Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » सूरज की गर्मी से जलते हुए

सूरज की गर्मी से जलते हुए

sooraj-kee-garmee-se-jalate-hue

sooraj-kee-garmee-se-jalate-hue

sooraj kee garmee se jalate hue

sooraj kee garmee se jalate hue

सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया,
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है, मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम |

भटका हुआ मेरा मन था, कोई मिल ना रहा था सहारा |
लहरों से लगी हुई नाव को जैसे मिल ना रहा हो किनारा |
इस लडखडाती हुई नव को जो किसी ने किनारा दिखाया,
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है, मैं जब से शरण तेरी आया | मेरे राम ||

शीतल बने आग चन्दन के जैसी राघव कृपा हो जो तेरी |
उजयाली पूनम की हो जाये राते जो थी अमावस अँधेरी |
युग युग से प्यासी मुरुभूमि ने जैसे सावन का संदेस पाया |
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है, मैं जब से शरण तेरी आया | मेरे राम ||

जिस राह की मंजिल तेरा मिलन हो उस पर कदम मैं बड़ाऊ |
फूलों मे खारों मे पतझड़ बहारो मे मैं ना कबी डगमगाऊ |
पानी के प्यासे को तकदीर ने जैसे जी भर के अमृत पिलाया |
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है, मैं जब से शरण तेरी आया | मेरे राम ||

wish4me to English

sooraj kee garmee se jalate hue tan ko mil jaaye taruvar kee chhaaya,
aisa hee sukh mere man ko mila hai, main jab se sharan teree aaya, mere raam |

bhataka hua mera man tha, koee mil na raha tha sahaara |
laharon se lagee huee naav ko jaise mil na raha ho kinaara |
is ladakhadaatee huee nav ko jo kisee ne kinaara dikhaaya,
aisa hee sukh mere man ko mila hai, main jab se sharan teree aaya | mere raam ||

sheetal bane aag chandan ke jaisee raaghav krpa ho jo teree |
ujayaalee poonam kee ho jaaye raate jo thee amaavas andheree |
yug yug se pyaasee murubhoomi ne jaise saavan ka sandes paaya |
aisa hee sukh mere man ko mila hai, main jab se sharan teree aaya | mere raam ||

jis raah kee manjil tera milan ho us par kadam main badaoo |
phoolon me khaaron me patajhad bahaaro me main na kabee dagamagaoo |
paanee ke pyaase ko takadeer ne jaise jee bhar ke amrt pilaaya |
aisa hee sukh mere man ko mila hai, main jab se sharan teree aaya | mere raam ||

Comments

comments