Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » शिवरात्रि कथा (Shivaratri Story)

शिवरात्रि कथा (Shivaratri Story)

shivaratri-story

shivaratri-story

Shivaratri Story

Shivaratri Story

महाशिवरात्रि’ के विषय में भिन्न – भिन्न मत हैं, कुछ विद्वानों का मत है कि आज के ही दिन शिवजी और माता पार्वती विवाह-सूत्र में बंधे थे जबकि अन्य कुछ विद्वान् ऐसा मानते हैं कि आज के ही दिन शिवजी ने ‘कालकूट’ नाम का विष पिया था जो सागरमंथन के समय समुद्र से निकला था | ज्ञात है कि यह समुद्रमंथन देवताओं और असुरों ने अमृत-प्राप्ति के लिए किया था |एक शिकारी की कथा भी इस त्यौहार के साथ जुड़ी हुई है कि कैसे उसके अनजाने में की गई पूजा से प्रसन्न होकर भगवान् शिव ने उस पर अपनी असीम कृपा की थी | यह कथा पौराणिक “शिव पुराण” में भी संकलित है …

प्राचीन काल में, किसी जंगल में एक गुरुद्रुह नाम का एक शिकारी रहता था जो जंगली जानवरों का शिकार करता तथा अपने परिवार का भरण-पोषण किया करता था |एक बार शिव-रात्रि के दिन जब वह शिकार के लिए निकला , पर संयोगवश पूरे दिन खोजने के बाद भी उसे कोई शिकार न मिला, उसके बच्चों, पत्नी एवं माता-पिता को भूखा रहना पड़ेगा इस बात से वह चिंतित हो गया , सूर्यास्त होने पर वह एक जलाशय के समीप गया और वहां एक घाट के किनारे एक पेड़ पर थोड़ा सा जल पीने के लिए लेकर, चढ़ गया क्योंकि उसे पूरी उम्मीद थी कि कोई न कोई जानवर अपनी प्यास बुझाने के लिए यहाँ ज़रूर आयेगा |वह पेड़ ‘बेल-पत्र’ का था और उसी पेड़ के नीचे शिवलिंग भी था जो सूखे बेलपत्रों से ढके होने के कारण दिखाई नहीं दे रहा था |

रात का पहला प्रहर बीतने से पहले एक हिरणी वहां पर पानी पीने के लिए आई |उसे देखते ही शिकारी ने अपने धनुष पर बाण साधा |ऐसा करने में, उसके हाथ के धक्के से कुछ पत्ते एवं जल की कुछ बूंदे नीचे बने शिवलिंग पर गिरीं और अनजाने में ही शिकारी की पहले प्रहर की पूजा हो गयी |हिरणी ने जब पत्तों की खड़खड़ाहट सुनी, तो घबरा कर ऊपर की ओर देखा और भयभीत हो कर, शिकारी से , कांपते हुए स्वर में बोली- ‘मुझे मत मारो |’ शिकारी ने कहा कि वह और उसका परिवार भूखा है इसलिए वह उसे नहीं छोड़ सकता |हिरणी ने वादा किया कि वह अपने बच्चों को अपने स्वामी को सौंप कर लौट आयेगी| तब वह उसका शिकार कर ले |शिकारी को उसकी बात का विश्वास नहीं हो रहा था |उसने फिर से शिकारी को यह कहते हुए अपनी बात का भरोसा करवाया कि जैसे सत्य पर ही धरती टिकी है; समुद्र मर्यादा में रहता है और झरनों से जल-धाराएँ गिरा करती हैं वैसे ही वह भी सत्य बोल रही है | क्रूर होने के बावजूद भी, शिकारी को उस पर दया आ गयी और उसने ‘जल्दी लौटना’ कहकर , उस हिरनी को जाने दिया |

थोड़ी ही देर बाद एक और हिरनी वहां पानी पीने आई, शिकारी सावधान हो गया, तीर सांधने लगा और ऐसा करते हुए, उसके हाथ के धक्के से फिर पहले की ही तरह थोडा जल और कुछ बेलपत्र नीचे शिवलिंग पर जा गिरे और अनायास ही शिकारी की दूसरे प्रहर की पूजा भी हो गयी |इस हिरनी ने भी भयभीत हो कर, शिकारी से जीवनदान की याचना की लेकिन उसके अस्वीकार कर देने पर ,हिरनी ने उसे लौट आने का वचन, यह कहते हुए दिया कि उसे ज्ञात है कि जो वचन दे कर पलट जाता है ,उसका अपने जीवन में संचित पुण्य नष्ट हो जाया करता है | उस शिकारी ने पहले की तरह, इस हिरनी के वचन का भी भरोसा कर उसे जाने दिया |

