Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Jagran pooja » Shri bhuveneshwar jagaran

Shri bhuveneshwar jagaran

shri-bhuveneshwar-jagaran

shri-bhuveneshwar-jagaran

श्री भुवनेश्वरी जयंती | Shri Bhuvaneshwari Jayanti | Bhuvaneshwari Jayanti 2016 | Bhuvaneshwari Jayanti

माँ भुवनेश्वरी शक्ति का आधार हैं तथा प्राणियों का पोषण करने वाली हैं. माँ भुवनेश्वरी जी की जयंती इस वर्ष 13 सितंबर 2016,  के दिन मनाई जाएगी. यही शिव की लीला-विलास सहभागी हैं. इनका स्वरूप कांति पूर्ण एवं सौम्य है. चौदह भुवनों की स्वामिनी मां भुवनेश्वरी दस महाविद्याओं में से एक हैं. शक्ति सृष्टि क्रम में महालक्ष्मी स्वरूपा हैं. देवी के मस्तक पर चंद्रमा शोभायमान है.

तीनों लोकों को तारण करने वाली तथा वर देने की मुद्रा अंकुश पाश और अभय मुद्रा धारण करने वाली माँ भुवनेश्वरी अपने तेज एवं तीन नेत्रों से युक्त हैं. देवी अपने तेज से संपूर्ण सृष्टि को देदीप्यमान करती हैं. मां भुवनेश्वरी की साधना से शक्ति, लक्ष्मी, वैभव और उत्तम विद्याएं प्राप्त होती हैं. इन्हीं के द्वारा ज्ञान तथा वैराग्य की प्राप्ति होती है. इसकी साधना से सम्मान प्राप्ति होती है.

देवी भुवनेश्वरी स्वरुप | Appearance of Goddess Bhuvaneshwari

माता भुवनेश्वरी सृष्टि के ऐश्वयर् की स्वामिनी हैं. चेतनात्मक अनुभूति का आनंद इन्हीं में हैं. विश्वभर की चेतना इनके अंतर्गत आती है. गायत्री उपासना में भुवनेश्वरी जी का भाव निहित है. भुवनेश्वरी माता के एक मुख, चार हाथ हैं चार हाथों में गदा-शक्ति का एवं दंड-व्यवस्था का प्रतीक है. आशीर्वाद मुद्रा प्रजापालन की भावना का प्रतीक है यही सर्वोच्च सत्ता की प्रतीक हैं. विश्व भुवन की जो, ईश्वर हैं, वही भुवनेश्वरी हैं.

इनका वर्ण श्याम तथा गौर वर्ण हैं. इनके नख में ब्रह्माण्ड का दर्शन होता है. माता भुवनेश्वरी सूर्य के समान लाल वर्ण युक्त दिव्य प्रकाश से युक्त हैं. इनके मस्तक पर मुकुट स्वरूप चंद्रमा शोभायमान है. मां के तीन नेत्र हैं तथा चारों भुजाओं में वरद मुद्रा, अंकुश, पाश और अभय मुद्रा है.

माँ भुवनेश्वरी मंत्र | Maa Bhuvaneshwari Mantra

माता के मंत्रों का जाप साधक को माता का आशीर्वाद प्रदान करने में सहायक है. इनके बीज मंत्र को समस्त देवी देवताओं की आराधना में विशेष शक्ति दायक माना जाता हैं इनके मूल मंत्र “ऊं ऎं ह्रीं श्रीं नम:” , मंत्रः “हृं ऊं क्रीं” त्रयक्षरी मंत्र और “ऐं हृं श्रीं ऐं हृं” पंचाक्षरी मंत्र का जाप करने से समस्त सुखों एवं सिद्धियों की प्राप्ति होती है.

श्री भुवनेश्वरी पूजाउपासना | Rituals to worship Shri Bhuvaneshwari

माँ भुवनेश्वरी की साधना के लिए कालरात्रि, ग्रहण, होली, दीपावली, महाशिवरात्रि, कृष्ण पक्ष की अष्टमी अथवा चतुर्दशी शुभ समय माना जाता है. लाल रंग के पुष्प , नैवेद्य ,चंदन, कुंकुम, रुद्राक्ष की माला, लाल रंग इत्यादि के वस्त्र को पूजा अर्चना में उपयोग किया जाना चाहिए. लाल वस्त्र बिछाकर चौकी पर माता का चित्र स्थापित करके पंचोपचार और षोडशोपचार द्वारा पूजन करना चाहिए.

भुवनेश्वरी जयंती महत्व | Significance of Bhuvaneshwari Jayanti

माँ भुवनेश्वरी जयंती के अवसर पर त्रैलोक्य मंगल कवचम्, भुवनेश्वरी कवच,श्री भुवनेश्वरी पंजर स्तोत्रम का पाठ किया जाता है. जप, हवन, तर्पण करने के साथ ही साथ ब्राह्मण और कन्याओं को भोजन कराया जाता है. माता भुवनेश्वरी का श्रद्धापूर्वक पूजन करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. देवी की भक्ति, भक्त को अभय प्रदान करती हैं. जीव जन्म-मरण के चक्र से मुक्ति पाता हे. तथा भगवती की कृपा का पात्र बनता है.

