Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » प्रेरणा का स्रोत (source of inspiration)

प्रेरणा का स्रोत (source of inspiration)

source-of-inspiration

source-of-inspiration

 

source of inspiration

source of inspiration

दोस्तों ,जिंदगी है तो संघर्ष हैं,तनाव है,काम का pressure है, ख़ुशी है,डर है !लेकिन अच्छी बात यह है कि ये सभी स्थायी नहीं हैं!समय रूपी नदी के प्रवाह में से सब प्रवाहमान हैं!कोई भी परिस्थिति चाहे ख़ुशी की हो या ग़म की, कभी स्थाई नहीं होती ,समय के अविरल प्रवाह में विलीन हो जाती है!

ऐसा अधिकतर होता है की जीवन की यात्रा के दौरान हम अपने आप को कई बार दुःख ,तनाव,चिंता,डर,हताशा,निराशा,भय,रोग इत्यादि के मकडजाल में फंसा हुआ पाते हैं  हम तत्कालिक परिस्थितियों के इतने वशीभूत हो जाते हैं  कि दूर-दूर तक देखने पर भी हमें कोई प्रकाश की किरण मात्र भी दिखाई नहीं देती , दूर से चींटी की तरह महसूस होने वाली परेशानी हमारे नजदीक आते-आते हाथी के जैसा रूप धारण कर लेती है  और हम उसकी विशालता और भयावहता के आगे समर्पण कर परिस्थितियों को अपने ऊपर हावी हो जाने देते हैं,वो परिस्थिति हमारे पूरे वजूद को हिला डालती है ,हमें हताशा,निराशा के भंवर में उलझा जाती है…एक-एक क्षण पहाड़ सा प्रतीत होता है और हममे से ज्यादातर लोग आशा की कोई  किरण ना देख पाने के कारण  हताश होकर परिस्थिति के आगे हथियार डाल देते हैं!

अगर आप किसी अनजान,निर्जन रेगिस्तान मे फँस जाएँ तो उससे निकलने का एक ही उपाए है ,बस -चलते रहें!   अगर आप नदी के बीच जाकर हाथ पैर नहीं चलाएँगे तो निश्चित ही डूब जाएंगे !  जीवन मे कभी ऐसा क्षण भी आता है, जब लगता है की बस अब कुछ भी बाकी नहीं है ,ऐसी परिस्थिति मे अपने  आत्मविश्वास और साहस के साथ सिर्फ डटे रहें क्योंकि-

“हर चीज का हल होता है,आज नहीं तो कल होता है|”

एक बार एक राजा की सेवा से प्रसन्न होकर एक साधू नें उसे एक ताबीज दिया और कहा की राजन  इसे अपने गले मे डाल लो और जिंदगी में कभी ऐसी परिस्थिति आये की जब तुम्हे लगे की बस अब तो सब ख़तम होने वाला है ,परेशानी के भंवर मे अपने को फंसा पाओ ,कोई प्रकाश की किरण नजर ना आ रही हो ,हर तरफ निराशा और हताशा हो तब तुम इस ताबीज को खोल कर इसमें रखे कागज़ को पढ़ना ,उससे पहले नहीं!

राजा ने वह ताबीज अपने गले मे पहन लिया !एक बार राजा अपने सैनिकों के साथ शिकार करने घने जंगल मे गया!  एक शेर का पीछा करते करते राजा अपने सैनिकों से अलग हो गया और दुश्मन राजा की सीमा मे प्रवेश कर गया,घना जंगल और सांझ का समय ,  तभी कुछ दुश्मन सैनिकों के घोड़ों की टापों की आवाज राजा को आई और उसने भी अपने घोड़े को एड लगाई,  राजा आगे आगे दुश्मन सैनिक पीछे पीछे!   बहुत दूर तक भागने पर भी राजा उन सैनिकों से पीछा नहीं छुडा पाया !  भूख  प्यास से बेहाल राजा को तभी घने पेड़ों के बीच मे एक गुफा सी दिखी ,उसने तुरंत स्वयं और घोड़े को उस गुफा की आड़ मे छुपा लिया !  और सांस रोक कर बैठ गया , दुश्मन के घोड़ों के पैरों की आवाज धीरे धीरे पास आने लगी !  दुश्मनों से घिरे हुए अकेले राजा को अपना अंत नजर आने लगा ,उसे लगा की बस कुछ ही क्षणों में दुश्मन उसे पकड़ कर मौत के घाट उतार देंगे !  वो जिंदगी से निराश हो ही गया था , की उसका हाथ अपने ताबीज पर गया और उसे साधू की बात याद आ गई !उसने तुरंत ताबीज को खोल कर कागज को बाहर निकाला और पढ़ा !   उस पर्ची पर लिखा था —“यह भी कट जाएगा