अब तो वह इसी चिंता से व्याकुल हो रहा था कि उन में से शायद ही कोई हिरनी लौट के आये और अब उसके परिवार का क्या होगा |इतने में ही उसने जल की ओर आते हुए एक हिरण को देखा, उसे देखकर शिकारी बड़ा प्रसन्न हुआ ,अब फिर धनुष पर बाण चढाने से उसकी तीसरे प्रहर की पूजा भी स्वतः ही संपन्न हो गयी लेकिन पत्तों के गिरने की आवाज़ से वह हिरन सावधान हो गया |उसने शिकारी को देखा और पूछा –“ तुम क्या करना चाहते हो ?” वह बोला-“अपने कुटुंब को भोजन देने के लिए तुम्हारा वध करूंगा |” वह मृग प्रसन्न हो कर कहने लगा – “मैं धन्य हूँ कि मेरा यह शरीर किसी के काम आएगा, परोपकार से मेरा जीवन सफल हो जायेगा पर कृपया कर अभी मुझे जाने दो ताकि मैं अपने बच्चों को उनकी माता के हाथ में सौंप कर और उन सबको धीरज बंधा कर यहाँ लौट आऊं |” शिकारी का ह्रदय, उसके पापपुंज नष्ट हो जाने से अब तक शुद्ध हो गया था इसलिए वह विनयपूर्वक बोला –‘ जो-जो यहाँ आये ,सभी बातें बनाकर चले गये और अभी तक नहीं लौटे ,यदि तुम भी झूठ बोलकर चले जाओगे ,तो मेरे परिजनों का क्या होगा ?” अब हिरन ने यह कहते हुए उसे अपने सत्य बोलने का भरोसा दिलवाया कि यदि वह लौटकर न आये; तो उसे वह पाप लगे जो उसे लगा करता है जो सामर्थ्य रहते हुए भी दूसरे का उपकार नहीं करता | शिकारी ने उसे भी यह कहकर जाने दिया कि ‘शीघ्र लौट आना |’

रात्रि का अंतिम प्रहर शुरू होते ही उस शिकारी के हर्ष की सीमा न थी क्योंकि उसने उन सब हिरन-हिरनियों को अपने बच्चों सहित एकसाथ आते देख लिया था |उन्हें देखते ही उसने अपने धनुष पर बाण रखा और पहले की ही तरह उसकी चौथे प्रहर की भी शिव-पूजा संपन्न हो गयी | अब उस शिकारी के शिव कृपा से सभी पाप भस्म हो गये इसलिए वह सोचने लगा-‘ओह, ये पशु धन्य हैं जो ज्ञानहीन हो कर भी अपने शरीर से परोपकार करना चाहते हैं लेकिन धिक्कार है मेरे जीवन को कि मैं अनेक प्रकार के कुकृत्यों से अपने परिवार का पालन करता रहा |’ अब उसने अपना बाण रोक लिया तथा मृगों से कहा की वे सब धन्य है तथा उन्हें वापिस जाने दिया|उसके ऐसा करने पर भगवान् शंकर ने प्रसन्न हो कर तत्काल उसे अपने दिव्य स्वरूप का दर्शन करवाया तथा उसे सुख-समृद्धि का वरदान देकर “गुह’’ नाम प्रदान किया |मित्रों, यही वह गुह था जिसके साथ भगवान् श्री राम ने मित्रता की थी |

