Monday , 17 July 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » संयम की परीक्षा के लिए चाहिए आत्मसंयम

संयम की परीक्षा के लिए चाहिए आत्मसंयम

team-for-test-test

team-for-test-test

संयम की परीक्षा के लिए चाहिए आत्मसंयम

संयम की परीक्षा के लिए चाहिए आत्मसंयम

प्राचीन मिस्र में जुन्नून नाम के एक प्रसिद्ध महान संत हुए थे। प्रसिद्ध मुस्लिम पीर यूसुफ़ हुसैन धर्म की दीक्षा लेने उनके पास पहुंचे। संत ने एक संदूक यूसूफ़ को दे दी और उसे नील नदी के किनारे बसे अपने मित्र को देकर आने के लिए कहा।

यूसुफ़ हुसैन उसे लेकर चल पड़े। मार्ग में वे अपनी उत्सुकता को न रोक सके और संदूक खोलकर देखने लगे। उसे खोलने पर एक चूहा निकलकर भागने लगा।

जब यूसुफ़ मित्र के पास पहुंचे और संदूक दिया तो संदूक खाली पाकर वह गंभीरता से बोले, अब जुन्नून तुम्हें दीक्षा नहीं देंगे।क्योंकि यह संदूक उन्होंने तुम्हारे संयम की परीक्षा लेने के लिए दी थी। जब तुम एक चूहे की रक्षा नहीं कर सके तो परमात्मा को कैसे धारण करोगे?

खिन्न मन से युसूफ़, जुन्नून के पास पहुंचे। संत ने कहा, यूसुफ़, अभी तुम परम ज्ञान के अधिकारी नहीं हो। धर्म का ज्ञान पाने के लिए धैर्य और संयम की आवश्यकता होती है। जिसका तुम्हारे पास अभाव है। तुम लौट जाओ और पहले चित्त की दुर्बलता को दूर करो। इसके बाद यूसुफ़ आत्मसंयम के बल पर एक प्रख्यात संत हुए।

In English

In ancient Egypt there was a famous great saint called Junnoon. The famous Muslim peer

approached him to take the initiation of religion. The saint gave a chest to Yusuf and asked him to come and give him to his friend settled along the Nile River.

Yusuf Hussain walked with him. They could not stop their curiosity in the path and opened the chest and started looking at them. When he opened it, a mouse came out and ran away.

When Yusuf reached the friend and gave a box, he said calmly after getting the chest, and now Junoon will not give you diksha.Because this chess he had given you to take the test of restraint. How can you wear God when you can not protect a rat?

Sadly, Yusuf came to Junnoon. The saint said, Yusuf, you do not even possess the ultimate knowledge. To gain knowledge of religion requires patience and restraint. Which you have lacks. You go back and first remove the weakness of the mind. After this Yusuf was a famous saint on the strength of self-control.

Comments

comments