राजा को अचानक  ही जैसे घोर अन्धकार मे एक  ज्योति की किरण दिखी , डूबते को जैसे कोई सहारा मिला !  उसे अचानक अपनी आत्मा मे एक अकथनीय शान्ति का अनुभव हुआ !  उसे लगा की सचमुच यह भयावह समय भी कट ही जाएगा ,फिर मे क्यों चिंतित होऊं !  अपने प्रभु और अपने पर विश्वासरख उसने स्वयं से कहा की हाँ ,यह भी कट जाएगा !

और हुआ भी यही ,दुश्मन के घोड़ों के पैरों की आवाज पास आते आते दूर जाने लगी ,कुछ समय बाद वहां शांति छा गई !  राजा रात मे गुफा से निकला और किसी तरह अपने राज्य मे वापस आ गया !

दोस्तों,यह सिर्फ किसी राजा की कहानी नहीं है यह हम सब की कहानी है !हम सभी परिस्थिति,काम ,तनाव के दवाव में इतने जकड जाते हैं की हमे कुछ सूझता नहीं है ,हमारा डर हम पर हावी होने लगता है ,कोई रास्ता ,समाधान दूर दूर तक नजर नहीं आता ,लगने लगता है की बस, अब सब ख़तम ,है ना?

जब ऐसा हो तो २ मिनट शांति से बेठिये ,थोड़ी गहरी गहरी साँसे लीजिये !  अपने आराध्य को याद कीजिये और स्वयं से जोर से कहिये –यह भी कट जाएगा !   आप देखिएगा एकदम से जादू सा महसूस होगा , और आप उस परिस्थिति से उबरने की शक्ति अपने अन्दर महसूस करेंगे !  आजमाया हुआ है ! बहुत कारगर है !

wish4me to English

doston ,jindagee hai to sngharṣ hain,tanaav hai,kaam kaa pressure hai, khaushee hai,ḍaar hai ! Lekin achchhee baat yah hai ki ye sabhee sthaayee naheen hain! Samay roopee nadee ke pravaah men se sab pravaahamaan hain! Koii bhee paristhiti chaahe khaushee kee ho yaa gam kee, kabhee sthaa_ii naheen hotee ,samay ke aviral pravaah men vileen ho jaatee hai! Aisaa adhikatar hotaa hai kee jeevan kee yaatraa ke dauraan ham apane aap ko ka_ii baar duahkh ,tanaav,chintaa,ḍaar,hataashaa,niraashaa,bhay,rog ityaadi ke makaḍaajaal men fnsaa huaa paate hain ham tatkaalik paristhitiyon ke itane vasheebhoot ho jaate hain ki door-door tak dekhane par bhee hamen koii prakaash kee kiraṇa maatr bhee dikhaa_ii naheen detee , door se cheenṭee kee tarah mahasoos hone vaalee pareshaanee hamaare najadeek aate-aate haathee ke jaisaa roop dhaaraṇa kar letee hai aur ham usakee vishaalataa aur bhayaavahataa ke aage samarpaṇa kar paristhitiyon ko apane oopar haavee ho jaane dete hain,vo paristhiti hamaare poore vajood ko hilaa ḍaalatee hai ,hamen hataashaa,niraashaa ke bhnvar men ulajhaa jaatee hai…ek-ek kṣaṇa pahaad saa prateet hotaa hai aur hamame se jyaadaatar log aashaa kee koii kiraṇa naa dekh paane ke kaaraṇa hataash hokar paristhiti ke aage hathiyaar ḍaal dete hain! Agar aap kisee anajaan,nirjan registaan me fns jaa_en to usase nikalane kaa ek hee upaa_e hai ,bas -chalate rahen! Agar aap nadee ke beech jaakar haath pair naheen chalaa_enge to nishchit hee ḍaoob jaa_enge ! Jeevan me kabhee aisaa kṣaṇa bhee aataa hai, jab lagataa hai kee bas ab kuchh bhee baakee naheen hai ,aisee paristhiti me apane aatmavishvaas aur saahas ke saath sirf ḍaaṭe rahen kyonki-

