Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » स्वधर्म पर दृढ़ रहने से प्राप्त होते हैं सुपरिणाम

स्वधर्म पर दृढ़ रहने से प्राप्त होते हैं सुपरिणाम

svadharm-par-drdh-rahane-se-praapt-hote-hain-suparinaam

svadharm-par-drdh-rahane-se-praapt-hote-hain-suparinaam

svadharm par drdh rahane se praapt hote hain suparinaam

svadharm par drdh rahane se praapt hote hain suparinaam

एक दिन वन में प्यास से व्याकुल हो भीम, अर्जुन, नकुल, और सहदेव पानी की तलाश में एक सरोवर पर पहुंचे, किंतु जैसे ही उन्होंने पानी पिया, तत्क्षण चारों की मृत्यु हो गयी। इधर युधिष्ठिर उन्हें खोजने के लिए निकले, तो चारों को सरोवर के किनारे मृत अवस्था में देखकर अत्यधिक दु:खी हुए। हताश युधिष्ठिर काफी देर तक शोकमग्न अवस्था में वहीं बैठे रहे,फिर प्यास से व्याकुल हो सोचा कि पहले पानी पी लूं, फिर भाईयों की मृतदेह उठाकर घर चलूं। किंतु जैसे ही वह पानी पीने को तत्पर हुए, तभी सरोवर में रहने वाला यक्ष प्रकट हुआ और बोला –ठहरो युधिष्ठिर, पहले मेरे प्रश्नों के उत्तर दो अन्यथा तुम्हारी भी गति तुम्हारे भाइयों के जैसी ही होगी।
शांत, धीर युधिष्ठिर ने यक्ष के सभी प्रश्नों के सटीक उत्तर दिए। यक्ष ने प्रसन्न होकर उन्हें पानी पीने की अनुमति दे दी। फिर कहा- मैं तुम्हारे उत्तर से बहुत प्रसन्न हूं। बताओ, तुम्हारे चारों भाइयों में से किसे ज़िंदा करूं? युधिष्ठिर ने यक्ष से नकुल को जीवित करने की प्रार्थना की। नकुल का नाम सुनते ही यक्ष ने कहा- युधिष्ठिर, तुमने दस हज़ार हाथियों के बल वाले भीम और संसार के सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर अर्जुन को जीवित करने की प्रार्थना क्यों नहीं की, जो संकट में तुम्हारी रक्षा कर सकते है? नकुल तो तुम्हारे किसी काम का नहीं है, फिर उसे क्यों जीवित करवाना चाहते हो? युधिष्ठिर ने उत्तर दिया- महाराज, मनुष्य की रक्षा उसका धर्म करता है, भीम या अर्जुन जैसे व्यक्ति नहीं। यदि हम धर्म पर आरूढ़ हैं, तो दुनिया की कोई भी ताकत हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकती। धर्म विमुख मनुष्य का नाश हो जाता है। मेरे पिता की दो पत्नियां हैं-कुंती और मांद्री। कुंती का एक पुत्र में जीवित हूं, इसीलिए मैं चाहता हूं कि मेरी दूसरा माता का भी एक पुत्र जीवित रहे। यक्ष ने कहा युधिष्ठिर, तुम सच्चे अर्थों में धर्मराज हो। मैं तुम्हें कोटिश: नमन करता हूं और तुम्हारे भाइयों को जीवित करता हूं। इस प्रकार युधिष्ठिर ने धर्मपालन कर अपने चारों भाइयों पुन:प्राप्त कर लिया।

To English in Wish4me

ek din van mein pyaas se vyaakul ho bheem, arjun, nakul, aur sahadev paanee kee talaash mein ek sarovar par pahunche, kintu jaise hee unhonne paanee piya, tatkshan chaaron kee mrtyu ho gayee. idhar yudhishthir unhen khojane ke lie nikale, to chaaron ko sarovar ke kinaare mrt avastha mein dekhakar atyadhik du:khee hue. hataash yudhishthir kaaphee der tak shokamagn avastha mein vaheen baithe rahe,phir pyaas se vyaakul ho socha ki pahale paanee pee loon, phir bhaeeyon kee mrtadeh uthaakar ghar chaloon. kintu jaise hee vah paanee peene ko tatpar hue, tabhee sarovar mein rahane vaala yaksh prakat hua aur bola –thaharo yudhishthir, pahale mere prashnon ke uttar do anyatha tumhaaree bhee gati tumhaare bhaiyon ke jaisee hee hogee.
shaant, dheer yudhishthir ne yaksh ke sabhee prashnon ke sateek uttar die. yaksh ne prasann hokar unhen paanee peene kee anumati de dee. phir kaha- main tumhaare uttar se bahut prasann hoon. batao, tumhaare chaaron bhaiyon mein se kise zinda karoon? yudhishthir ne yaksh se nakul ko jeevit karane kee praarthana kee. nakul ka naam sunate hee yaksh ne kaha- yudhishthir, tumane das hazaar haathiyon ke bal vaale bheem aur sansaar ke sarvashreshth dhanurdhar arjun ko jeevit karane kee praarthana kyon nahin kee, jo sankat mein tumhaaree raksha kar sakate hai? nakul to tumhaare kisee kaam ka nahin hai, phir use kyon jeevit karavaana chaahate ho? yudhishthir ne uttar diya- mahaaraaj, manushy kee raksha usaka dharm karata hai, bheem ya arjun jaise vyakti nahin. yadi ham dharm par aaroodh hain, to duniya kee koee bhee taakat hamaara kuchh nahin bigaad sakatee. dharm vimukh manushy ka naash ho jaata hai. mere pita kee do patniyaan hain-kuntee aur maandree. kuntee ka ek putr mein jeevit hoon, iseelie main chaahata hoon ki meree doosara maata ka bhee ek putr jeevit rahe. yaksh ne kaha yudhishthir, tum sachche arthon mein dharmaraaj ho. main tumhen kotish: naman karata hoon aur tumhaare bhaiyon ko jeevit karata hoon. is prakaar yudhishthir ne dharmapaalan kar apane chaaron bhaiyon pun:praapt kar liya.

Comments

comments