Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » अमरनाथ धाम की कथा (story of Amarnath shrine)

अमरनाथ धाम की कथा (story of Amarnath shrine)

story-of-amarnath-shrine

story-of-amarnath-shrine

amaranaath dhaam kee katha

amaranaath dhaam kee katha

माता पार्वती शिव के समान ही आदि शक्ति हैं. सृष्टि के आरम्भ से लेकर अंत तक की सभी कथाएं इन्हें ज्ञात है. एक समय की बात है देवी पार्वती के मन में अमर होने की कथा जानने की जिज्ञासा हुई. पार्वती ने भगवान शंकर से अमर होने की कथा सुनाने के लिए कहा. भगवान शंकर पार्वती की बात सुनकर चौंक उठे और इस बात को टालने की कोशिश करने लगे. देवी पार्वती जब हठ करने लगीं तब शिव जी ने उन्हें समझाया कि यह गुप्त रहस्य है जिसे त्रिदेवों के अतिरिक्त कोई नहीं जानता.
यह ऐसी गुप्त कथा है जिसे कभी किसी ने अन्य किसी से नहीं कहा है. इस कथा को जो भी सुन लेगा वह अमर हो जाएगा. देवतागण भी इस कथा को नहीं जानते हैं अत: पुण्य क्षीण होने के बाद उन्हें अपना पद रिक्त कर देना पड़ता है और उन्हें पुन: जन्म लेकर पुण्य संचित करना पड़ता है. ऐसे में तुमसे इस कथा को कहने में मै असमर्थ हूं. जब पार्वती शिव के समझाने के बावजूद नहीं मानी तब शिव जी ने पार्वती से अमर होने की कथा सुनाने का आश्वासन दिया.
कथा सुनाने के लिए शिव ऐसे स्थान को ढूंढने लगे जहां कोई जीव-जन्तु न हो. इसके लिए उन्हें श्रीनगर स्थित अमरनाथ की गुफा उपयुक्त लगी. पार्वती जी को कथा सुनाने के लिए इस गुफा में लाते समय शिव जी चंदनबाड़ी नामक स्थान पर माथे से चंदन उतारा.  पिस्सू टॉप नामक स्थान पर पिस्सूओं को. अनन्त नाग में नागों को एवं शेषनाग नामक स्थान पर शेषनाग को ठहरने के लिए कहा. इसके बाद शिव और पार्वती अमारनाथ की गुफा में प्रवेश कर गये.
इस गुफा में शिव माता पार्वती को अमर होने की कथा सुनाने लगे. कथा सुनते-सुनते देवी पार्वती को नींद आ गई और वह सो गईं जिसका शिव जी को पता नहीं चला. शिव अमर होने की कथा सुनाते रहे. इस समय दो सफेद कबूतर शिव की कथा सुन रहे थे और बीच-बीच में गूं-गूं की आवाज निकाल रहे थे. शिव को लग रहा था कि पार्वती कथा सुन रही हैं और बीच-बीच में हुंकार भर रहीं हैं. इस तरह दोनों कबूतरों ने अमर होने की पूरी कथा सुन ली.
कथा समाप्त होने पर शिव का ध्यान पार्वती की ओर गया जो सो रही थीं. शिव जी ने सोचा कि पार्वती सो रही हैं तब इसे सुन कौन रहा था. शिव की दृष्टि तब कबूतरों के ऊपर गया. शिव कबूतरों पर क्रोधित हुए और उन्हें मारने के लिए तत्पर हुए. इस पर कबूतरों ने शिव जी कहा कि हे प्रभु हमने आपसे अमर होने की कथा सुनी है यदि आप हमें मार देंगे तो अमर होने की यह कथा झूठी हो जाएगी. इस पर शिव जी ने कबूतरों को जीवित छोड़ दिया और उन्हें आशीर्वाद दिया कि तुम सदैव इस स्थान पर शिव पार्वती के प्रतीक चिन्ह के रूप निवास करोगो. माना जाता है कि आज भी इन दोनों कबूतरों का दर्शन भक्तों को यहां प्राप्त होता है.

wish4me to English

maata paarvatee shiv ke samaan hee aadi shakti hain. srshti ke aarambh se lekar ant tak kee sabhee kathaen inhen gyaat hai. ek samay kee baat hai devee paarvatee ke man mein amar hone kee katha jaanane kee jigyaasa huee. paarvatee ne bhagavaan shankar se amar hone kee katha sunaane ke lie kaha. bhagavaan shankar paarvatee kee baat sunakar chaunk uthe aur is baat ko taalane kee koshish karane lage. devee paarvatee jab hath karane lageen tab shiv jee ne unhen samajhaaya ki yah gupt rahasy hai jise tridevon ke atirikt koee nahin jaanata.
yah aisee gupt katha hai jise kabhee kisee ne any kisee se nahin kaha hai. is katha ko jo bhee sun lega vah amar ho jaega. devataagan bhee is katha ko nahin jaanate hain at: puny ksheen hone ke baad unhen apana pad rikt kar dena padata hai aur unhen pun: janm lekar puny sanchit karana padata hai. aise mein tumase is katha ko kahane mein mai asamarth hoon. jab paarvatee shiv ke samajhaane ke baavajood nahin maanee tab shiv jee ne paarvatee se amar hone kee katha sunaane ka aashvaasan diya.
katha sunaane ke lie shiv aise sthaan ko dhoondhane lage jahaan koee jeev-jantu na ho. isake lie unhen shreenagar sthit amaranaath kee gupha upayukt lagee. paarvatee jee ko katha sunaane ke lie is gupha mein laate samay shiv jee chandanabaadee naamak sthaan par maathe se chandan utaara. pissoo top naamak sthaan par pissooon ko. anant naag mein naagon ko evan sheshanaag naamak sthaan par sheshanaag ko thaharane ke lie kaha. isake baad shiv aur paarvatee amaaranaath kee gupha mein pravesh kar gaye.
is gupha mein shiv maata paarvatee ko amar hone kee katha sunaane lage. katha sunate-sunate devee paarvatee ko neend aa gaee aur vah so gaeen jisaka shiv jee ko pata nahin chala. shiv amar hone kee katha sunaate rahe. is samay do saphed kabootar shiv kee katha sun rahe the aur beech-beech mein goon-goon kee aavaaj nikaal rahe the. shiv ko lag raha tha ki paarvatee katha sun rahee hain aur beech-beech mein hunkaar bhar raheen hain. is tarah donon kabootaron ne amar hone kee pooree katha sun lee.
katha samaapt hone par shiv ka dhyaan paarvatee kee or gaya jo so rahee theen. shiv jee ne socha ki paarvatee so rahee hain tab ise sun kaun raha tha. shiv kee drshti tab kabootaron ke oopar gaya. shiv kabootaron par krodhit hue aur unhen maarane ke lie tatpar hue. is par kabootaron ne shiv jee kaha ki he prabhu hamane aapase amar hone kee katha sunee hai yadi aap hamen maar denge to amar hone kee yah katha jhoothee ho jaegee. is par shiv jee ne kabootaron ko jeevit chhod diya aur unhen aasheervaad diya ki tum sadaiv is sthaan par shiv paarvatee ke prateek chinh ke roop nivaas karogo. maana jaata hai ki aaj bhee in donon kabootaron ka darshan bhakton ko yahaan praapt hota hai

Comments

comments