इनहीं की शक्ति से संसार का सारा संचालन होता है. यह समस्त को पूर्ण करती हैं.  इनके बीज मंत्र से ही सृष्टि की रचना हुई है. इन्हें राज राजेश्वरी भी कहा जाता हैं. यह दयालु हैं, सभी का पालन करती हैं, इनकी कृपा से भक्त को उस दिव्य दर्शन की अनुभूति प्राप्त होती है जो मोक्ष प्रदान करे.


 

shree bhuvaneshvaree jayantee | shri bhuvanaishwari jayanti | bhuvanaishwari jayanti 2016 | bhuvanaishwari jayanti

maan bhuvaneshvaree shakti ka aadhaar hain tatha praaniyon ka poshan karane vaalee hain. maan bhuvaneshvaree jee kee jayantee is varsh 13 sitambar 2016, ke din manaee jaegee. yahee shiv kee leela-vilaas sahabhaagee hain. inaka svaroop kaanti poorn evan saumy hai. chaudah bhuvanon kee svaaminee maan bhuvaneshvaree das mahaavidyaon mein se ek hain. shakti srshti kram mein mahaalakshmee svaroopa hain. devee ke mastak par chandrama shobhaayamaan hai.

teenon lokon ko taaran karane vaalee tatha var dene kee mudra ankush paash aur abhay mudra dhaaran karane vaalee maan bhuvaneshvaree apane tej evan teen netron se yukt hain. devee apane tej se sampoorn srshti ko dedeepyamaan karatee hain. maan bhuvaneshvaree kee saadhana se shakti, lakshmee, vaibhav aur uttam vidyaen praapt hotee hain. inheen ke dvaara gyaan tatha vairaagy kee praapti hotee hai. isakee saadhana se sammaan praapti hotee hai.

devee bhuvaneshvaree svarup | appaiaranchai of goddaiss bhuvanaishwari

maata bhuvaneshvaree srshti ke aishvayar kee svaaminee hain. chetanaatmak anubhooti ka aanand inheen mein hain. vishvabhar kee chetana inake antargat aatee hai. gaayatree upaasana mein bhuvaneshvaree jee ka bhaav nihit hai. bhuvaneshvaree maata ke ek mukh, chaar haath hain chaar haathon mein gada-shakti ka evan dand-vyavastha ka prateek hai. aasheervaad mudra prajaapaalan kee bhaavana ka prateek hai yahee sarvochch satta kee prateek hain. vishv bhuvan kee jo, eeshvar hain, vahee bhuvaneshvaree hain.

inaka varn shyaam tatha gaur varn hain. inake nakh mein brahmaand ka darshan hota hai. maata bhuvaneshvaree soory ke samaan laal varn yukt divy prakaash se yukt hain. inake mastak par mukut svaroop chandrama shobhaayamaan hai. maan ke teen netr hain tatha chaaron bhujaon mein varad mudra, ankush, paash aur abhay mudra hai.

maan bhuvaneshvaree mantr | ma bhuvanaishwari mantr

maata ke mantron ka jaap saadhak ko maata ka aasheervaad pradaan karane mein sahaayak hai. inake beej mantr ko samast devee devataon kee aaraadhana mein vishesh shakti daayak maana jaata hain inake mool mantr “oon ain hreen shreen nam:” , mantrah “hrn oon kreen” trayaksharee mantr aur “ain hrn shreen ain hrn” panchaaksharee mantr ka jaap karane se samast sukhon evan siddhiyon kee praapti hotee hai.

shree bhuvaneshvaree pooja-upaasana | rituals to worship shri bhuvanaishwari

maan bhuvaneshvaree kee saadhana ke lie kaalaraatri, grahan, holee, deepaavalee, mahaashivaraatri, krshn paksh kee ashtamee athava chaturdashee shubh samay maana jaata hai. laal rang ke pushp , naivedy ,chandan, kunkum, rudraaksh kee maala, laal rang ityaadi ke vastr ko pooja archana mein upayog kiya jaana chaahie. laal vastr bichhaakar chaukee par maata ka chitr sthaapit karake panchopachaar aur shodashopachaar dvaara poojan karana chaahie.

bhuvaneshvaree jayantee mahatv | significhanchai of bhuvanaishwari jayanti

maan bhuvaneshvaree jayantee ke avasar par trailoky mangal kavacham, bhuvaneshvaree kavach,shree bhuvaneshvaree panjar stotram ka paath kiya jaata hai. jap, havan, tarpan karane ke saath hee saath braahman aur kanyaon ko bhojan karaaya jaata hai. maata bhuvaneshvaree ka shraddhaapoorvak poojan karane se sabhee manokaamanaen poorn hotee hain. devee kee bhakti, bhakt ko abhay pradaan karatee hain. jeev janm-maran ke chakr se mukti paata he. tatha bhagavatee kee krpa ka paatr banata hai.

inaheen kee shakti se sansaar ka saara sanchaalan hota hai. yah samast ko poorn karatee hain. inake beej mantr se hee srshti kee rachana huee hai. inhen raaj raajeshvaree bhee kaha jaata hain. yah dayaalu hain, sabhee ka paalan karatee hain, inakee krpa se bhakt ko us divy darshan kee anubhooti praapt hotee hai jo moksh pradaan kare.

 

Comments

comments