Saturday , 24 February 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » तीसरी बकरी

तीसरी बकरी

third-goat-story

third-goat-story

रोहित और मोहित बड़े शरारती बच्चे थे, दोनों 5th स्टैण्डर्ड के स्टूडेंट थे और एक साथ ही स्कूल आया-जाया करते थे।

एक दिन जब स्कूल की छुट्टी हो गयी तब मोहित ने रोहित से कहा, “ दोस्त, मेरे दिमाग में एक आईडिया है?”

“बताओ-बताओ…क्या आईडिया है?”, रोहित ने एक्साईटेड होते हुए पूछा।

मोहित- “वो देखो, सामने तीन बकरियां चर रही हैं।”

रोहित- “ तो! इनसे हमे क्या लेना-देना है?”

मोहित-” हम आज सबसे अंत में स्कूल से निकलेंगे और जाने से पहले इन बकरियों को पकड़ कर स्कूल में छोड़ देंगे, कल जब स्कूल खुलेगा तब सभी इन्हें खोजने में अपना समय बर्वाद करेगे और हमें पढाई नहीं करनी पड़ेगी…”

रोहित- “पर इतनी बड़ी बकरियां खोजना कोई कठिन काम थोड़े ही है, कुछ ही समय में ये मिल जायेंगी और फिर सबकुछ नार्मल हो जाएगा….”

मोहित- “हाहाहा…यही तो बात है, वे बकरियां आसानी से नहीं ढूंढ पायेंगे, बस तुम देखते जाओ मैं क्या करता हूँ!”

इसके बाद दोनों दोस्त छुट्टी के बाद भी पढ़ायी के बहाने अपने क्लास में बैठे रहे और जब सभी लोग चले गए तो ये तीनो बकरियों को पकड़ कर क्लास के अन्दर ले आये।

अन्दर लाकर दोनों दोस्तों ने बकरियों की पीठ पर काले रंग का गोला बना दिया। इसके बाद मोहित बोला, “अब मैं इन बकरियों पे नंबर डाल देता हूँ।, और उसने सफेद रंग से नंबर लिखने शुरू किये-

पहली बकरी पे नंबर 1
दूसरी पे नंबर 2
और तीसरी पे नंबर 4

ये क्या? तुमने तीसरी बकरी पे नंबर 4 क्यों डाल दिया?”, रोहित ने आश्चर्य से पूछा।

मोहित हंसते हुए बोला, “ दोस्त यही तो मेरा आईडिया है, अब कल देखना सभी तीसरी नंबर की बकरी ढूँढने में पूरा दिन निकाल देंगे…और वो कभी मिलेगी ही नहीं…”

अगले दिन दोनों दोस्त समय से कुछ पहले ही स्कूल पहुँच गए।

थोड़ी ही देर में स्कूल के अन्दर बकरियों के होने का शोर मच गया।

कोई चिल्ला रहा था, “ चार बकरियां हैं, पहले, दुसरे और चौथे नंबर की बकरियां तो आसानी से मिल गयीं…बस तीसरे नंबर वाली को ढूँढना बाकी है।”

स्कूल का सारा स्टाफ तीसरे नंबर की बकरी ढूढने में लगा गया…एक-एक क्लास में टीचर गए अच्छे से तालाशी ली। कुछ खोजू वीर स्कूल की

छतों पर भी बकरी ढूंढते देखे गए… कई सीनियर बच्चों को भी इस काम में लगा दिया गया।

तीसरी बकरी ढूँढने का बहुत प्रयास किया गया….पर बकरी तब तो मिलती जब वो होती…बकरी तो थी ही नहीं!

