Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » शिवाराधना से दैत्यगुरु शुक्राचार्य को संजीवनी विद्या की प्राप्ति

शिवाराधना से दैत्यगुरु शुक्राचार्य को संजीवनी विद्या की प्राप्ति

shiv-dharna-se-datyeguru

shiv-dharna-se-datyeguru

 

Shiv Dharna Se Datyeguru

एक बार दैत्यों के आचार्य शुक्र को अपने शिष्यों दानवों का पराभव देखकर बहुत दुख हुआ और उन्होंने तपस्यों बल से देवों को हराने की प्रतिज्ञा की तथा वे अर्बुद पर्वत पर तपस्या करने चले गए। वहां उन्होंने भूमि के भीतर एक सुरंग में प्रवेश कर ‘शुक्रेश्वर’ नामक शिव लिंग की स्थापना की और प्रतिदिन श्रद्धाभक्तिपूर्वक षोडशोपचार से भगवान शंकर की अर्चना करने लगे। अनाहार और अनन्यमनस्क होकर वे परम दारुण तप करने लगे । इस प्रकार तप करते- करते जब उनके एक सहस्त्र बीत गए, तब श्रीमहादेव ने उन्हें दर्शन देकर कहा- हे द्विजोत्तम! मैं तुम्हारी आराधना से परम संतुष्ट हूं, जो वर मांगना चाहो, मांगो शुक्राचार्य ने हाथ जोड़कर प्रार्थना की-
यदि तुष्टो महादेव विद्यां देहि महेश्वर।
यया जीवंति संप्रासा मृत्युं संख्येऽपि जन्तव:।।
स्कंदपुरायण, प्रभासखंड, अर्बुदखंड
‘हे महेश्वर महादेव, यदि आप मुझ पर प्रसन्न हैं तो मुझे वह विद्या दीजिए जिससे युद्ध में भी मरे हुए प्राणी जीवित हो जाएं’,
भगवान शंकर ने प्रसन्नपूर्वक मृत्यु पर विजय प्राप्त कराने वाली तथा मृत प्राणी को भी जीवित कर लेने की शक्ति वाली संजीवनी –विद्या वर के रूप में उन्हें प्रदान की और कहा कि तुम्हें और कुछ मांगना हो तो वह भी मांग लो। तब उन्होंने कहा कि ‘महाराज! कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को जो इन शुक्रेश्वर का भक्ति पूर्वक अर्चन करे, उसे अल्पमृत्यु का कभी भय न हो।’ महादेव जी ने तथास्तु कहकर कैलास की ओर प्रयाण किया । वर के प्रभाव से शुक्राचार्य युद्ध में मरे हुए असंख्य दैत्यों को फिर से जिला लेते थे, जिससे दैत्यों को पराजित करना देवों के लिए कठिन हो गया।
इस शुक्रतीर्थ में पितरों की श्राद्धदि क्रिया करने से पितृगण संतुष्ट होते हैं। यहां स्नान करने से एवं शुक्रेश्वर के अर्चन से मनुष्य सभी पापों से मुक्त हो जाता है और उसे अल्पमृत्यु का भय कभी नहीं होता, सुख मिलते हैं और वह अंत में शिवलोक को प्राप्त कर शिवगणों के साथ आनंद भोगता है ।


 

ek baar daityon ke aachaary shukr ko apane shishyon daanavon ka paraabhav dekhakar bahut dukh hua aur unhonne tapasyon bal se devon ko haraane kee pratigya kee tatha ve arbud parvat par tapasya karane chale gae. vahaan unhonne bhoomi ke bheetar ek surang mein pravesh kar shukreshvar naamak shiv ling kee sthaapana kee aur pratidin shraddhaabhaktipoorvak shodashopachaar se bhagavaan shankar kee archana karane lage. anaahaar aur ananyamanask hokar ve param daarun tap karane lage. is prakaar tap karate- karate jab unake ek sahastr beet gae, tab shreemahaadev ne unhen darshan dekar kaha- he dvijottam! main tumhaaree aaraadhana se param santusht hoon, jo var maangana chaaho, maango shukraachaary ne haath jodakar praarthana kee-
yadi tushto mahaadev vidyaan dehi maheshvar.
yaya jeevanti sampraasa mrtyun sankhyepi jantav: ..
skandapuraayan, prabhaasakhand, arbudakhand
he maheshvar mahaadev, yadi aap mujh par prasann hain to mujhe vah vidya deejie jisase yuddh mein bhee mare hue praanee jeevit ho jaen,
bhagavaan shankar ne prasannapoorvak mrtyu par vijay praapt karaane vaalee tatha mrt praanee ko bhee jeevit kar lene kee shakti vaalee sanjeevanee -vidya var ke roop mein unhen pradaan kee aur kaha ki tumhen aur kuchh maangana ho to vah bhee maang lo. tab unhonne kaha ki mahaaraaj! kaartik maas ke shukl paksh kee ashtamee tithi ko jo in shukreshvar ka bhakti poorvak archan kare, use alpamrtyu ka kabhee bhay na ho. mahaadev jee ne tathaastu kahakar kailaas kee or prayaan kiya. var ke prabhaav se shukraachaary yuddh mein mare hue asankhy daityon ko phir se jila lete the, jisase daityon ko paraajit karana devon ke lie kathin ho gaya.
is shukrateerth mein pitaron kee shraaddhadi kriya karane se pitrgan santusht hote hain. yahaan snaan karane se evan shukreshvar ke archan se manushy sabhee paapon se mukt ho jaata hai aur use alpamrtyu ka bhay kabhee nahin hota, sukh milate hain aur vah ant mein shivalok ko praapt kar

Comments

comments