Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » आखिरी उपदेश (The last sermon)

आखिरी उपदेश (The last sermon)

the-last-sermon

the-last-sermon

The last sermon

The last sermon

गुरुकुल में शिक्षा प्राप्त कर रहे शिष्यों  में आज काफी उत्साह था , उनकी बारह वर्षों की शिक्षा आज पूर्ण हो रही

उन्होंने ऊँची आवाज़ में कहा , ” आप सभी एक जगह एकत्रित हो जाएं , मुझे आपको आखिरी उपदेश देना है .”थी और अब वो अपने घरों को लौट सकते थे . गुरु जी भी अपने शिष्यों की शिक्षा-दीक्षा से प्रसन्न थे और गुरुकुल की परंपरा के अनुसार शिष्यों को आखिरी उपदेश देने की तैयारी कर रहे थे।

गुरु की आज्ञा का पालन करते हुए सभी शिष्य एक जगह एकत्रित हो गए .

गुरु जी ने अपने हाथ में कुछ लकड़ी के खिलौने पकडे हुए थे , उन्होंने शिष्यों को खिलौने दिखाते हुए कहा , ” आप को इन तीनो खिलौनों में अंतर ढूँढने हैं।”

सभी शिष्य ध्यानपूर्वक खिलौनों को देखने लगे , तीनो लकड़ी से बने बिलकुल एक समान दिखने वाले गुड्डे थे . सभी चकित थे की भला इनमे क्या अंतर हो सकता है ?

तभी किसी ने कहा , ” अरे , ये देखो इस गुड्डे के में एक छेद  है .”

यह संकेत काफी था ,जल्द ही शिष्यों ने पता लगा लिया और गुरु जी से बोले ,

” गुरु जी इन गुड्डों में बस इतना ही अंतर है कि –

एक के दोनों कान में छेद है

दूसरे के एक कान और एक मुंह में छेद है ,

और तीसरे के सिर्फ एक कान में छेद है  “

गुरु जी बोले , ” बिलकुल सही , और उन्होंने धातु का एक पतला तार देते हुए उसे कान के छेद में डालने के लिए कहा .”

शिष्यों  ने वैसा ही किया . तार पहले गुड्डे के एक कान से होता हुआ दूसरे कान से निकल गया , दूसरे गुड्डे के कान से होते हुए मुंह से निकल गया और तीसरे के कान में घुसा पर कहीं से निकल नहीं पाया .

तब  गुरु जी ने शिष्यों से गुड्डे अपने हाथ में लेते हुए कहा , ” प्रिय शिष्यों , इन तीन गुड्डों की तरह ही आपके जीवन में तीन तरह के व्यक्ति आयेंगे .

पहला गुड्डा ऐसे व्यक्तियों को दर्शाता है जो आपकी बात एक कान से सुनकर दूसरे से निकाल देंगे ,आप ऐसे लोगों से कभी अपनी समस्या साझा ना करें .

दूसरा गुड्डा ऐसे लोगों को दर्शाता है जो आपकी बात सुनते हैं और उसे दूसरों के सामने जा कर बोलते हैं , इनसे बचें , और कभी अपनी महत्त्वपूर्ण बातें इन्हें ना बताएँ।

और  तीसरा गुड्डा ऐसे लोगों का प्रतीक है जिनपर आप भरोसा कर सकते हैं , और उनसे किसी भी तरह का विचार – विमर्श कर सकते हैं , सलाह ले सकते हैं , यही वो लोग हैं जो आपकी ताकत है और इन्हें आपको कभी नहीं खोना चाहिए . “

wish4me to English

gurukul mein shiksha praapt kar rahe shishyon mein aaj kaaphee utsaah tha , unakee baarah varshon kee shiksha aaj poorn ho rahee

unhonne oonchee aavaaz mein kaha , ” aap sabhee ek jagah ekatrit ho jaen , mujhe aapako aakhiree upadesh dena hai .”thee aur ab vo apane gharon ko laut sakate the . guru jee bhee apane shishyon kee shiksha-deeksha se prasann the aur gurukul kee parampara ke anusaar shishyon ko aakhiree upadesh dene kee taiyaaree kar rahe the.

guru kee aagya ka paalan karate hue sabhee shishy ek jagah ekatrit ho gae .

guru jee ne apane haath mein kuchh lakadee ke khilaune pakade hue the , unhonne shishyon ko khilaune dikhaate hue kaha , ” aap ko in teeno khilaunon mein antar dhoondhane hain.”

sabhee shishy dhyaanapoorvak khilaunon ko dekhane lage , teeno lakadee se bane bilakul ek samaan dikhane vaale gudde the . sabhee chakit the kee bhala iname kya antar ho sakata hai ?

tabhee kisee ne kaha , ” are , ye dekho is gudde ke mein ek chhed hai .”

yah sanket kaaphee tha ,jald hee shishyon ne pata laga liya aur guru jee se bole ,

” guru jee in guddon mein bas itana hee antar hai ki –

ek ke donon kaan mein chhed hai

doosare ke ek kaan aur ek munh mein chhed hai ,

aur teesare ke sirph ek kaan mein chhed hai “

guru jee bole , ” bilakul sahee , aur unhonne dhaatu ka ek patala taar dete hue use kaan ke chhed mein daalane ke lie kaha .”

shishyon ne vaisa hee kiya . taar pahale gudde ke ek kaan se hota hua doosare kaan se nikal gaya , doosare gudde ke kaan se hote hue munh se nikal gaya aur teesare ke kaan mein ghusa par kaheen se nikal nahin paaya .

tab guru jee ne shishyon se gudde apane haath mein lete hue kaha , ” priy shishyon , in teen guddon kee tarah hee aapake jeevan mein teen tarah ke vyakti aayenge .

pahala gudda aise vyaktiyon ko darshaata hai jo aapakee baat ek kaan se sunakar doosare se nikaal denge ,aap aise logon se kabhee apanee samasya saajha na karen .

doosara gudda aise logon ko darshaata hai jo aapakee baat sunate hain aur use doosaron ke saamane ja kar bolate hain , inase bachen , aur kabhee apanee mahattvapoorn baaten inhen na bataen.

aur teesara gudda aise logon ka prateek hai jinapar aap bharosa kar sakate hain , aur unase kisee bhee tarah ka vichaar – vimarsh kar sakate hain , salaah le sakate hain , yahee vo log hain jo aapakee taakat hai aur inhen aapako kabhee nahin khona chaahie

Comments

comments