आज सभी परेशान थे पर रोहित और मोहित इतने खुश पहले कभी नहीं हुए थे। आज उन्होंने अपनी चालाकी से एक बकरी अदृश्य कर दी थी।

दोस्तों, इस कहानी को पढ़कर चेहरे पे हलकी सी मुस्कान आना स्वाभाविक है। पर इस मुस्कान के साथ-साथ हमें इसमें छिपे सन्देश को भी ज़रूर समझना चाहिए। तीसरी बकरी, दरअसल वो चीजें हैं जिन्हें खोजने के लिए हम बेचैन हैं पर वो हमें कभी मिलती ही नहीं….क्योंकि वे reality में होती ही नहीं!

हम ऐसी लाइफ चाहते हैं जो perfect हो, जिसमे कोई problem ही ना हो…. it does not exist!
हम ऐसा life-partner चाहते हैं जो हमें पूरी तरह समझे जिसके साथ कभी हमारी अनबन ना हो…..it does not exist!
हम ऐसी job या बिजनेस चाहते हैं, जिसमे हमेशा सबकुछ एकदम smoothly चलता रहे…it does not exist!

क्या ज़रूरी है कि हर वक़्त किसी चीज के लिए परेशान रहा जाए? ये भी तो हो सकता है कि हमारी लाइफ में जो कुछ भी है वही हमारे life puzzle को solve करने के लिए पर्याप्त हो….ये भी तो हो सकता है कि जिस तीसरी चीज की हम तलाश कर रहे हैं वो हकीकत में हो ही ना….और हम पहले से ही complete हों!

So, let us stop being insane and start realizing the happiness we are already blessed with

Translate Into Hindi to English

Rohit and Mohit were big mischievous children, both of whom were students of 5th standard and used to go to school simultaneously.

One day when the school was discharged, Mohit asked Rohit, “friend, is there an idea in my mind?”

“Tell me … tell me … what’s the idea?”, Rohit asked while being excited.

Mohit- “Look, the three goats are roaming in front.”

Rohit- “So! What do we have to do with them? ”

Mohit- “We will be leaving today at the end of the school and before leaving, we will take these goats and leave them in school, tomorrow when the school opens, all will waste their time in search of them and we will not have to study …”

Rohit- “There is only some hard work to find such large goats, in a short time they will be found and then everything will be normal.”

Mohit- “Hahaha … that’s the point, they will not be able to find goats easily, just watch what I do!”

After this, both the friends were sitting in their class on the pretext of leave after the leave and when all the people went, then they caught these three goats and brought them inside the class.

Bringing in, both the friends made a black colored ball on the back of goats. After this Mohit said, “Now I put numbers on these goats, and he started writing numbers with white –

First goat pe number 1
Second pay no.2
And third pay number 4

what is this? Why did you put number 5 in the goat? “, Rohit asked surprise.

Mohit laughed and said, “Friends, this is my idea, now see tomorrow, find out all the third number goat … and he will never get it …”

The next day both friends reached school just before the time.

Within a short time there was a noise of goats in school.

There was no screaming, “There are four goats, first, second and fourth number goats are easily found … just the third number is left to find.”

All the staff of the school was engaged in finding the number one goat … In one class, the teacher got a good talisman. Find some of the heroic school

Seeing the goats on rooftops … many senior children were also engaged in this work.

A lot of effort was made to find the third goat …. But the goat was found when he was … the goat was not there!

Today all were upset but Rohit and Mohit had never been so happy before. Today he made a goat invisible with his tricks.

Friends, it is natural to get a smile on the face by reading this story. But with this smile, we must also understand the hidden message in it. The third goat, in fact, are those things we are restless to find but they never meet us … because they did not exist in reality!

We want a life that is perfect, which has no problem …. It does not exist!
We want a life-partner who understands everything with whom we never have a feeling … .. it does not exist!
We want a job or business that always keeps everything smoothly … it does not exist!

Is it necessary to be bothered for anything at all times? It can also be that whatever is in our life is enough to solve our life puzzle … .that it may be that the third thing we are looking for in reality can not be … And we already get fulfilled!

So, let us stop being insane and start realizing

 

Comments

comments