Wednesday , 20 September 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Mahabharat » स्वार्थरहित होकर किया गया दान ही श्रेष्ठ

स्वार्थरहित होकर किया गया दान ही श्रेष्ठ

svaarth-rahit-hokar-kiya-gaya-daan-hee-shreshth

svaarth-rahit-hokar-kiya-gaya-daan-hee-shreshth

karn

karn

महाभारत में एक कथा है, जो सच्ची दानवीरता की मिसाल है। एक बार की बात है कुरु युवराज दुर्योधन के महल के द्वार पर एक भिक्षुक आया और दुर्योधन से बोला- राजन, मैं अपनी वृद्धावस्था से बहुत परेशान हूं। चारों धाम की यात्रा करने का प्रबल इच्छुक हुं, जो युवावस्था के ऊर्जावान शरीर के बिना संभव नहीं है। इसलिए आप यदि मुझे देने की इच्छा रखते हैं तो अपना यौवन मुझे दान कर दीजिए। दुर्योधन ने कहा-महाराज, मेरे यौवने पर मेरी पत्नी का अधिकार है। आपकी अनुमति हो तो उससे पूछ आऊं? भिक्षुक ने सहमति दे दी।
दुर्योधन अंत: पुर में गया और पत्नी को भिक्षुक की इच्छा बताई। उसकी पत्नी ने स्पष्ट रुप से मना कर दिया। दुर्योधन उदास मुख लेकर बाहर लौटा, तो भिक्षुक उसके बगैर बोले ही उसकी पत्नी का नकारात्मक जवाब समझ कर चला गया। फिर वह महादानी कर्ण के पास पहुंचा। कर्ण से भी उसने वही मांगा। कर्ण ने उससे प्रतीक्षा करने के लिए कहा और अपनी पत्नी से अनुमति मांगने अंत: पुर में गया। यथा भर्ता तथा भार्या- कर्ण की पत्नी ने सहर्ष भिक्षुक को यौवन- दान कर देने को कहा। कर्ण ने बाहर आकर यौवन दान की घोषणा कर दी। तभी भिक्षुक अदृश्य हो गया और उसके स्थान पर भगवान विष्णु वहां प्रकट हुए जो दरअसल कर्ण व कर्णपत्नी की परीक्षा लेने आए थे। दोनों ही इस परीक्षा में खरे उतरे। भगवान विष्णु ने गदगद होकर दोनों को मंगल आशीष दिए।
दरअसल वास्तव में दान वही श्रेष्ठ है जो नि:स्वार्थ भाव से लेने वाले की इच्छा और आवश्यकता के अनुरुप प्रसन्न तथा उदार मन से किया जाए। इस तरह से किया गया दान ही पुण्य का मीठा फल देता है। इस तरह से किया गया दान ही पुण्य का मीठा फल देता है। इस तरह दानी मनुष्य को सांसारिक माया- मोह से मुक्त हो मोक्ष की प्राप्ति होती है।
शिक्षा- वास्तव में दान वही श्रेष्ठ है जो नि:स्वार्थ भाव से लेने वाली की इच्छा और आवश्यकता के अनुरुप प्रसन्न तथा उदार मन से किया जाए।

To English in Wish4me

mahaabhaarat mein ek katha hai, jo sachchee daanaveerata kee misaal hai. ek baar kee baat hai kuru yuvaraaj duryodhan ke mahal ke dvaar par ek bhikshuk aaya aur duryodhan se bola- raajan, main apanee vrddhaavastha se bahut pareshaan hoon. chaaron dhaam kee yaatra karane ka prabal ichchhuk hun, jo yuvaavastha ke oorjaavaan shareer ke bina sambhav nahin hai. isalie aap yadi mujhe dene kee ichchha rakhate hain to apana yauvan mujhe daan kar deejie. duryodhan ne kaha-mahaaraaj, mere yauvane par meree patnee ka adhikaar hai. aapakee anumati ho to usase poochh aaoon? bhikshuk ne sahamati de dee.
duryodhan ant: pur mein gaya aur patnee ko bhikshuk kee ichchha bataee. usakee patnee ne spasht rup se mana kar diya. duryodhan udaas mukh lekar baahar lauta, to bhikshuk usake bagair bole hee usakee patnee ka nakaaraatmak javaab samajh kar chala gaya. phir vah mahaadaanee karn ke paas pahuncha. karn se bhee usane vahee maanga. karn ne usase prateeksha karane ke lie kaha aur apanee patnee se anumati maangane ant: pur mein gaya. yatha bharta tatha bhaarya- karn kee patnee ne saharsh bhikshuk ko yauvan- daan kar dene ko kaha. karn ne baahar aakar yauvan daan kee ghoshana kar dee. tabhee bhikshuk adrshy ho gaya aur usake sthaan par bhagavaan vishnu vahaan prakat hue jo darasal karn va karnapatnee kee pareeksha lene aae the. donon hee is pareeksha mein khare utare. bhagavaan vishnu ne gadagad hokar donon ko mangal aasheesh die.
darasal vaastav mein daan vahee shreshth hai jo ni:svaarth bhaav se lene vaale kee ichchha aur aavashyakata ke anurup prasann tatha udaar man se kiya jae. is tarah se kiya gaya daan hee puny ka meetha phal deta hai. is tarah se kiya gaya daan hee puny ka meetha phal deta hai. is tarah daanee manushy ko saansaarik maaya- moh se mukt ho moksh kee praapti hotee hai.
shiksha- vaastav mein daan vahee shreshth hai jo ni:svaarth bhaav se lene vaalee kee ichchha aur aavashyakata ke anurup prasann tatha udaar man se kiya jae.

 

Comments

comments