Friday , 22 September 2017
Latest Happenings
Home » Tag Archives: Vrindavan

Tag Archives: Vrindavan

श्रीकृष्ण जी की के सात विशेष विग्रह

seven-special-enunciations-of-sri-krishna-ji

वृंदावन वह स्थान है, जहां भगवान श्रीकृष्ण ने बाललीलाएं की व अनेक राक्षसों का वध किया। यहां श्रीकृष्ण के विश्वप्रसिद्ध मंदिर भी हैं। आज हम आपको 7 ऐसी चमत्कारी श्रीकृष्ण प्रतिमाओं के बारे में बता रहे हैं, जिनका संबंध वृंदावन से है। इन 7 प्रतिमाओं में से 3 आज भी वृंदावन के मंदिरों में स्थापित हैं, वहीं 4 अन्य स्थानों ... Read More »

भक्त यदि सच्चा हो तो उसके बुलाने पर आते हैं कृष्ण

एक बार एक गरीब किसान था। उसने अपनी बेटी की शादी के लिए सेठ से पांच सौ रुपए उधार लिए। गरीब किसान ने अपनी बेटी की शादी के बाद धीरे-धीरे सब पैसा ब्याज समेत चुकता कर दिया। लेकिन उस सेठ के मन में पाप आ गया। उसने सोचा ये किसान अनपढ़ है। इसे लूटा जाए। गरीब किसान ने कहा की ... Read More »

Publications of Swami Akhandanand ji

Life of akhandanand

  Swami Akhandanand Ji (1864-1937) twentieth century; a well-known exponent of Shrimad Bhagvata and a scholar of Vedanta and Bhakti Shastras. He was known as “Maharajshri” to his followers and friends. Maharajshri mentored many on the spiritual path, including the past and present generations of Grihasthas, Sanyasi Mahatmas, and Shankaracharyas. Maharajshri’s discourses were loved by all – Mahatmas and Scholars ... Read More »

Achievements of Swami Akhandanand ji

story of akhandanand

Swami Akhandanand Ji (1864-1937) In his youth, Akhandanand went to Jhusii, to meet Brahmachari Prabhudatta, a saint. There, he met Udiya Baba, and had discussed Vedanta. He was captivated by Udiya Baba’s conviction in the principle of non-dual reality. He received initiation for Sanyas (monkhood) from the Shankaracharya of Jyotishpeethadhishver, Brahmanand Saraswati in February 1942, following which his name was ... Read More »

Life of Swami Akhandanand ji

Life of akhandanand

  Swami Akhandanand Ji (1864-1937) He was born on Friday, 25 July 1911 in Pushya Nakshatra (Shravana Amavasya v.s. 1968 per Vikram Calendar) in the village of Maharai in the district of Varanasi. His Saryupareen Brahmin family named him Shantanu Behari, after the god of the same name.[citation needed] He was aged 10 when his grandfather made him read the ... Read More »

Swami Akhandanand ji

Life of akhandanand

  Swami Akhandanand Ji (1864-1937) He was born on Friday, 25 July 1911 in Pushya Nakshatra (Shravana Amavasya v.s. 1968 per Vikram Calendar) in the village of Maharai in the district of Varanasi. His Saryupareen Brahmin family named him Shantanu Behari, after the god of the same name.[citation needed] He was aged 10 when his grandfather made him read the ... Read More »

वेदांतमत और वैष्णवमत

Suni Kanha Teri Bansuri

सगुण ब्रह्म ईश्वर हैं, वे सर्वशक्तिमान हैं, आत्मा में जो एक अप्रतिहत शक्ति सहज ही रहती है, वह ईश्वर की कला है । वहीं अप्रतिहत शक्ति जब एक से अधिक होती है तब उसे अंश कहते हैं । जिनमें संपूर्ण अप्रतिहत शक्ति होती हैं, उन्हें पूर्ण कहते हैं । जीव में साधारणत: कोई भी शक्ति अप्रतिहत नहीं है । योगबल ... Read More »

भगवान श्रीकृष्ण और उनका दिव्य उपदेश

कांतिदी के सुरम्य तट पर संयुक्त प्रांत की मथुरा नगरी में भगवान श्रीकृष्ण का अवतार हुआ था । उन्होंने शैशवकाल में ही अनेक बार अपनी अतिमानुष एवं अलौकिक शक्तियों को दिखलाकर सबको चकित कर दिया था । अनेक भयानक पक्षियों, वन्य पशुओं और यमुना जी में रहने वाले कालिय – सर्प को मारकर लोगों को निर्भय किया था । उनके ... Read More »

भक्ति की शक्ति

Aisi Lagi Lagan , Merya Ho Gayi Magan

एक बार तुलसीदास जी वृन्दावन आये वहॉ पर वह नित्य ही कृष्ण स्वरूप श्री नाथजी के दर्शन को जाते थे उस मंदिर में एक महंत थे जिनका नाम परशुराम था एक दिन जब नित्य कि तरह तुलसी बाबा दर्शन करने पहुँचे तो उनहोंने देखा कि बंशी लकुट काछनी काछे मुकुट माथ माला उर आछे प्रभु के एक हाथ में बंशी ... Read More »

कृष्णा मनमोहना चिट चोर

khud to baahar hee khade rahe

राधा जीवना वृंदावन संचारी गोवर्धाम गिरिधारी हृदाया विहारी हरी नारायाणा हरी नारायाणा, हरी नारायाणा [To English wish4me] Radha jeevana Vrindavan sanchari Govardham giridhari Hridaya vihari Hari Narayana Hari Narayana, Hari Narayana Read More »