Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » तिरुपति बालाजी

तिरुपति बालाजी

tirupati-balaji

tirupati-balaji

Tirupatibalajee

Tirupatibalajee

तिरुपति बालाजी मंदिर विश्वभर के हिंदुओं का प्रमुख वैष्णव तीर्थ है। यह दक्षिण भारत में आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले में है। सात पहाड़ों का समूह शेषाचलम या वेंकटाचलम पर्वत श्रेणी की चोटी तिरुमाला पहाड़ पर तिरुपति मंदिर स्थित है। भगवान वेंकटेश को विष्णु का अवतार माना जाता है। भगवान विष्णु यहां वेंकटेश्वर, श्रीनिवास और बालाजी नाम से प्रसिद्ध हैं।

तिरुपति बालाजी के दर्शन (Tirupati Balaji Darshan)

हिंदू धर्मावलंबी तिरुपति बालाजी के दर्शन को अपने जीवन का ऐसा महत्त्वपूर्ण पल मानते हैं, जो जीवन को सकारात्मक दिशा देता है। देश-विदेश के हिंदू भक्त और श्रद्धालुगण यहां आकर दान करते हैं, जो धन, हीरे, सोने-चांदी के आभूषणों के रूप में होता है। इस दान के पीछे भी प्राचीन मान्यताएं जुड़ी हैं। जिसके अनुसार भगवान से जो कुछ भी मांगा जाता है, वह कामना पूरी हो जाती है। एक मान्यता के अनुसार भगवान बालाजी से मांगी मुराद पूरी होने पर श्रद्धालु तिरुपति के इस बालाजी मंदिर में श्रद्धा और आस्था के साथ अपने सिर के बालों को कटवाते हैं।

तिरुपति बालाजी की कथा (Tirupati Balaji Temple Story in Hindi)

वराह पुराण में वेंकटाचलम या तिरुमाला को आदि वराह क्षेत्र लिखा गया है। वायु पुराण में तिरुपति क्षेत्र को भगवान विष्णु का वैकुंठ के बाद दूसरा सबसे प्रिय निवास स्थान लिखा गया है जबकि स्कंदपुराण में वर्णन है कि तिरुपति बालाजी का ध्यान मात्र करने से व्यक्ति स्वयं के साथ उसकी अनेक पीढ़ियों का कल्याण हो जाता है और वह विष्णुलोक को पाता है। पुराणों की मान्यता है कि वेंकटम पर्वत वाहन गरुड़ द्वारा भूलोक में लाया गया भगवान विष्णु का क्रीड़ास्थल है। वेंकटम पर्वत शेषाचलम के नाम से भी जाना जाता है। शेषाचलम को शेषनाग के अवतार के रूप में देखा जाता है। इसके सात पर्वत शेषनाग के फन माने जाते है। वराह पुराण के अनुसार तिरुमलाई में पवित्र पुष्करिणी नदी के तट पर भगवान विष्णु ने ही श्रीनिवास के रूप में अवतार लिया। ऐसी मान्यता है कि इस स्थान पर स्वयं ब्रह्मदेव भी रात्रि में मंदिर के पट बंद होने पर अन्य देवताओं के साथ भगवान वेंकटेश की पूजा करते हैं।

wish4me to English

Tirupati baalaajee mandir vishvabhar ke hinduon ka pramukh vaishnav teerth hai. yah dakshin bhaarat mein aandhrapradesh ke chittoor jile mein hai. saat pahaadon ka samooh sheshaachalam ya venkataachalam parvat shrenee kee chotee tirumaala pahaad par tirupati mandir sthit hai. bhagavaan venkatesh ko vishnu ka avataar maana jaata hai. bhagavaan vishnu yahaan venkateshvar, shreenivaas aur baalaajee naam se prasiddh hain.

tirupati baalaajee ke darshan (tirupati balaji darshan)

hindoo dharmaavalambee tirupati baalaajee ke darshan ko apane jeevan ka aisa mahattvapoorn pal maanate hain, jo jeevan ko sakaaraatmak disha deta hai. desh-videsh ke hindoo bhakt aur shraddhaalugan yahaan aakar daan karate hain, jo dhan, heere, sone-chaandee ke aabhooshanon ke roop mein hota hai. is daan ke peechhe bhee praacheen maanyataen judee hain. jisake anusaar bhagavaan se jo kuchh bhee maanga jaata hai, vah kaamana pooree ho jaatee hai. ek maanyata ke anusaar bhagavaan baalaajee se maangee muraad pooree hone par shraddhaalu tirupati ke is baalaajee mandir mein shraddha aur aastha ke saath apane sir ke baalon ko katavaate hain.

tirupati baalaajee kee katha (tirupati balaji taimplai story in hindi)

varaah puraan mein venkataachalam ya tirumaala ko aadi varaah kshetr likha gaya hai. vaayu puraan mein tirupati kshetr ko bhagavaan vishnu ka vaikunth ke baad doosara sabase priy nivaas sthaan likha gaya hai jabaki skandapuraan mein varnan hai ki tirupati baalaajee ka dhyaan maatr karane se vyakti svayan ke saath usakee anek peedhiyon ka kalyaan ho jaata hai aur vah vishnulok ko paata hai. puraanon kee maanyata hai ki venkatam parvat vaahan garud dvaara bhoolok mein laaya gaya bhagavaan vishnu ka kreedaasthal hai. venkatam parvat sheshaachalam ke naam se bhee jaana jaata hai. sheshaachalam ko sheshanaag ke avataar ke roop mein dekha jaata hai. isake saat parvat sheshanaag ke phan maane jaate hai. varaah puraan ke anusaar tirumalaee mein pavitr pushkarinee nadee ke tat par bhagavaan vishnu ne hee shreenivaas ke roop mein avataar liya. aisee maanyata hai ki is sthaan par svayan brahmadev bhee raatri mein mandir ke pat band hone par any devataon ke saath bhagavaan venkatesh kee pooja karate hain.

Comments

comments