Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Krishna » श्रीकृष्ण की पत्नियों तथा पुत्रों के संक्षेप से नाम निर्देश तथा द्वादश

श्रीकृष्ण की पत्नियों तथा पुत्रों के संक्षेप से नाम निर्देश तथा द्वादश

shreekrshn-kee-patniyon-tatha-putron-ke-sankshep-se-naam-nirdesh-tatha-dvaadash

shreekrshn-kee-patniyon-tatha-putron-ke-sankshep-se-naam-nirdesh-tatha-dvaadash

shreekrshn kee patniyon tatha putron ke sankshep se naam nirdesh tatha dvaadash

shreekrshn kee patniyon tatha putron ke sankshep se naam nirdesh tatha dvaadash

श्रीकृष्ण की पत्नियों तथा पुत्रों के संक्षेप से नाम निर्देश तथा द्वादश – संग्रामों का संक्षिप्त परिचय अग्निदेव कहते हैं – वसिष्ठ ! महर्षि कश्यप वसुदेव के रूप में अवतीर्ण हुए थे और नारियों में श्रेष्ठ अदिति का देवकी के रूप में आविर्भाव हुआ था । वसुदेव और देवकी से भगवान श्रीकृष्ण का प्रादुर्भाव हुआ । वे बड़े तपस्वी थे । धर्मती रश्रा, अधर्मका नाश, देवता आदि का पालन तथा दैत्य आदि का मर्दन – यहीं उनके अवतार का उद्देश्य था । रुक्मिणी सत्यभामा और नग्रजितकुमारी सत्या – ये भगवान की प्रिय रानियां थी । इनमें भी सत्यभामा उनकी आराध्य देवी थी ।इनके सिवा गंधार – राजकुमारी लक्ष्मणा, मित्रविंदा, देवी कालिंदी, जाम्बवती, सुशीला, माद्री, कौसल्या, विजया और जया आदि सोलह हजार देवियां भगवान श्रीकृष्ण की पत्नियां थीं । रुक्मिणी के गर्भ से प्रद्युम्न आदि पुत्र उत्पन्न हुए थे और सत्यभामा ने भीम आदि को जन्म दिया था । जाम्बवती के गर्भ से साम्ब आदि की उत्पत्ति हुई थी । ये तथा और भी बहुत – से श्रीकृष्ण के पुत्र थे । परम बुद्धिमान भगवान के पुत्रों की संख्या एक करोड़ अस्सी हजार के लगभग थी । समस्त यादव भगवान श्रीकृष्ण द्वारा सुरक्षित थे । प्रद्युम्न से विदर्भराजकुमारी रुक्मवती के गर्भ से अनिरुद्ध नामक पुत्र हुआ । यादवों की संक्या कुल मिलाकर तीन करोड़ थी । उस समय साठ लाख दानव मनुष्य – योनि में उत्पन्न हुए थे, जो लोगों को कष्ट पहुंचा रहे थे । उन्हीं का विनाश करने के लिए भगवान का अवतार हुआ था । धर्म – मर्यादा की रक्षा करने के लिए ही भगवान श्रीहरि मनुष्यरूप में प्रकट होते हैं । देवता और असुरों में अपने दायभाग के लिए बारह संग्राम हुए हैं । उनमें पहला ‘नारसिंह’ और ‘वामन’ नाम वाला युद्ध है । तीसरा ‘वाराह – संग्राम’ और चौथा ‘अमृत – मंथन’ नामक युद्ध है । पांचवां ‘तारकामय संग्राम’ और छठा ‘आजीवन’ नामक युद्ध हुआ । सातवां ‘त्रैपुर’ आठवां ‘अंधकवध’ और नवां ‘वृत्रविघातक संग्राम’ है । दसवां ‘जित्’ , ग्यारहवां ‘हालाहल’ और बारहवां ‘घोर कोलाहल’ नामक युद्ध हुआ है । प्राचीन काल में देवपालक भगवान नरसिंह ने हिरण्यकश्यिपु का हृदय विदीर्ण करके प्रह्लाद को दैत्यों का राजा बनाया था । फिर देवासुर – संग्राम के अपसर कश्यप और अदिति से वामनरूप में प्रकट होकर भगवान ने बल और प्रताप में बढ़े – चढ़े हुए राजा बलि को छला और इंद्र को त्रिलोकी का राज्य दे दिया । ‘वाराह’ नामक युद्ध उस समय हुआ था, जबकि भगवान ने वाराह अवतार धारण करके जल में डूबी हुई पृथ्वी का उद्धार किया । उस समय देवाधि देवों ने भगवान की स्तुति की । एक बार देवता और असुरों ने मिलकर मंदराचल को मथानी और नागराज वासुकि को नेती (बंधन की रस्सी) बना समुद्र को मथकर अमृत निकाला. किंतु भगवान ने वह सारा अमृत देवताओं को ही पिला दिया । (उस समय देवताओं और दैत्यों में घोर युद्ध हुआ था ) । तारकामय – संग्राम के अवसर पर भगवान ब्रह्मा ने इंद्र, बृहस्पति, देवताओं तथा दानवों को युद्ध से रोककर देवताओं की रक्षा की और सोमवंश को स्थापित किया । आजीवक – युद्ध में विश्वामित्र, वसिष्ठ और अत्रि आदि ऋषियों ने राग – द्वेषादि दानवों की निवारण करके देवताओं का पालन किया । पृथ्वीरूपी रथ में वेदरूपी घोड़े जोतकर भगवान शंकर उसपर बैठे (और त्रिपुरका नाश करने के लिए चले ) । उस समय देवताओं के रश्रक और दैत्यों का विनाश करने वाले भगवान श्रीहरि ने शंकर जी को शरण दी और बाण बनकर स्वयं ही त्रिपुरका दाह किया । गौरी का अपहरण करने की इच्छा से अंधकासुर ने रुद्रदेव को बहुत कष्ट पहुंचाया – यह जानकर रेवती में अनुराग रखने वाले श्रीहरि ने उस असुर का विनाश किया । (यहीं आठवां संग्राम है ।) देवताओं और असुरों के युद्ध में वृत्र का नाश करने के लिए भगवान विष्णु जल के फेन होकर इंद्र के वज्र में लग गए । इस प्रकार उन्होंने देवराज इंद्र और देवधर्म का पालन करने वाले देवताओं को संकट से बचाया । भगवान श्रीहरि ने परशुराम अवतार धारण कर शाल्य आदि दानवों पर विजय पायी और दुष्ट क्षत्रियों का विनाश करके देवता आदि की रक्षा की । मधुसूदन ने हालाहल विषके रूप में प्रकट देवताओं का भय दूर किया । देवासुर – संग्राम में जो ‘कोलाहल’ नाम का दैत्य था, उसको परास्त करके भगवान विष्णु ने धर्मपालन पूर्वक सम्पूर्ण देवताओं की रक्षा की । राजा, राजकुमार, मुनि और देवता – सभी भगवान के स्वरूप हैं । मैंने यहां जिनको बतलाया और जिनका नाम नहीं लिया, वे सभी श्रीहरि के ही अवतार हैं ।

