Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » श्रीदुर्गासप्तशती के आदिचरित्र का माहात्म्य

श्रीदुर्गासप्तशती के आदिचरित्र का माहात्म्य

shri-durga-saptshati-ke-adichariter-ka-mahtev

shri-durga-saptshati-ke-adichariter-ka-mahtev

 

Durgaa maa

Durgaa maa

ऋषियों ने पूछा – सूतजी महाराज ! अब आप हमलोगों को यह बतलाने की कृपा करें कि किस स्तोत्र के पाठ करने से वेदों के पाठ करने का फल प्राप्त होता है और पाप विनष्ट होते हैं ।

सूतजी बोले – ऋषियों ! इस विषय में आप एक कथा सुनें । राजा विक्रमादित्य के राज्य में एक ब्राह्मण रहता था । उसकी स्त्री का नाम था कामिनी । एक बार वह ब्राह्मण श्रीदुर्गासप्तशती का पाठ करने के लिए अन्यत्र गया हुआ था । इधर उसकी स्त्री कामिनी जो अपने नाम के अनुरूप कर्म करनेवाली थी, पति के न रहने पर निन्दित कर्म में प्रवृत्त हो गयी । फलत: उसे एक निन्द्य पुत्र उत्पन्न हुआ, जो व्याधकर्मानाम से प्रसिद्ध हुआ । वह भी अपने नाम के अनुरूप कर्म करनेवाला था, धूर्त था तथा वेद पाठ से रहित था । उस ब्राह्मण ने अपनी स्त्री एवं पुत्र के निन्दित कर्म और पापमय आचरण को देखकर उन दोनों को घर से निकाल दिया तथा स्वयं धर्म में तत्पर रहते हुए विंध्याचल पर्वतपर प्रतिदिन चण्डीपाठ करने लगा । जगदंबा के अनुग्रह से अंत में वह जीवान्मुक्त हो गया ।

इधर वे दोनों माता पुत्र पूर्वपरिचित निषाद के पास चले गये और वहीं निवास करने लगे । वहां भी वे दोनों अपने निन्दित आचरण को छोड़ न सके और इन्हीं बुरे कर्मों से धन संग्रह करने लगे । व्याधकर्मा चौर्य कर्म में प्रवृत्त हो गया । ऐसे ही भ्रमण करते हुए दैवयोग से एक दिन वह व्याधकर्मा देवी के मंदिर में पहुंचा । वहां एक श्रेष्ठ ब्राह्मण श्रीदुर्गासप्तशती का पाठ कर रहे थे । दुर्गापाठ के आदिचरित्र (प्रथम चरित्र) के किंचित् पाठमात्र के श्रवण से उसकी दुष्टबुद्धि धर्ममय हो गयी । फलत: धर्मबुद्धिसंपन्न उस व्याधकर्मा ने उस श्रेष्ठ सारा धन उन्हें दे दिया । गुरु की आज्ञा से उसने देवी के मंत्र का जप किया । बीजमंत्र के प्रभाव से उसके शरीर से पापसमूह कृमि के रूप में निकल गये । तीन वर्ष तक इस प्रकार जप करते हुए वह निष्पाप श्रेष्ठ द्विज हो गया । इसी प्रकार मंत्र जप और आदिचरित्र का पाठ करते हुए उसे बारह वर्ष व्यतीत हो गये । तदनन्तर वह द्विज काशी में चला आया । मुनि एवं देवों से पूजित महादेवी अन्नपूर्णा का उसने रोचनादि उपचारों के द्वारा पूजन किया और उनकी इस प्रकार स्तुति –

नित्यानंदकरी पराभयकरी सौन्दर्यरत्नाकरी
निर्धूताखिलपापपावनकरी काशीपुराधीश्वरी ।
नानलोककरी महाभयहारी विश्वंभरी सुंदरी
विद्यां देहि कृपावलंबनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ।।

इस स्तुति का एक सौ आठ बार जपकर ध्यान में नेत्रों को बंदकर वह वहीं सो गया । स्वप्न में उसके सम्मुख अन्नपूर्णा शिवा उपस्थित हुईं और उसे ऋग्वेद का ज्ञान प्रदान कर अन्तर्हिन हो गयीं । बाद में वह बुद्धिमान ब्राह्मण श्रेष्ठ विद्या प्राप्तकर राजा विक्रमादित्य के यज्ञ का आचार्य हुआ । यज्ञ के बाद योग धारणकर हिमालय चला गया ।

