Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

shri-nageshwar-jyotirlinga

shri-nageshwar-jyotirlinga

shri-nageshwar-jyotirlinga

shri-nageshwar-jyotirlinga

श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरात प्रान्त के द्वारकापुरी से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर अवस्थित है। यह स्थान गोमती द्वारका से बेट द्वारका जाते समय रास्ते में पड़ता है। इसके अतिरिक्त नागेश्वर नाम से दो अन्य शिवलिंगों की भी चर्चा ग्रन्थों में है। मतान्तर से इन लिंगों को भी कुछ लोग ‘नागेश्वर ज्योतिर्लिंग (Nageshvara Jyotirling) कहते हैं। इनमें से एक नागेश्वर ज्योतिर्लिंग निजाम हैदराबाद, आन्ध्र प्रदेश में हैं, जबकि दूसरा उत्तराखंड के अल्मोड़ा में ‘योगेश या ‘जागेश्वर शिवलिंग’ के नाम से प्रसिद्ध है। यद्यपि शिव पुराण के अनुसार समुद्र के किनारे द्वारका पुरी के पास स्थित शिवलिंग ही ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रमाणित होता है।

शिवलिंग की कथा (Story of Nageshvara Jyotirling)

शिव पुराण के अनुसार एक धर्मात्मा, सदाचारी वैश्य शिवजी का अनन्य भक्त था, जिसका नाम ‘सुप्रिय’ था। जब वह नौका पर सवार होकर समुद्र के जलमार्ग से कहीं जा रहा था, उस समय ‘दारूक’ नामक एक भयंकर बलशाली राक्षस ने उस पर आक्रमण कर दिया। राक्षस दारूक ने सभी लोगों सहित सुप्रिय का अपहरण कर लिया और अपनी पुरी में ले जाकर बन्दी बना लिया।

चूंकि सुप्रिय शिव जी का अनन्य भक्त था, इसलिए वह हमेशा शिव जी की आराधना में तन्मय रहता था। कारागार में भी उसकी आराधना बन्द नहीं हुई और उसने अपने अन्य साथियों को भी शंकर जी की आराधना के प्रति जागरूक कर दिया। वे सभी शिवभक्त बन गये। जब इसकी सूचना राक्षस दारूक को मिली, तो वह क्रोध में उबल उठा। उसने देखा कि कारागार में सुप्रिय ध्यान लगाए बैठा है, तो उसे डांटते हुए बोला– ‘अरे वैश्य! तू आंखें बन्द करके मेरे विरुद्ध कौन-सा षड्यन्त्र रच रहा है?’

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की प्राचीन कथा (Nageshwar Jyotirling History in Hindi)

वह ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाता हुआ धमका रहा था, लेकिन सुप्रिय पर कुछ भी प्रभाव न पड़ा। घमंडी राक्षस दारूक ने अपने अनुचरों को आदेश दिया कि सुप्रिय को मार डालो। अपनी हत्या के भय से भी सुप्रिय डरा नहीं और वह भयहारी, संकटमोचक भगवान शिव को ही पुकारने में लगा रहा। उस समय अपने भक्त की पुकार पर भगवान शिव ने उसे कारागार में ही दर्शन दिये। कारागार में एक ऊंचे स्थान पर चमकीले सिंहासन पर स्थित भगवान शिव ज्योतिर्लिंग के रूप में उसे दिखाई दिये। शंकर जी ने अपने पाशुपतास्त्र से सभी राक्षसों का नाश किया और भक्तों के कल्याण के लिए वहीँ लिंग रूप में अवस्थित हो गए।

भोलेनाथ के निर्देशानुसार ही उस शिवलिंग का नाम ‘नागेश्वर ज्योतिर्लिंग’ पड़ा। ‘नागेश्वर ज्योतिर्लिंग’ के दर्शन करने के बाद जो मनुष्य उसकी उत्पत्ति और माहात्म्य सम्बन्धी कथा सुनता है, वह भी समस्त पापों से मुक्त हो जाता है तथा सम्पूर्ण भौतिक और आध्यात्मिक सुखों को प्राप्त करता है।

wish4me to English

shree naageshvar jyotirling gujaraat praant ke dvaarakaapuree se lagabhag 25 kilomeetar kee dooree par avasthit hai. yah sthaan gomatee dvaaraka se bet dvaaraka jaate samay raaste mein padata hai. isake atirikt naageshvar naam se do any shivalingon kee bhee charcha granthon mein hai. mataantar se in lingon ko bhee kuchh log ‘naageshvar jyotirling (nagaishvar jyotirling) kahate hain. inamen se ek naageshvar jyotirling nijaam haidaraabaad, aandhr pradesh mein hain, jabaki doosara uttaraakhand ke almoda mein ‘yogesh ya ‘jaageshvar shivaling’ ke naam se prasiddh hai. yadyapi shiv puraan ke anusaar samudr ke kinaare dvaaraka puree ke paas sthit shivaling hee jyotirling ke roop mein pramaanit hota hai.

shivaling kee katha (story of nagaishvar jyotirling)

shiv puraan ke anusaar ek dharmaatma, sadaachaaree vaishy shivajee ka anany bhakt tha, jisaka naam ‘supriy’ tha. jab vah nauka par savaar hokar samudr ke jalamaarg se kaheen ja raha tha, us samay ‘daarook’ naamak ek bhayankar balashaalee raakshas ne us par aakraman kar diya. raakshas daarook ne sabhee logon sahit supriy ka apaharan kar liya aur apanee puree mein le jaakar bandee bana liya.

choonki supriy shiv jee ka anany bhakt tha, isalie vah hamesha shiv jee kee aaraadhana mein tanmay rahata tha. kaaraagaar mein bhee usakee aaraadhana band nahin huee aur usane apane any saathiyon ko bhee shankar jee kee aaraadhana ke prati jaagarook kar diya. ve sabhee shivabhakt ban gaye. jab isakee soochana raakshas daarook ko milee, to vah krodh mein ubal utha. usane dekha ki kaaraagaar mein supriy dhyaan lagae baitha hai, to use daantate hue bola– ‘are vaishy! too aankhen band karake mere viruddh kaun-sa shadyantr rach raha hai?’

naageshvar jyotirling kee praacheen katha (nagaishwar jyotirling history in hindi)

vah zor-zor se chillaata hua dhamaka raha tha, lekin supriy par kuchh bhee prabhaav na pada. ghamandee raakshas daarook ne apane anucharon ko aadesh diya ki supriy ko maar daalo. apanee hatya ke bhay se bhee supriy dara nahin aur vah bhayahaaree, sankatamochak bhagavaan shiv ko hee pukaarane mein laga raha. us samay apane bhakt kee pukaar par bhagavaan shiv ne use kaaraagaar mein hee darshan diye. kaaraagaar mein ek oonche sthaan par chamakeele sinhaasan par sthit bhagavaan shiv jyotirling ke roop mein use dikhaee diye. shankar jee ne apane paashupataastr se sabhee raakshason ka naash kiya aur bhakton ke kalyaan ke lie vaheen ling roop mein avasthit ho gae.

bholenaath ke nirdeshaanusaar hee us shivaling ka naam ‘naageshvar jyotirling’ pada. ‘naageshvar jyotirling’ ke darshan karane ke baad jo manushy usakee utpatti aur maahaatmy sambandhee katha sunata hai, vah bhee samast paapon se mukt ho jaata hai tatha sampoorn bhautik aur aadhyaatmik sukhon ko praapt karata hai.

Comments

comments