Friday , 23 February 2018
Latest Happenings
Home » Tag Archives: गुरु

Tag Archives: गुरु

बाहरी वेश-भूषा से व्यक्ति की सही पहचान नहीं हो सकती

Sikshapard Khaniya

एक नौजवान शिष्य अपने गुरु के पास पहुंचा और बोला , ” गुरु जी एक बात समझ नहीं आती , आप इतने साधारण वस्त्र क्यों पहनते हैं …इन्हे देख कर लगता ही नहीं कि आप एक ज्ञानी व्यक्ति हैं जो सैकड़ों शिष्यों को शिक्षित करने का महान कार्य करता है . गुरु जी मुस्कुराये . फिर उन्होंने अपनी ऊँगली से ... Read More »

गुरु के प्रति सच्ची दक्षिणा यही है

प्राचीनकाल के एक गुरु अपने आश्रम को लेकर बहुत चिंतित थे। गुरु वृद्ध हो चले थे और अब शेष जीवन हिमालय में ही बिताना चाहते थे, लेकिन उन्हें यह चिंता सताए जा रही थी कि मेरी जगह कौन योग्य उत्तराधिकारी हो, जो आश्रम को ठीक तरह से संचालित कर सके। उस आश्रम में दो योग्य शिष्य थे और दोनों ही ... Read More »

शिरडी साईं बाबा मंदिर

saeen saeen jap bande kyon bhakti se mukh moda hai

शिरडी के साईं बाबा का मंदिर महाराष्ट्र के अहमदनगर के शिरडी गांव में स्थित एक प्रमुख धार्मिक स्थान है। यहां हजारों भक्त हर वर्ष बाबा के दर्शन के लिए आते हैं। साईं बाबा सभी धर्मों का सम्मान करने वाले एक महान संत थे। साईं बाबा के जीवन के संबंध में कई कथाएं कही जाती हैं। शिरड़ी साईं बाबा मंदिर ( ... Read More »

सारे तीर्थ धाम आपके चरणो में

Sare tirath dham aap ke charno main story

  दोहा: सद्गुरु जिन का नाम है, मन के भीतर धाम है ऐसे दीनदयाल को मेरा बार बार प्रणाम है कैसे करूँ मैं वंदना, ना स्वर है ना आवाज आज पृख्शा है मेरी, मेरी लाज राखो गुरु आप कबीरा जब हम पैदा हुए, जग हसे हम रोए ऐसी करनी कर चलो, हम हसे जग रोए तीन लोक नव खंड में, ... Read More »

आखिरी सन्देश

Akhri Sandesh Story

ऋषिकेश के एक प्रसिद्द महात्मा बहुत वृद्ध हो चले थे और उनका अंत निकट था . एक दिन उन्होंने सभी शिष्यों को बुलाया और कहा , ” प्रिय शिष्यों मेरा शरीर जीर्ण हो चुका है और अब मेरी आत्मा बार -बार मुझे इसे त्यागने को कह रही है , और मैंने निश्चय किया है कि आज के दिन जब सूर्य ... Read More »

मंगल मूरति मारुती नंदन

Mangal Murti Maruti Nandan Story

  मंगल मूरति मारुती नंदन सकल अमंगल मूल निकंदन पवन तनय संतन हितकारी हृदय विराजत अवध बिहारी मात पिता गुरु गणपत शारद शिवा समेत शभु सुक नारद चरण बंदी बिनवौ सब काहू देहु राम पद नेह निबाहू बन्दहुँ राम लखन बैदेही यह तुलसी के प्रमा सनेही mangal moorati maarutee nandan sakal amangal mool nikandan pavan tanay santan hitakaaree hrday viraajat ... Read More »

जीवन में जरुरी है धैर्य और विनम्रता

Jeevan men jaruree hai dhairy aur vinamrataa

सिखों के तीसरे गुरु अमरदास जी के दामाद जेठाजी अत्यंत विनम्र और सहनशील व्यक्ति थे। वे गुरु अमरदास जी की बहुत सेवा करते थे। एक दिन उन्होंने जेठा जी और दूसरे दामाद रामा को एक चबूतरा बनाने के लिए कहा। दोनों ने चबूतरा बना दिया। चबूतरे को देखकर गुरुजी बोले, यह सही नहीं है। दोबारा से बनाओ। इस तरह दोबारा ... Read More »

क्यों मनाई जाती है गुरु पूर्णिमा, क्या है महत्त्व

Kab Aye Kab Jaye Bhajan

आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा भी कहते है। इस दिन गुरु की पूजा का विधान है। कहते हैं कि इस दिन गुरु की पूजा करने से वर्ष भर की पूर्णिमाओं के सत्कर्मो का फल मिलता है। महाभारत के रचयिता वेद व्यास का जन्मदिन भी आज ही के दिन मनाया जाता है। उन्होंने चारो वेदों की भी रचना की ... Read More »

गुरु का महत्त्व क्यों ?

Gurudev

भारतीय संस्कृति में ‘आचार्य देवो भव’ कहकर गुरु को असीम श्रद्धा का पात्र माना गया है । गुरु शब्द में ‘गु’ का अर्थ अंधकार तथा ‘रु’ का दूर करने से लगाया जाता है । अर्थात जो अंधकार को दूर कर सके, वहीं गुरु है । वैसे, हमारे शास्त्रों में गुरु के अनेक अर्थ बताएं गए हैं । गुरु का महत्त्व ... Read More »

 गुरु पूर्णिमा आषाढ़ में क्यों? गुरु पूर्णिमा पर क्या करें!

Guru Purnima oshad main story

आषाढ़ पूर्णिमा को वेद व्यासजी का अवतरण हुआ था. उन्होंने ही वेद-पुराणों से परिचित कराया, ईश्वर और मनुष्य के बीच सेतु बने. इसलिए आषाढ़ पूर्णिमा गुरू पूर्णिमा हुई. वेद व्यास जी अवतार हैं, आषाढी पूर्णिमा को तो चंद्रमा बादलों में छुपा ही रहता है उसी दिन क्यों! शरद पूर्णिमा जब चंद्रमा सबसे युवा और सबसे ज्यादा आकर्षक होता है, उस ... Read More »