Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru Parvachan » Budh » तीन गांठें

तीन गांठें

teen-gaanthen

teen-gaanthen

teen gaanthen

teen gaanthen

भगवान बुद्ध अक्सर अपने शिष्यों को शिक्षा प्रदान किया करते थे। एक दिन प्रातः काल बहुत से भिक्षुक उनका प्रवचन सुनने के लिए बैठे थे । बुद्ध समय पर सभा में पहुंचे, पर आज शिष्य उन्हें देखकर चकित थे क्योंकि आज पहली बार वे
अपने हाथ में कुछ लेकर आए थे। करीब आने पर शिष्यों ने देखा कि उनके हाथ में एक रस्सी थी। बुद्ध ने आसन ग्रहण किया और बिना किसी से कुछ कहे वे रस्सी में गांठें लगाने लगे ।

वहाँ उपस्थित सभी लोग यह देख सोच रहे थे कि अब बुद्ध आगे क्या करेंगे ; तभी बुद्ध ने सभी से एक प्रश्न किया, ‘ मैंने इस रस्सी में तीन गांठें लगा दी हैं , अब मैं आपसे ये जानना चाहता हूँ कि क्या यह वही रस्सी है, जो गाँठें लगाने से पूर्व थी ?’

एक शिष्य ने उत्तर में कहा,” गुरूजी इसका उत्तर देना थोड़ा कठिन है, ये वास्तव में हमारे देखने के तरीके पर निर्भर है। एक दृष्टिकोण से देखें तो रस्सी वही है, इसमें कोई बदलाव नहीं आया है । दूसरी तरह से देखें तो अब इसमें तीन गांठें लगी हुई हैं जो पहले नहीं थीं; अतः इसे बदला हुआ कह सकते हैं। पर ये बात भी ध्यान देने वाली है कि बाहर से देखने में भले ही ये बदली हुई प्रतीत हो पर अंदर से तो ये वही है जो पहले थी; इसका बुनियादी स्वरुप अपरिवर्तित है।”

“सत्य है !”, बुद्ध ने कहा ,” अब मैं इन गांठों को खोल देता हूँ।”यह कहकर बुद्ध रस्सी के दोनों सिरों को एक दुसरे से दूर खींचने लगे। उन्होंने पुछा, “तुम्हें क्या लगता है, इस प्रकार इन्हें खींचने से क्या मैं इन गांठों को खोल सकता हूँ?”

“नहीं-नहीं , ऐसा करने से तो या गांठें तो और भी कस जाएंगी और इन्हे खोलना और मुश्किल हो जाएगा। “, एक शिष्य ने शीघ्रता से उत्तर दिया।

बुद्ध ने कहा, ‘ ठीक है , अब एक आखिरी प्रश्न, बताओ इन गांठों को खोलने के लिए हमें क्या करना होगा ?’

शिष्य बोला ,’”इसके लिए हमें इन गांठों को गौर से देखना होगा , ताकि हम जान सकें कि इन्हे कैसे लगाया गया था , और फिर हम इन्हे खोलने का प्रयास कर सकते हैं। “

“मैं यही तो सुनना चाहता था। मूल प्रश्न यही है कि जिस समस्या में तुम फंसे हो, वास्तव में उसका कारण क्या है, बिना कारण जाने निवारण असम्भव है। मैं देखता हूँ कि अधिकतर लोग बिना कारण जाने ही निवारण करना चाहते हैं , कोई मुझसे ये नहीं पूछता कि मुझे क्रोध क्यों आता है, लोग पूछते हैं कि मैं अपने क्रोध का अंत कैसे करूँ ? कोई यह प्रश्न नहीं करता कि मेरे अंदर अंहकार का बीज कहाँ से आया , लोग पूछते हैं कि मैं अपना अहंकार कैसे ख़त्म करूँ ?