हे विप्रो ! मैंने आपलोगों को देवी के पुण्यमय आदिचरित्र के माहात्म्य को बतलाया, जिसके प्रभाव से उस व्याधकर्मा ने ब्राह्मीभाव प्राप्तकर परमोत्तम सिद्धि को प्राप्त कर लिया था ।

To English Wish4me

rshiyon ne poochha – sootajee mahaaraaj ! ab aap hamalogon ko yah batalaane kee krpa karen ki kis stotr ke paath karane se vedon ke paath karane ka phal praapt hota hai aur paap vinasht hote hain .

sootajee bole – rshiyon ! is vishay mein aap ek katha sunen . raaja vikramaadity ke raajy mein ek braahman rahata tha . usakee stree ka naam tha kaaminee . ek baar vah braahman shreedurgaasaptashatee ka paath karane ke lie anyatr gaya hua tha . idhar usakee stree kaaminee jo apane naam ke anuroop karm karanevaalee thee, pati ke na rahane par nindit karm mein pravrtt ho gayee . phalat: use ek nindy putr utpann hua, jo vyaadhakarmaanaam se prasiddh hua . vah bhee apane naam ke anuroop karm karanevaala tha, dhoort tha tatha ved paath se rahit tha . us braahman ne apanee stree evan putr ke nindit karm aur paapamay aacharan ko dekhakar un donon ko ghar se nikaal diya tatha svayan dharm mein tatpar rahate hue vindhyaachal parvatapar pratidin chandeepaath karane laga . jagadamba ke anugrah se ant mein vah jeevaanmukt ho gaya .

idhar ve donon maata putr poorvaparichit nishaad ke paas chale gaye aur vaheen nivaas karane lage . vahaan bhee ve donon apane nindit aacharan ko chhod na sake aur inheen bure karmon se dhan sangrah karane lage . vyaadhakarma chaury karm mein pravrtt ho gaya . aise hee bhraman karate hue daivayog se ek din vah vyaadhakarma devee ke mandir mein pahuncha . vahaan ek shreshth braahman shreedurgaasaptashatee ka paath kar rahe the . durgaapaath ke aadicharitr (pratham charitr) ke kinchit paathamaatr ke shravan se usakee dushtabuddhi dharmamay ho gayee . phalat: dharmabuddhisampann us vyaadhakarma ne us shreshth saara dhan unhen de diya . guru kee aagya se usane devee ke mantr ka jap kiya . beejamantr ke prabhaav se usake shareer se paapasamooh krmi ke roop mein nikal gaye . teen varsh tak is prakaar jap karate hue vah nishpaap shreshth dvij ho gaya . isee prakaar mantr jap aur aadicharitr ka paath karate hue use baarah varsh vyateet ho gaye . tadanantar vah dvij kaashee mein chala aaya . muni evan devon se poojit mahaadevee annapoorna ka usane rochanaadi upachaaron ke dvaara poojan kiya aur unakee is prakaar stuti –

nityaanandakaree paraabhayakaree saundaryaratnaakaree
nirdhootaakhilapaapapaavanakaree kaasheepuraadheeshvaree .
naanalokakaree mahaabhayahaaree vishvambharee sundaree
vidyaan dehi krpaavalambanakaree maataannapoorneshvaree ..

is stuti ka ek sau aath baar japakar dhyaan mein netron ko bandakar vah vaheen so gaya . svapn mein usake sammukh annapoorna shiva upasthit hueen aur use rgved ka gyaan pradaan kar antarhin ho gayeen . baad mein vah buddhimaan braahman shreshth vidya praaptakar raaja vikramaadity ke yagy ka aachaary hua . yagy ke baad yog dhaaranakar himaalay chala gaya .

he vipro ! mainne aapalogon ko devee ke punyamay aadicharitr ke maahaatmy ko batalaaya, jisake prabhaav se us vyaadhakarma ne braahmeebhaav praaptakar paramottam siddhi ko praapt kar liya tha .

Comments

comments