शिव जी जटाओं में गंगाजी को धारण करने वाले, सिर पर चंद्रमा को सजाने वाले,मस्तक पर त्रिपुंड तथा तीसरे नेत्र वाले ,कंठ में कालपाश [नागराज] तथा रुद्रा- क्षमाला से सुशोभित , हाथ में डमरू और त्रिशूल है जिनके और भक्तगण बड़ी श्रद्दा से जिन्हें शिवशंकर, शंकर, भोलेनाथ, महादेव, भगवान् आशुतोष, उमापति, गौरीशंकर, सोमेश्वर, महाकाल, ओंकारेश्वर, वैद्यनाथ, नीलकंठ, त्रिपुरारि, सदाशिव तथा अन्य सहस्त्रों नामों से संबोधित कर उनकी पूजा-अर्चना किया करते हैं —– ऐसे भगवान् शिव एवं शिवा हम सबके चिंतन को सदा-सदैव सकारात्मक बनायें एवं सबकी मनोकामनाएं पूरी करें |

wish4me to English

mahaashivaraatri’ ke vishay mein bhinn – bhinn mat hain, kuchh vidvaanon ka mat hai ki aaj ke hee din shivajee aur maata paarvatee vivaah-sootr mein bandhe the jabaki any kuchh vidvaan aisa maanate hain ki aaj ke hee din shivajee ne ‘kaalakoot’ naam ka vish piya tha jo saagaramanthan ke samay samudr se nikala tha | gyaat hai ki yah samudramanthan devataon aur asuron ne amrt-praapti ke lie kiya tha |ek shikaaree kee katha bhee is tyauhaar ke saath judee huee hai ki kaise usake anajaane mein kee gaee pooja se prasann hokar bhagavaan shiv ne us par apanee aseem krpa kee thee | yah katha pauraanik “shiv puraan” mein bhee sankalit hai …
praacheen kaal mein, kisee jangal mein ek gurudruh naam ka ek shikaaree rahata tha jo jangalee jaanavaron ka shikaar karata tatha apane parivaar ka bharan-poshan kiya karata tha |ek baar shiv-raatri ke din jab vah shikaar ke lie nikala , par sanyogavash poore din khojane ke baad bhee use koee shikaar na mila, usake bachchon, patnee evan maata-pita ko bhookha rahana padega is baat se vah chintit ho gaya , sooryaast hone par vah ek jalaashay ke sameep gaya aur vahaan ek ghaat ke kinaare ek ped par thoda sa jal peene ke lie lekar, chadh gaya kyonki use pooree ummeed thee ki koee na koee jaanavar apanee pyaas bujhaane ke lie yahaan zaroor aayega |vah ped ‘bel-patr’ ka tha aur usee ped ke neeche shivaling bhee tha jo sookhe belapatron se dhake hone ke kaaran dikhaee nahin de raha tha |

raat ka pahala prahar beetane se pahale ek hiranee vahaan par paanee peene ke lie aaee |use dekhate hee shikaaree ne apane dhanush par baan saadha |aisa karane mein, usake haath ke dhakke se kuchh patte evan jal kee kuchh boonde neeche bane shivaling par gireen aur anajaane mein hee shikaaree kee pahale prahar kee pooja ho gayee |hiranee ne jab patton kee khadakhadaahat sunee, to ghabara kar oopar kee or dekha aur bhayabheet ho kar, shikaaree se , kaampate hue svar mein bolee- ‘mujhe mat maaro |’ shikaaree ne kaha ki vah aur usaka parivaar bhookha hai isalie vah use nahin chhod sakata |hiranee ne vaada kiya ki vah apane bachchon ko apane svaamee ko saump kar laut aayegee| tab vah usaka shikaar kar le |shikaaree ko usakee baat ka vishvaas nahin ho raha tha |usane phir se shikaaree ko yah kahate hue apanee baat ka bharosa karavaaya ki jaise saty par hee dharatee tikee hai; samudr maryaada mein rahata hai aur jharanon se jal-dhaaraen gira karatee hain vaise hee vah bhee saty bol rahee hai | kroor hone ke baavajood bhee, shikaaree ko us par daya aa gayee aur usane ‘jaldee lautana’ kahakar , us hiranee ko jaane diya |

