Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » सुबह करीब है तारो का हाल क्या होगा

सुबह करीब है तारो का हाल क्या होगा

subha-kabir-hai-taro-ka-hal-kya-hoga

subha-kabir-hai-taro-ka-hal-kya-hoga

Subha kabir Hai Taro Ka Hal Kya Hoga Bhajan

हो सुबह (शहर)करीब है तारो का हाल क्या होगा
अब इंतज़ार के मारो का हाल क्या होगा
सुबह करीब है तारो का हाल क्या होगा

हो सुबह (शहर)करीब है तारो का हाल क्या होगा
अब इंतज़ार के मारो का हाल क्या होगा
सुबह करीब है तारो का हाल क्या होगा

तेरी नियगह ने ओ प्यारे कभी ये सोचा है
तेरी निगाह के मरो का हाल क्या होगा

जब से उन आँखों से आँखें मिली
हो गई है तभी ये बावरी आँखें

नही धीर धरे आती व्याकुल है
उतज़ाति है ये कुल कवरी आँखें
कुच्छ जादू भारी कुच्छ भाव भारी
उस सवरे की है सवारी आँखें

फिर से वो रूप दिखड़े कोई
हो रही है बड़ी उतावली आँखें

तेरी नियगह ने प्यारे कभी ये सोचा है
तेरी निगाह के मरो का हाल क्या होगा
सुबह करीब है तारो का हाल क्या होगा

आइए मेरे परदा नाशी अब तो ये हटा परदा
अब तो ये हटा परदा अब तो ये हटा परदा
आइए मेरे परदा नाशी अब तो ये हटा परदा

तेरे दर्शन के तेरे दर्शन के
तेरे दर्शन के दीवानो का हाल क्या होगा
सुबह करीब है तारो का हाल क्या होगा

अब इंतज़ार के मारो का हाल क्या होगा
सुबह करीब है तारो का हाल क्या होगा

[To English wish4me]

Ho Subah (shahar)karib hai taaro ka haal kya hoga
Ab intzaar ke maaro ka haal kya hoga
Subah karib hai taaro ka haal kya hoga

Ho Subah (shahar)karib hai taaro ka haal kya hoga
Ab intzaar ke maaro ka haal kya hoga
Subah karib hai taaro ka haal kya hoga

Teri niagah ne o pyare kabhi ye socha hai
Teri nigah ke maro ka haal kya hoga

Jab se un ankhon se ankhen mili
Ho gai hai tabhi ye bavari ankhen

Nahi dheer dhare aati vyakul hai
Uthjati hai ye kul kawari ankhen
Kuchh jadu bhari kuchh bhav bhari
Us savare ki hai savari ankhen

Phir se vo roop dikhade koi
Ho rahi hai badi utavali ankhen

Teri niagah ne pyare kabhi ye socha hai
Teri nigah ke maro ka haal kya hoga
Subah karib hai taaro ka haal kya hoga

Aie mere parda nashi ab to ye hata parda
Ab to ye hata parda ab to ye hata parda
Aie mere parda nashi ab to ye hata parda

Tere darshan ke tere darshan ke
Tere darshan ke diwano ka haal kya hoga
Subah karib hai taaro ka haal kya hoga

Ab intzaar ke maaro ka haal kya hoga
Subah karib hai taaro ka haal kya hoga

 wish4me

Comments

comments