Wednesday , 12 July 2017
Latest Happenings
Home » Education » विंस्टन चर्चिल की कामयाबी का ये था अचूक फार्मूला

विंस्टन चर्चिल की कामयाबी का ये था अचूक फार्मूला

this-was-the-perfect-formula-of-winston-churchills-success

this-was-the-perfect-formula-of-winston-churchills-success

विंस्टन चर्चिल की कामयाबी का ये था अचूक फार्मूला

विंस्टन चर्चिल की कामयाबी का ये था अचूक फार्मूला

विंस्‍टन चर्चिल, अंग्रेज राजनीतिज्ञ थे। वे द्वितीय विश्वयुद्ध, 1940-1945 के समय इंग्लैंड के प्रधानमंत्री थे। राजनीतिज्ञ के रूप में उन्होंने कई पदों पर कार्य किया। विश्वयुद्ध से पहले वे गृहमंत्रालय में व्यापार बोर्ड के अध्यक्ष रहे। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान वे लॉर्ड ऑफ एडमिरिल्टी बने रहे। युद्ध के बाद उन्हें शस्त्र भंडार का मंत्री बनाया गया।

10 मई 1940 को उन्हें यूनाइटेड किंगडम का प्रधानमंत्री बनाया गया और उन्होंने कुछ राष्ट्रों के खिलाफ लड़ाई जीती। चर्चिल प्रखर वक्ता थे। लेकिन उनका नजरिया क्या था, जिसके कारण वह इतने महान बने। यह जानने के लिए उनके विचारों को जरूर जानना होगा।

चर्चिल के विचार

– मज़ाक एक बहुत ही गंभीर चीज होती है।

– दिक्कतों से पार पाना अवसरों को जीतना है।

– यदि आप नरक से गुजर रहे हों तो बस चलते रहें।

– अपने शब्द वापस लेने से मुझे कभी बदहज़मी नहीं हुई।

– नज़रिया एक छोटी चीज़ होती है,लेकिन बड़ा फर्क डालती है।

– मैं उस आदमी को पसंद करता हूं जो झगड़ते वक़्त मुस्कुराता है।

– साहस सिर्फ खड़े होकर बोलना ही नही, बैठकर धैर्यपूर्वक सुनना भी है।

– कट्टरपंथी वो होता है,जो अपना दिमाग बदल नही सकता और विषय वो बदलता नहीं है।

– जब तक सत्य घर से बाहर निकल पाता है तब तक तो झूठ आधी दुनिया घूम चुका होता है।

– यदि हम भूत और भविष्य के विवाद में फंसते है तो हम पाएंगे कि हमने भविष्य खो दिया है।

– एक निराशावादी को हर अवसर में कठिनाई दिखती है और आशावादी को हर कठिनाई में अवसर।

– आपके शत्रु हैं?अच्छी बात है इसका मतलब है आप जीवन में किसी मूल्य के लिए कभी न कभी दृढ़ता से खड़े हुए हैं।

Hindi toEnglish

Winston Churchill was an English politician. He was Prime Minister of England during World War II, 1940-1945. As a politician, he worked on several positions. Before World War I, he was the President of the Board of Trade in the Ministry of Home Affairs. During World War I, he remained the Lord of the Admiralty. After the war, he was made the minister of arms stores.

On 10 May 1940 he was made the Prime Minister of the United Kingdom and he won a fight against a few nations. Churchill was an intense speaker. But what was his attitude, due to which he became so great To know this, they must know their thoughts.

Churchill’s views

Joke is a very serious thing.

– To overcome obstacles is to win opportunities.

If you are going through hell then just keep walking.

I have never been frustrated by withdrawing my words.

– Attitude is a small thing, but it makes a big difference.

– I like the man who smiles while struggling.

– Courage is not just standing up and speaking, patiently listening and sitting.

– The fundamentalist is the one who can not change his mind and the subject does not change.

As long as the truth comes out of the house, the lie is half the world.

If we get caught in the past and future disputes, then we will find that we have lost the future.

– A pessimist seems to have difficulty in every occasion and the optimist has the opportunity in every difficulty.

– Are your enemies? Good thing, it means that you have been standing firmly or never for any price in life.

Comments

comments