-sai-baba-mandir

shirdi-sai-baba-mandir

Shirdi Sai Baba Mandir Story
शिरडी के साईं बाबा का मंदिर महाराष्ट्र के अहमदनगर के शिरडी गांव में स्थित एक प्रमुख धार्मिक स्थान है। यहां हजारों भक्त हर वर्ष बाबा के दर्शन के लिए आते हैं। साईं बाबा सभी धर्मों का सम्मान करने वाले एक महान संत थे। साईं बाबा के जीवन के संबंध में कई कथाएं कही जाती हैं।

शिरड़ी साईं बाबा मंदिर ( Importance of Sai Baba Temple) 
साईं बाबा का सबसे बड़ा मंदिर शिरडी में हैं। यह महाराष्ट्र के अहमदनगर में स्थित हैं। इस मंदिर की ख्याति विश्व प्रसिद्ध हैं। इस मंदिर के विशेष कार्यक्रम निम्न हैं:

* काकड़ आरती: यह सुबह सवा बजे से शुरु होती है।

* सामूहिक अभिषेक: 11 बजे समाधि का सामूहिक अभिषेक किया जाता है।

* मध्याह्न आरती: दोपहर 12 बजे से आरती आरंभ हो जाती है लेकिन गुरुवार और रविवार के दिन आरती में विलंब होता है।

* सूर्यास्त के पश्चात पुन: आरती की जाती है।

शिरडी धाम के विशेष आकर्षण:

समाधि मंदिर: जिस जगह साईं नाथ ने समाधि ली थी वह एक मंदिर का निर्माण किया गया है।

द्वारकामाई की पुरानी मस्जिद में साईं धाम: जिस मस्जिद में साईं बाबा ने सर्वप्रथम डेरा डाला था उसे “द्वारकामाई” के नाम से जाना जाता है।

गुरुस्थान: कहा जाता है कि यहीं शिरडी साईं बाबा के पूर्व जन्म के गुरु निवास किया करते थे। खण्डोबा मंदिर: खण्डोबा के दर्शन के बाद ही साईं की समाधि के दर्शन किए जाते हैं।

शिरडी के साईं बाबा की विशेषता 
मान्यता है कि शिरडी के साईं बाबा के दर्शन करने मात्र से शारीरिक कष्ट दूर हो जाते हैं। इसके साथ ही लोग यह भी मानते है कि बाबा श्रद्धा से चढ़ाए गए एक पुष्प से ही प्रसन्न हो जाते है तथा सबकी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं।

 


 

 

shiradee ke saeen baaba ka mandir mahaaraashtr ke ahamadanagar ke shiradee gaanv mein sthit ek pramukh dhaarmik sthaan hai. yahaan hajaaron bhakt har varsh baaba ke darshan ke lie aate hain. saeen baaba sabhee dharmon ka sammaan karane vaale ek mahaan sant the. saeen baaba ke jeevan ke sambandh mein kaee kathaen kahee jaatee hain.

shiradee saeen baaba mandir (saee baaba mandir ka mahatv)
saeen baaba ka sabase bada mandir shiradee mein hain. yah mahaaraashtr ke ahamadanagar mein sthit hain. is mandir kee khyaati vishv prasiddh hain. is mandir ke vishesh kaaryakram nimn hain:

* kaakad aaratee: yah subah sava baje se shuru hotee hai.

* saamoohik abhishek: 11 baje samaadhi ka saamoohik abhishek kiya jaata hai.

* madhyaahn aaratee: dopahar 12 baje se aaratee aarambh ho jaatee hai lekin guruvaar aur ravivaar ke din aaratee mein vilamb hota hai.

* sooryaast ke pashchaat pun: aaratee kee jaatee hai.

shiradee dhaam ke vishesh aakarshan:

samaadhi mandir: jis jagah saeen naath ne samaadhi lee thee vah ek mandir ka nirmaan kiya gaya hai.

dvaarakaamaee kee puraanee masjid mein saeen dhaam: jis masjid mein saeen baaba ne sarvapratham dera daala tha use “dvaarakaamaee” ke naam se jaana jaata hai.

gurusthaan: kaha jaata hai ki yaheen shiradee saeen baaba ke poorv janm ke guru nivaas kiya karate the. khandoba mandir: khandoba ke darshan ke baad hee saeen kee samaadhi ke darshan kie jaate hain.

shiradee ke saeen baaba kee visheshata
maanyata hai ki shiradee ke saeen baaba ke darshan karane maatr se shaareerik kasht door ho jaate hain. isake saath hee log yah bhee maanate hai ki baaba shraddha se chadhae gae ek pushp se hee prasann ho jaate hai tatha sabakee manokaamanaen poorn karate hain.

Comments

comments