Sunday , 18 February 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Positive and Negative » ईमानदारी पर कहानी

ईमानदारी पर कहानी

story-on-honesty

story-on-honesty

रामू काका अपनी ईमानदारी और नेक स्वाभाव के लिए पूरे गाँव में प्रसिद्द थे। एक बार उन्होंने अपने कुछ मित्रों को खाने पर आमंत्रित किया। वे अक्सर इस तरह इकठ्ठा हुआ करते और साथ मिलकर अपनी पसंद का भोजन बनाते।

आज भी सभी मित्र बड़े उत्साह से एक दुसरे से मिले और बातों का दौर चलने लगा।
जब बात खाने को लेकर शुरू हुई तभी काका को एहसास हुआ कि नमक तो सुबह ही ख़त्म हो गया था।
काका नमक लाने के लिए उठे फिर कुछ सोच कर अपने बेटे को बुलाया और हाथ में कुछ पैसे रखते हुए बोले, “ बेटा, जा जरा बाज़ार से एक पुड़िया नमक लेता आ..”

“जी पिताजी।”, बेटा बोला और आगे बढ़ने लगा।

“सुन”, काका बोले, “ ये ध्यान रखना कि नमक सही दाम पे खरीदना, ना अधिक पैसे देना और ना कम।”
बेटे को आश्चर्य हुआ, उसने पूछा, “पिताजी, अधिक दाम में ना लाना तो समझ में आता है, लेकिन अगर कुह मोल भाव करके मैं कम पैसे में नामक लाता हूँ और चार पैसे बचाता हूँ तो इसमें हर्ज़ ही क्या है?”

“नहीं बेटा,” काका बोले, “ ऐसा करना हमारे गाँव को बर्वाद कर सकता है! जा उचित दाम पे नामक लेकर आ।”

काका के मित्र भी ये सारी बात सुन रहे थे, किसी ने बोला, “ भाई, तेरी ये बात समझ ना आई, कम दाम पे नमक लेने से अपना गाँव कैसे बर्वाद हो जाएगा?”,

काका बोले, “ सोचो कोई नमक कम दाम पे क्यों बेचेगा, तभी न जब उसे पैसों की सख्त ज़रूरत हो। और जो कोई भी उसकी इस स्थिति का फायदा उठाता है वो उस मजदूर का अपमान करता है जिसने पसीना बहा कर..कड़ी मेहनत से नमक बनाया होगा”

“लेकिन इतनी सी बात से अपना गाँव कैसे बर्वाद हो जाएगा?”, मित्रों ने हँसते हुए कहा।
देखो मित्रों, शुरू में समाज के अन्दर कोई बेईमानी नहीं थी, लेकिन धीरे-धीरे हम लोग इसमें एक-एक चुटकी बेईमानी डालते गए और सोचा कि इतने से क्या होगा, पर खुद ही देख लो हम कहाँ पहुँच गए हैं… आज हम एक चुटकी ईमानदारी के लिए तरस रहे हैं!”

Friends, Paulo Coelho की पुस्तक ‘द डेविल एंड मिस प्रिम’ एक एक अंश से प्रेरित ये कहानी हमें छोटे-छोटे मसलों में भी पूरी तरह ईमानदार होने की सीख देती है और हमें दूसरों के प्रति संवेदनशील होना सिखाती है।

अपनी day-today life में हम बहुत बार ऐसा व्यवहार करते हैं जो हम भी अन्दर से जानते हैं कि वो गलत है। पर फिर हम ये सोच कर कि “इससे क्या होगा!”, अपने आप को समझा लेते हैं और गलत काम कर बैठते हैं और इस तरह society में अपने हिस्से की बेईमानी डाल देते हैं। चलिए, हम सब प्रयास करें कि ईमानदारी की बड़ी-बड़ी मिसाल कायम करने से पहले अपनी रोज-मर्रा की ज़िन्दगी में ईमानदारी घोलें और एक चुटकी बेईमानी को एक चुटकी ईमानदारी से ख़त्म करें!

Translate Into Hindi To English

Ramu Kaka was famous for his honesty and noble nature in the whole village. Once he invited some of his friends to dinner. They often gather in such a way and together they make a meal of their choice.

Even today, all the friends met each other with great enthusiasm and began to walk around.
When things began to eat, Kaka realized that salt had ended in the morning itself.
Kaka got up to bring salt and then called her son thinking and keeping some money in his hand, “Son, go, take a bowl of salt from the market.”

“Jee dad.”, Son spoke and started moving forward.

“Listen”, Kaka says, “Keep in mind that salt is not the right price to buy, neither does it pay more or less.”
The son was surprised, he asked, “Father, do not bring it at a higher price, but if I earn less money and bring four paise and save four money, then what is Harz in it?”

“No son,” Kaka said, “doing so can make our village a boon! Let’s go by the fair price pay. ”

Kaka’s friends were also listening to all these things, someone said, “Brother, you did not understand this thing, by taking less salt, how will your village become breadwinner?”,

Kaka said, “Imagine why someone will sell a salt at a low price, not only when he is in dire need of money. And whoever takes advantage of this situation, he insults the worker who sheds sweat … made salt from hard work ”

“But how will your village be barbowed with such a thing?”, Friends laughed and said.
Look friends, initially there was no dishonesty inside the society, but gradually we put a pinch in foul in it and thought what would happen to this, but see for yourself where we have reached … today we get a pinch Yearn for honesty! ”

Friends, Paulo Coelho’s book “The Devil and Miss Prim”, inspired by a fraction, this story teaches us to be completely honest in small issues and teaches us to be sensitive to others.

In our day-today life, we often behave like we know from inside that it is wrong. But then we think that “what will happen to it!”, Understand yourself and do wrong things and thus put the dishonesty of their share in society. Let us all strive to establish honesty in the life of your daily life before making a big precedent of honesty and end up with a pinch of honesty, a pinch of dishonesty!

Comments

comments