Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » स्वातंत्र्य गर्व उनका जो नर फांको में प्राण गंवाते हैं

स्वातंत्र्य गर्व उनका जो नर फांको में प्राण गंवाते हैं

svaatantry-garv-unaka-jo-nar-phaankon-mein-praan-ganvaate-hain

svaatantry-garv-unaka-jo-nar-phaankon-mein-praan-ganvaate-hain

svaatantry garv unaka jo nar phaankon mein praan ganvaate hain

svaatantry garv unaka jo nar phaankon mein praan ganvaate hain

स्वातंत्र्य गर्व उनका, जो नर फाकों में प्राण गंवाते हैं ,
पर, नहीं बेच मन का प्रकाश रोटी का मोल चुकाते हैं ।
स्वातंत्र्य गर्व उनका, जिनपर संकट की घात न चलती है ,
तूफानों में जिनकी मशाल कुछ और तेज़ हो जलती है ।

स्वातंत्र्य उमंगो की तरंग, नर में गौरव की ज्वाला है ,
स्वातंत्र्य रूह की ग्रीवा में अनमोल विजय की माला है ।
स्वातंत्र्य भाव नर का अदम्य , वह जो चाहे कर सकता है ,
शासन की कौन बिसात, पाँव विधि की लिपि पर धर सकता है ।

जिंदगी वही तक नहीं , ध्वजा जिस जगह विगत युग ने गाड़ी,
मालूम किसी को नहीं अनागत नर की दुविधाएं सारी ।
सारा जीवन नप चुका,’ कहे जो, वह दासता प्रचारक है,
नर के विवेक का शत्रु , मनुज की मेधा का संहारक है ।

जो कहे सोच मत स्वयं, बात जो कहूं , मानता चल उसको,
नर की स्वतंत्रता की मणि का तू कह अराति प्रबल उसको ।
नर के स्वतंत्र चिंतन से जो डरता, कदर्य, अविचारी है,
बेड़िया बुद्धि को जो देता, जुल्मी है, अत्याचारी है ।

लक्षमण-रेखा के दास तटों तक ही जाकर फिर जाते हैं,
वर्जित समुद्र में नांव लिए स्वाधीन वीर ही जाते हैं ।
आज़ादी है अधिकार खोज की नई राह पर आने का,
आज़ादी है अधिकार नए द्वीपों का पता लगाने का ।

रोटी उसकी , जिसका अनाज ,जिसकी जमीन, जिसका श्रम हैं ,
अब कौन उलट सकता स्वतंत्रता का सुसिद्ध , सीधा क्रम है ।
आज़ादी है अधिकार परिश्रम का पुनीत फल पाने का ,
आज़ादी है अधिकार शोषणों की धज्जियां उड़ाने का ।

गौरव की भाषा नई सीख,भिखमंगों की आवाज बदल,
सिमटी बांहों को खोल गरुड़ ,उड़ने का अब अंदाज़ बदल ।
स्वाधीन मनुज की इच्छा के आगे पहाड़ हिल सकते हैं,
रोटी क्या ? ये अम्बरवाले सारे सिंगार मिल सकते हैं ।

wish4me to English

svaatantry garv unaka, jo nar phaakon mein praan ganvaate hain ,
par, nahin bech man ka prakaash rotee ka mol chukaate hain .
svaatantry garv unaka, jinapar sankat kee ghaat na chalatee hai ,
toophaanon mein jinakee mashaal kuchh aur tez ho jalatee hai .
svaatantry umango kee tarang, nar mein gaurav kee jvaala hai ,
svaatantry rooh kee greeva mein anamol vijay kee maala hai .
svaatantry bhaav nar ka adamy , vah jo chaahe kar sakata hai ,
shaasan kee kaun bisaat, paanv vidhi kee lipi par dhar sakata hai .

jindagee vahee tak nahin , dhvaja jis jagah vigat yug ne gaadee,
maaloom kisee ko nahin anaagat nar kee duvidhaen saaree .
saara jeevan nap chuka, kahe jo, vah daasata prachaarak hai,
nar ke vivek ka shatru , manuj kee medha ka sanhaarak hai .

jo kahe soch mat svayan, baat jo kahoon , maanata chal usako,
nar kee svatantrata kee mani ka too kah araati prabal usako .
nar ke svatantr chintan se jo darata, kadary, avichaaree hai,
bediya buddhi ko jo deta, julmee hai, atyaachaaree hai .

lakshaman-rekha ke daas taton tak hee jaakar phir jaate hain,
varjit samudr mein naanv lie svaadheen veer hee jaate hain .
aazaadee hai adhikaar khoj kee naee raah par aane ka,
aazaadee hai adhikaar nae dveepon ka pata lagaane ka .

rotee usakee , jisaka anaaj ,jisakee jameen, jisaka shram hain ,
ab kaun ulat sakata svatantrata ka susiddh , seedha kram hai .
aazaadee hai adhikaar parishram ka puneet phal paane ka ,
aazaadee hai adhikaar shoshanon kee dhajjiyaan udaane ka .

gaurav kee bhaasha naee seekh,bhikhamangon kee aavaaj badal,
simatee baanhon ko khol garud ,udane ka ab andaaz badal .
svaadheen manuj kee ichchha ke aage pahaad hil sakate hain,
rotee kya ? ye ambaravaale saare singaar mil sakate hain

Comments

comments