wish4me to English

shreekrshn kee patniyon tatha putron ke sankshep se naam nirdesh tatha dvaadash – sangraamon ka sankshipt parichay agnidev kahate hain – vasishth ! maharshi kashyap vasudev ke roop mein avateern hue the aur naariyon mein shreshth aditi ka devakee ke roop mein aavirbhaav hua tha . vasudev aur devakee se bhagavaan shreekrshn ka praadurbhaav hua . ve bade tapasvee the . dharmatee rashra, adharmaka naash, devata aadi ka paalan tatha daity aadi ka mardan – yaheen unake avataar ka uddeshy tha . rukminee satyabhaama aur nagrajitakumaaree satya – ye bhagavaan kee priy raaniyaan thee . inamen bhee satyabhaama unakee aaraadhy devee thee .inake siva gandhaar – raajakumaaree lakshmana, mitravinda, devee kaalindee, jaambavatee, susheela, maadree, kausalya, vijaya aur jaya aadi solah hajaar deviyaan bhagavaan shreekrshn kee patniyaan theen . rukminee ke garbh se pradyumn aadi putr utpann hue the aur satyabhaama ne bheem aadi ko janm diya tha . jaambavatee ke garbh se saamb aadi kee utpatti huee thee . ye tatha aur bhee bahut – se shreekrshn ke putr the . param buddhimaan bhagavaan ke putron kee sankhya ek karod assee hajaar ke lagabhag thee . samast yaadav bhagavaan shreekrshn dvaara surakshit the . pradyumn se vidarbharaajakumaaree rukmavatee ke garbh se aniruddh naamak putr hua . yaadavon kee sankya kul milaakar teen karod thee . us samay saath laakh daanav manushy – yoni mein utpann hue the, jo logon ko kasht pahuncha rahe the . unheen ka vinaash karane ke lie bhagavaan ka avataar hua tha . dharm – maryaada kee raksha karane ke lie hee bhagavaan shreehari manushyaroop mein prakat hote hain . devata aur asuron mein apane daayabhaag ke lie baarah sangraam hue hain . unamen pahala ‘naarasinh’ aur ‘vaaman’ naam vaala yuddh hai . teesara ‘vaaraah – sangraam’ aur chautha ‘amrt – manthan’ naamak yuddh hai . paanchavaan ‘taarakaamay sangraam’ aur chhatha ‘aajeevan’ naamak yuddh hua . saatavaan ‘traipur’ aathavaan ‘andhakavadh’ aur navaan ‘vrtravighaatak sangraam’ hai . dasavaan ‘jit’ , gyaarahavaan ‘haalaahal’ aur baarahavaan ‘ghor kolaahal’ naamak yuddh hua hai . praacheen kaal mein devapaalak bhagavaan narasinh ne hiranyakashyipu ka hrday videern karake prahlaad ko daityon ka raaja banaaya tha . phir devaasur – sangraam ke apasar kashyap aur aditi se vaamanaroop mein prakat hokar bhagavaan ne bal aur prataap mein badhe – chadhe hue raaja bali ko chhala aur indr ko trilokee ka raajy de diya . ‘vaaraah’ naamak yuddh us samay hua tha, jabaki bhagavaan ne vaaraah avataar dhaaran karake jal mein doobee huee prthvee ka uddhaar kiya . us samay devaadhi devon ne bhagavaan kee stuti kee . ek baar devata aur asuron ne milakar mandaraachal ko mathaanee aur naagaraaj vaasuki ko netee (bandhan kee rassee) bana samudr ko mathakar amrt nikaala. kintu bhagavaan ne vah saara amrt devataon ko hee pila diya . (us samay devataon aur daityon mein ghor yuddh hua tha ) . taarakaamay – sangraam ke avasar par bhagavaan brahma ne indr, brhaspati, devataon tatha daanavon ko yuddh se rokakar devataon kee raksha kee aur somavansh ko sthaapit kiya . aajeevak – yuddh mein vishvaamitr, vasishth aur atri aadi rshiyon ne raag – dveshaadi daanavon kee nivaaran karake devataon ka paalan kiya . prthveeroopee rath mein vedaroopee ghode jotakar bhagavaan shankar usapar baithe (aur tripuraka naash karane ke lie chale ) . us samay devataon ke rashrak aur daityon ka vinaash karane vaale bhagavaan shreehari ne shankar jee ko sharan dee aur baan banakar svayan hee tripuraka daah kiya . gauree ka apaharan karane kee ichchha se andhakaasur ne rudradev ko bahut kasht pahunchaaya – yah jaanakar revatee mein anuraag rakhane vaale shreehari ne us asur ka vinaash kiya . (yaheen aathavaan sangraam hai .) devataon aur asuron ke yuddh mein vrtr ka naash karane ke lie bhagavaan vishnu jal ke phen hokar indr ke vajr mein lag gae . is prakaar unhonne devaraaj indr aur devadharm ka paalan karane vaale devataon ko sankat se bachaaya . bhagavaan shreehari ne parashuraam avataar dhaaran kar shaaly aadi daanavon par vijay paayee aur dusht kshatriyon ka vinaash karake devata aadi kee raksha kee . madhusoodan ne haalaahal vishake roop mein prakat devataon ka bhay door kiya . devaasur – sangraam mein jo ‘kolaahal’ naam ka daity tha, usako paraast karake bhagavaan vishnu ne dharmapaalan poorvak sampoorn devataon kee raksha kee . raaja, raajakumaar, muni aur devata – sabhee bhagavaan ke svaroop hain . mainne yahaan jinako batalaaya aur jinaka naam nahin liya, ve sabhee shreehari ke hee avataar hain

Comments

comments