Friday , 22 September 2017
Latest Happenings
Home » Tag Archives: thinking

Tag Archives: thinking

मरने से पहले जिंदगी से रू-ब-रू

Life-before-death

करीब सौ साल पहले की बात है। एक आदमी सुबह सोकर उठा। उसने अखबार उठाया और रोज के मुताबिक खबरों में झांकने लगा। अचानक एक जगह वह चौंक उठा और उसने आंखे मसलकर दोबारा देखा। एक दम ठीक छपा था। स्मृति शेष कॉलम में उसे श्रद्धांजलि दी गई थी। खबर गलती से प्रकाशित थी, पर थी। उसे बहुत धक्का लगा ... Read More »

किसी ने सही कहा है, सम्मान चाहिए तो पहले सम्मान देना सीखें

बहुत पुरानी बात है। एक व्यक्ति अक्सर धर्मग्रंथों का मजाक उड़ाया करता था। वह नास्तिक था। वह ईश्वर में विश्वास करने वालों का सम्मान नहीं करता था। वह उनसे वैचारिक बहस न करके, कुतर्कों के जरिए उनका मनोबल तोड़ने की कोशिश करता था। एक दिन वह एक पादरी के पास पहुंचा। उसका मकसद पादरी को नीचा दिखाना था। उसने पादरी ... Read More »

ईश-भक्ति में लीन भक्तों के साथ हर पल रहते हैं भगवान

There was a devout man in a city

किसी नगर में एक धर्मपरायण शख्स रहता था। वह सदैव ईश-भक्ति में लीन रहता और इस बात का हमेशा ख्याल रखता कि उसके द्वारा किसी का अहित न हो जाए। उसे इस बात का भी पूरा भरोसा था कि यदि वह दूसरों का अहित नहीं करेगा तो उसका भी अहित नहीं होगा। वह हमेशा भगवान से प्रार्थना करता कि उस ... Read More »

रहीम की विनम्रता का अनोखा उदाहरण

रहीम की विनम्रता का अनोखा उदाहरण

कवि रहीम और कवि गंग गहरे मित्र थे। रहीम गरीबों को बड़े पैमाने पर दान दिया करते थे। वे पंक्ति में खड़े लोगों को जब दान देते थे तो अपनी नजरें नीची कर लेते थे। दान लेने वाले कुछ तो एक बार लेकर फिर दोबारा पंक्ति में लग जाते और फिर से दान ले लेते। गंग कवि को यह बड़ा ... Read More »

हम कल के लिए आज नहीं सोचते

हम कल के लिए आज नहीं सोचते

एक नगर में एक संपन्न सेठजी रहते थे। वह दिनभर खूब मेहनत से काम करते थे। एक दिन उन्हें न जाने क्या सूझा कि अपने मुनीम को बुलाकर कहा, ‘पता करो हमारे पास कितना धन है और कब तक के लिए पर्याप्त है?’ कुछ दिन बाद मुनीम हिसाब लेकर आया और सेठ जी से बोला, ‘जिस हिसाब से आज खर्चा ... Read More »

इस दुनिया में श्रेष्ठ और महान कौन

इस दुनिया में श्रेष्ठ और महान कौन

एक बार मगध के सम्राट बिम्बिसार संत सत्यकेतु के आश्रम में पहुंचे और दण्डवत होकर निवेदन किया कि भगवन इस विश्व में श्रेष्ठ और महान व्यक्ति कौन है? सत्यकेतु ने सामने खेत में काम कर रही एक अधिक उम्र की वृद्धा की ओर संकेत करते हुए कहा- ‘उधर देखिए, उस वृद्धा के शरीर में शक्ति नहीं है, लेकिन कुदाली चला ... Read More »

मैं अपना चित्र बनवाऊँगा

मैं अपना चित्र बनवाऊँगा

एक बार कन्हैया को जिद्द चढ़ गई कि मैं अपना चित्र बनवाऊँगा ये बात कान्हा ने मईया ते कही, मईया मै अपना चित्र बनवाऊँगो, मईया बोली चित्र बनवाय के का करेगो, कन्हैया बोले, मोय कछू ना पतो मैं तो बनवाऊँगो, मईया कन्हैया को एक औरत के पास ले गई जिसका नाम था चित्रा, वो ऐसा चित्र बनाती थी कि कोई ... Read More »

कृपा करके अपनी सोच को बदलें (Please change your thinking)

एक दोस्त ने मुझे शादी में पूछा कि ” आज माल कौन सा सबसे सुंदर आया शादी में” मैंने एक लडकी की तरफ इशारा करते हुए कहा कि वह आज सबसे सुंदर लग रही है। उसने गुस्से से मेरी तरफ देखते हुए कहा “मूंह संभाल के बात कर वो मेरी बहन है” मैंने कहा बाह मेरे शेर सदके जाऊ तेरी सोच के तेरी ... Read More »