“har cheej kaa hal hotaa hai,aaj naheen to kal hotaa hai.”

ek baar ek raajaa kee sevaa se prasann hokar ek saadhoo nen use ek taabeej diyaa aur kahaa kee raajan ise apane gale me ḍaal lo aur jindagee men kabhee aisee paristhiti aaye kee jab tumhe lage kee bas ab to sab khatam hone vaalaa hai ,pareshaanee ke bhnvar me apane ko fnsaa paao ,koii prakaash kee kiraṇa najar naa aa rahee ho ,har taraf niraashaa aur hataashaa ho tab tum is taabeej ko khol kar isamen rakhe kaagaza ko paḍhxnaa ,usase pahale naheen! Raajaa ne vah taabeej apane gale me pahan liyaa ! Ek baar raajaa apane sainikon ke saath shikaar karane ghane jngal me gayaa! Ek sher kaa peechhaa karate karate raajaa apane sainikon se alag ho gayaa aur dushman raajaa kee seemaa me pravesh kar gayaa,ghanaa jngal aur saanjh kaa samay , tabhee kuchh dushman sainikon ke ghodon kee ṭaapon kee aavaaj raajaa ko aaii aur usane bhee apane ghode ko eḍa lagaaii, raajaa aage aage dushman sainik peechhe peechhe! Bahut door tak bhaagane par bhee raajaa un sainikon se peechhaa naheen chhuḍaa paayaa ! Bhookh pyaas se behaal raajaa ko tabhee ghane pedon ke beech me ek gufaa see dikhee ,usane turnt svayn aur ghode ko us gufaa kee aad me chhupaa liyaa ! Aur saans rok kar baiṭh gayaa , dushman ke ghodon ke pairon kee aavaaj dheere dheere paas aane lagee ! Dushmanon se ghire hue akele raajaa ko apanaa ant najar aane lagaa ,use lagaa kee bas kuchh hee kṣaṇaon men dushman use pakad kar maut ke ghaaṭ utaar denge ! Vo jindagee se niraash ho hee gayaa thaa , kee usakaa haath apane taabeej par gayaa aur use saadhoo kee baat yaad aa ga_ii ! Usane turnt taabeej ko khol kar kaagaj ko baahar nikaalaa aur paḍhxaa ! Us parchee par likhaa thaa —“yah bhee kaṭ jaa_egaa “

raajaa ko achaanak hee jaise ghor andhakaar me ek jyoti kee kiraṇa dikhee , ḍaoobate ko jaise koii sahaaraa milaa ! Use achaanak apanee aatmaa me ek akathaneey shaanti kaa anubhav huaa ! Use lagaa kee sachamuch yah bhayaavah samay bhee kaṭ hee jaa_egaa ,fir me kyon chintit hooon ! Apane prabhu aur apane par vishvaasarakh usane svayn se kahaa kee haan ,yah bhee kaṭ jaaegaa ! Aur huaa bhee yahee ,dushman ke ghodon ke pairon kee aavaaj paas aate aate door jaane lagee ,kuchh samay baad vahaan shaanti chhaa ga_ii ! Raajaa raat me gufaa se nikalaa aur kisee tarah apane raajy me vaapas aa gayaa ! Doston,yah sirf kisee raajaa kee kahaanee naheen hai yah ham sab kee kahaanee hai ! Ham sabhee paristhiti,kaam ,tanaav ke davaav men itane jakaḍa jaate hain kee hame kuchh soojhataa naheen hai ,hamaaraa ḍaar ham par haavee hone lagataa hai ,koii raastaa ,samaadhaan door door tak najar naheen aataa ,lagane lagataa hai kee bas, ab sab khatam ,hai naa? Jab aisaa ho to 2 minaṭ shaanti se beṭhiye ,thodee gaharee gaharee saanse leejiye ! Apane aaraadhy ko yaad keejiye aur svayn se jor se kahiye –yah bhee kaṭ jaaegaa ! Aap dekhiegaa ekadam se jaadoo saa mahasoos hogaa , aur aap us paristhiti se ubarane kee shakti apane andar mahasoos karenge ! Aajamaayaa huaa hai ! Bahut kaaragar hai !

Comments

comments