प्रिय शिष्यों , जिस प्रकार रस्सी में में गांठें लग जाने पर भी उसका बुनियादी स्वरुप नहीं बदलता उसी प्रकार मनुष्य में भी कुछ विकार आ जाने से उसके अंदर से अच्छाई के बीज ख़त्म नहीं होते। जैसे हम रस्सी की गांठें खोल सकते हैं वैसे ही हम मनुष्य की समस्याएं भी हल कर सकते हैं। इस बात को समझो कि जीवन है तो समस्याएं भी होंगी ही , और समस्याएं हैं तो समाधान भी अवश्य होगा, आवश्यकता है कि हम किसी भी समस्या के कारण को अच्छी तरह से जानें, निवारण स्वतः ही प्राप्त हो जाएगा । ” , महात्मा बुद्ध ने अपनी बात पूरी की।

wish4me to English

bhagavaan buddh aksar apane shishyon ko shiksha pradaan kiya karate the. ek din praatah kaal bahut se bhikshuk unaka pravachan sunane ke lie baithe the . buddh samay par sabha mein pahunche, par aaj shishy unhen dekhakar chakit the kyonki aaj pahalee baar ve
apane haath mein kuchh lekar aae the. kareeb aane par shishyon ne dekha ki unake haath mein ek rassee thee. buddh ne aasan grahan kiya aur bina kisee se kuchh kahe ve rassee mein gaanthen lagaane lage .

vahaan upasthit sabhee log yah dekh soch rahe the ki ab buddh aage kya karenge ; tabhee buddh ne sabhee se ek prashn kiya, ‘ mainne is rassee mein teen gaanthen laga dee hain , ab main aapase ye jaanana chaahata hoon ki kya yah vahee rassee hai, jo gaanthen lagaane se poorv thee ?’

ek shishy ne uttar mein kaha,” guroojee isaka uttar dena thoda kathin hai, ye vaastav mein hamaare dekhane ke tareeke par nirbhar hai. ek drshtikon se dekhen to rassee vahee hai, isamen koee badalaav nahin aaya hai . doosaree tarah se dekhen to ab isamen teen gaanthen lagee huee hain jo pahale nahin theen; atah ise badala hua kah sakate hain. par ye baat bhee dhyaan dene vaalee hai ki baahar se dekhane mein bhale hee ye badalee huee prateet ho par andar se to ye vahee hai jo pahale thee; isaka buniyaadee svarup aparivartit hai.”

“saty hai !”, buddh ne kaha ,” ab main in gaanthon ko khol deta hoon.”yah kahakar buddh rassee ke donon siron ko ek dusare se door kheenchane lage. unhonne puchha, “tumhen kya lagata hai, is prakaar inhen kheenchane se kya main in gaanthon ko khol sakata hoon?”

“nahin-nahin , aisa karane se to ya gaanthen to aur bhee kas jaengee aur inhe kholana aur mushkil ho jaega. “, ek shishy ne sheeghrata se uttar diya.

buddh ne kaha, ‘ theek hai , ab ek aakhiree prashn, batao in gaanthon ko kholane ke lie hamen kya karana hoga ?’

shishy bola ,’”isake lie hamen in gaanthon ko gaur se dekhana hoga , taaki ham jaan saken ki inhe kaise lagaaya gaya tha , aur phir ham inhe kholane ka prayaas kar sakate hain. “

“main yahee to sunana chaahata tha. mool prashn yahee hai ki jis samasya mein tum phanse ho, vaastav mein usaka kaaran kya hai, bina kaaran jaane nivaaran asambhav hai. main dekhata hoon ki adhikatar log bina kaaran jaane hee nivaaran karana chaahate hain , koee mujhase ye nahin poochhata ki mujhe krodh kyon aata hai, log poochhate hain ki main apane krodh ka ant kaise karoon ? koee yah prashn nahin karata ki mere andar anhakaar ka beej kahaan se aaya , log poochhate hain ki main apana ahankaar kaise khatm karoon ?

priy shishyon , jis prakaar rassee mein mein gaanthen lag jaane par bhee usaka buniyaadee svarup nahin badalata usee prakaar manushy mein bhee kuchh vikaar aa jaane se usake andar se achchhaee ke beej khatm nahin hote. jaise ham rassee kee gaanthen khol sakate hain vaise hee ham manushy kee samasyaen bhee hal kar sakate hain. is baat ko samajho ki jeevan hai to samasyaen bhee hongee hee , aur samasyaen hain to samaadhaan bhee avashy hoga, aavashyakata hai ki ham kisee bhee samasya ke kaaran ko achchhee tarah se jaanen, nivaaran svatah hee praapt ho jaega . ” , mahaatma buddh ne apanee baat pooree kee.

Comments

comments