Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » शिष्टता सबसे बड़ी सिफारिश है

शिष्टता सबसे बड़ी सिफारिश है

shistha-sabse-bari-sifarish

shistha-sabse-bari-sifarish

Shistha Sabse Bari Sifarish

एक व्यक्ति ने एक नौकरी के लिए विज्ञापन छपाया। वे अपने दफ्तर में एक सहायक चाहते थे। विज्ञापन के उत्तर में लगभग पचास व्यक्तियों ने अर्जियां दीं। बहुत-से लोग उनसे मिलने आये। सबसे बातचीत हुई। इंटरव्यू होने के बाद उनके एक मित्र ने पूछा- ‘ आपने एक ऐसे व्यक्ति को क्यों चुना है, जिसके पास कोई भी सिफारिखी खत नहां है? किसी ने उसके पक्ष में कुछ भी नहीं कहा है?’
वे बोले- ‘आप गलत सोच रहे हैं। कई बातों ने उस युवक की सिफारिश की है। जब वह इंटरव्यू के लिए आया तो उसने पावदान पर पांव पोंछे। अंदर प्रवेश करने पर उसने दरवाजा बंद कर दिया। इससे यह मालूम हुआ कि इसे कायदे- कानून का ज्ञान है। उस लंगड़े आदमी को खड़ा देखकर उसने फौरन अपनी सीट छोड़ दी। इससे साफ जाहिर है कि वह शिष्ट और दूसरों का ध्यान रखने वाला है। फर्श पर पड़ी हुई उस पुस्तक को उसने सावधानी से उठाया और मेरी मेज पर रख दिया, जब कि अन्य व्यक्ति उस पुस्तक के प्रति लापरवाह रहे। जब मैंने उससे बातें कीं तो मैंने ध्यानपूर्वक देखा कि उसके वस्त्र स्वच्छतापूर्वक इस्तरी किए हुए थे, उसके बाल सफाई से संवारे हुए थे और उसके दांत दूध की तरह स्वच्छ चमकदार थे। शराब, पान, सिगरेट के निशान न थे, जब उसने अपना नाम लिखा तो मैंने देखा कि उसके नाखून स्वच्छ थे। शरीर की सफाई का उसे पूरा-पूरा ध्यान था। उसने अंदर आने के लिए धक्का-मुक्की या गड़बड़ी नहीं की, बल्कि शांतिपूर्वक अपनी बारीकी प्रतीक्षा करता रहा। सद्व्यवहार के ये शिष्ट कार्य और आकर्षक आदतें हजारों सिफारिशी पत्रों से अधिक मूल्यवान हैं। मैं किसी लड़के को दस मिनट सावधानी से देखकर उसके चरित्र को पहचान सकता हूं, जितना कोई भी सिफारिशी पत्र उसके विषय में स्पष्ट नहीं कर सकता।‘
#शिक्षा- मनुष्य उच्चता और शिष्टता उसके व्यवहार से अपने- आप प्रकट होती रहती है। हमारी आदतें ही हमारी आंतरिक श्रेष्ठता स्पष्ट करती है।


ek vyakti ne ek naukaree ke lie vigyaapan chhapaaya. ve apane daphtar mein ek sahaayak chaahate the. vigyaapan ke uttar mein lagabhag pachaas vyaktiyon ne arjiyaan deen. bahut-se log unase milane aaye. sabase baatacheet huee. intaravyoo hone ke baad unake ek mitr ne poochha- aapane ek aise vyakti ko kyon chuna hai, jisake paas koee bhee siphaarikhee khat nahaan hai? kisee ne usake paksh mein kuchh bhee nahin kaha hai?
ve bole- aap galat soch rahe hain. kaee baaton ne us yuvak kee siphaarish kee hai. jab vah intaravyoo ke lie aaya to usane paavadaan par paanv ponchhe. andar pravesh karane par usane daravaaja band kar diya. isase yah maaloom hua ki ise kaayade- kaanoon ka gyaan hai. us langade aadamee ko khada dekhakar usane phauran apanee seet chhod dee. isase saaph jaahir hai ki vah shisht aur doosaron ka dhyaan rakhane vaala hai. pharsh par padee huee us pustak ko usane saavadhaanee se uthaaya aur meree mej par rakh diya, jab ki any vyakti us pustak ke prati laaparavaah rahe. jab mainne usase baaten keen to mainne dhyaanapoorvak dekha ki usake vastr svachchhataapoorvak istaree kie hue the, usake baal saphaee se sanvaare hue the aur usake daant doodh kee tarah svachchh chamakadaar the. sharaab, paan, sigaret ke nishaan na the, jab usane apana naam likha to mainne dekha ki usake naakhoon svachchh the. shareer kee saphaee ka use poora-poora dhyaan tha. usane andar aane ke lie dhakka-mukkee ya gadabadee nahin kee, balki shaantipoorvak apanee baareekee prateeksha karata raha. sadvyavahaar ke ye shisht kaary aur aakarshak aadaten hajaaron siphaarishee patron se adhik moolyavaan hain. main kisee ladake ko das minat saavadhaanee se dekhakar usake charitr ko pahachaan sakata hoon, jitana koee bhee siphaarishee patr usake vishay mein spasht nahin kar sakata.

Comments

comments