thodee hee der baad ek aur hiranee vahaan paanee peene aaee, shikaaree saavadhaan ho gaya, teer saandhane laga aur aisa karate hue, usake haath ke dhakke se phir pahale kee hee tarah thoda jal aur kuchh belapatr neeche shivaling par ja gire aur anaayaas hee shikaaree kee doosare prahar kee pooja bhee ho gayee |is hiranee ne bhee bhayabheet ho kar, shikaaree se jeevanadaan kee yaachana kee lekin usake asveekaar kar dene par ,hiranee ne use laut aane ka vachan, yah kahate hue diya ki use gyaat hai ki jo vachan de kar palat jaata hai ,usaka apane jeevan mein sanchit puny nasht ho jaaya karata hai | us shikaaree ne pahale kee tarah, is hiranee ke vachan ka bhee bharosa kar use jaane diya |

ab to vah isee chinta se vyaakul ho raha tha ki un mein se shaayad hee koee hiranee laut ke aaye aur ab usake parivaar ka kya hoga |itane mein hee usane jal kee or aate hue ek hiran ko dekha, use dekhakar shikaaree bada prasann hua ,ab phir dhanush par baan chadhaane se usakee teesare prahar kee pooja bhee svatah hee sampann ho gayee lekin patton ke girane kee aavaaz se vah hiran saavadhaan ho gaya |usane shikaaree ko dekha aur poochha –“ tum kya karana chaahate ho ?” vah bola-“apane kutumb ko bhojan dene ke lie tumhaara vadh karoonga |” vah mrg prasann ho kar kahane laga – “main dhany hoon ki mera yah shareer kisee ke kaam aaega, paropakaar se mera jeevan saphal ho jaayega par krpaya kar abhee mujhe jaane do taaki main apane bachchon ko unakee maata ke haath mein saump kar aur un sabako dheeraj bandha kar yahaan laut aaoon |” shikaaree ka hraday, usake paapapunj nasht ho jaane se ab tak shuddh ho gaya tha isalie vah vinayapoorvak bola –‘ jo-jo yahaan aaye ,sabhee baaten banaakar chale gaye aur abhee tak nahin laute ,yadi tum bhee jhooth bolakar chale jaoge ,to mere parijanon ka kya hoga ?” ab hiran ne yah kahate hue use apane saty bolane ka bharosa dilavaaya ki yadi vah lautakar na aaye; to use vah paap lage jo use laga karata hai jo saamarthy rahate hue bhee doosare ka upakaar nahin karata | shikaaree ne use bhee yah kahakar jaane diya ki ‘sheeghr laut aana |’

raatri ka antim prahar shuroo hote hee us shikaaree ke harsh kee seema na thee kyonki usane un sab hiran-hiraniyon ko apane bachchon sahit ekasaath aate dekh liya tha |unhen dekhate hee usane apane dhanush par baan rakha aur pahale kee hee tarah usakee chauthe prahar kee bhee shiv-pooja sampann ho gayee | ab us shikaaree ke shiv krpa se sabhee paap bhasm ho gaye isalie vah sochane laga-‘oh, ye pashu dhany hain jo gyaanaheen ho kar bhee apane shareer se paropakaar karana chaahate hain lekin dhikkaar hai mere jeevan ko ki main anek prakaar ke kukrtyon se apane parivaar ka paalan karata raha |’ ab usane apana baan rok liya tatha mrgon se kaha kee ve sab dhany hai tatha unhen vaapis jaane diya|usake aisa karane par bhagavaan shankar ne prasann ho kar tatkaal use apane divy svaroop ka darshan karavaaya tatha use sukh-samrddhi ka varadaan dekar “guh’’ naam pradaan kiya |mitron, yahee vah guh tha jisake saath bhagavaan shree raam ne mitrata kee thee |

shiv jee jataon mein gangaajee ko dhaaran karane vaale, sir par chandrama ko sajaane vaale,mastak par tripund tatha teesare netr vaale ,kanth mein kaalapaash [naagaraaj] tatha rudra- kshamaala se sushobhit , haath mein damaroo aur trishool hai jinake aur bhaktagan badee shradda se jinhen shivashankar, shankar, bholenaath, mahaadev, bhagavaan aashutosh, umaapati, gaureeshankar, someshvar, mahaakaal, onkaareshvar, vaidyanaath, neelakanth, tripuraari, sadaashiv tatha any sahastron naamon se sambodhit kar unakee pooja-archana kiya karate hain —– aise bhagavaan shiv evan shiva ham sabake chintan ko sada-sadaiv sakaaraatmak banaayen evan sabakee manokaamanaen pooree karen

Comments

comments