Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » तुलसी – एक जीवनदायक पौधा

तुलसी – एक जीवनदायक पौधा

tulasee-ek-jeevanadaayak-paudha

tulasee-ek-jeevanadaayak-paudha

67

तुलसी का हिंदू संस्कृति में अत्यधिक धार्मिक महत्त्व है – इस रूप में तुलसी की पूजा की जाती है। तुलसी का हमारे औषधिशास्त्र से भी अत्यंत गहरा संबंध है। लगभग सभी रोगों में अनुपान-भेद और मिश्रण के साथ इसका प्रयोग किया जा सकता है। तुलसी या मकरध्वज आयुर्वेद जगत में प्रत्येक रोग में काम आनेवालौ औषधियों में प्रमुख है, जिसकी प्रयोग विधि जान लेने से वैद्य संसार के लगभग सभी रोगों से लड़ सकता है। विष्णुपुराण, ब्रह्मपुराण, स्कंदपुराण, देवीभागवत आदि के अनुसार तुलसी की उत्पत्ति की अनेक कथाएं हैं, पर एक कथा के अनुसार समुद्र-मंथन करते समय जब अमृत निकला तब कलश को देखकर श्रम की सार्थकता से अभिभूत होकर देवताओं के नेत्रों से अश्रुस्राव हो उठा और उन बूंदों से तुलसी उत्पन्न हुई। तुलसी मुख्यतया कृष्ण तुलसी, श्वेत तुलसी, गंधा तुलसी, राम-तुलसी, वन-तुलसी, बिल्वगंध-तुलसी, बर्बरी-तुलसी के नाम से जानी जाती है।

तुलसी को सर्वरोग-संहारक-प्रवृत्ति के कारण ही घर में घरेलू वस्तु की श्रेणी में रखा गया है। इसकी गंध से मलेरिया के मच्छर दूर भाग जाते हैं। तुलसी के पौधे में प्रबल विद्युत्-शक्ति होती है, जो पौधे के चारों ओर दो सौ गज तक रहती है। आयुर्वेद के मत से तुलसी का कटु-तिक्त रस हृदयग्राही और पित्तनाशक है। यह कुष्ठ, पथरी, रक्तदोष, पसलियों के दर्द, चर्मरोग, कफ और वायुजनित रोगों का नाशक है। कृष्ण और शुक्ल दोनों तुलसी के गुण समान हैं। तुलसी-काष्ठ धारण करने से शरीर की विद्युत्-शक्ति नष्ट नहीं होती, इसी कारण उसकी माला पहनने का प्रचलन है।

तुलसी के पौधे की देखभाल करने के लिए कुछ मुख्य बातें ध्यान में रखनी चाहिए। प्रथम यदि तुलसीदल को तोड़े तो उसकी मंजरी और पास के पत्ते तोड़ने चाहिए, जिससे पौधे की बढ़ती अधिक हो। यही नहीं, मंजरी के पास तोड़ने से पौधा खूब बढ़ता है। यदि पत्तों में छेद दिखाई देने लगे तो कंडों की राख का कीटनाशक औषधियों के रूप में प्रयोग करना चाहिए। उबली चाय की पत्ती को धोकर तुलसी की श्रेष्ठ खाद के रूप में प्रयुक्त किया जा सकता है।

जून, जुलाई अगस्त – इन मासों में रोपने से तुलसी शीघ्र अंकुरित होती है। तुलसी-काष्ठ के टुकड़ों की माला पहनने से किसी प्रकार की संक्रामक बीमारी का भय नहीं रहता। इसके पत्ते दांतों से नहीं चबाने चाहिए; क्योंकि पत्तियों में पारा होने के कारण दंतशूल हो जाता है, अत: इसे निगलना ही श्रेयस्कर है। बर्रे, भौंरा, बिच्छू के काटने पर उस स्थान पर तुलसी के पत्ते का रस या पत्ता पीसकर पुलटिस की भांति बांध देने से जलन नष्ट हो जाती है। सर्पदंशित व्यक्ति को तुलसी के पत्तों का रस पिला देने से विष उतर सकता है। कुष्ठरोगी, वात-रक्त, मलेरिया से पीड़ित व्यक्तियों को एक से सात पत्ते तक निगलने चाहिए।

हिंदू शास्त्रों में लिखा है कि जिनके घर में लहलहाता तुलसी का पौधा रहता है, उनके यहां वज्रपात नहीं हो सकता अर्थात् जब तुलसी अचानक प्राकृतिक रूप से नष्ट हो जाए, तब समझना चाहिए कि घर परे कोई भारी संकट आने वाला है। काली तुलसी का रस शरीर से पारे का विष नष्ट कर सकता है। तुलसी की चाय नित्य कई बार पीना स्वास्थ्य का प्रतीक है, जबकि सामान्य चाय व्यवशार में हानि पहुंचाती है। कर्णशूल और जुकाम में तुलसी के पत्ते का रस निकालकर गरम करके ठंडा होने पर सेवन करने से तुरंत आराम मिलता है।

मंजरी (फूल) को सुखाकर उसके बीज निकालकर बच्चों को खाना खाने के बाद देना चाहिए, जिससे मुखशुद्धि के साथ-साथ पेट के कृमि भी मर जाते हैं। यह नपुंसकता को नष्ट कर देती है। मंजरी हारमोन्स की वृद्धि भी करती है। इसमें प्रोटीन भारी मात्रा में है। पत्तों के रस में नींबी का रस मिलाकर प्रयोग करने से चर्मरोगों में विशेष तौर से प्रयोग किया जा सकता है। तुलसी के पत्तों में एक प्रकार की पीली आभा लिए हरे रंग का तेल होता है। कुछ देर तक रख देने से इसमें दाना बनता है। इसका नाम बेसिल कैंफर (BASIL CAMPHOR) है, जो कि औषधि उपयोग की वस्तु है, जिसे निर्मित कर और विदेशों में निर्यात कर विदेशी मुद्रा का साधन बनाया जा सकता है।

अब तुलसी का धार्मिक और सांस्कृतिक महत्त्व भी जान लेना का आवश्यक है। अपने घर में तुलसी का पौधा रोपने से तथा उसका दर्शन करने से ब्रह्महत्या जैसे पाप भी नष्ट हो जाते हैं। हजारों आम और पीपल लगाने का जो फल है, वह एक तुलसी को रोपने का है। कार्तिक मास में तुलसी की जड़ में जो शाम को दीपक जलाते हैं, उनके घर में श्री और संतान की वृद्धि होती है तथा जो तुलसी की मंजरी को श्रवण-भाद्रपद में भगवान विष्णु को चंदनसहित अर्पित करते हैं, वे लोग मृत्य के पश्चात विष्णुलोक को जाते हैं। तुलसी को रोपने तथा उसे दूध से सींचने पर स्थिर लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। तुलसी की मृत्तिका को माथे पर लगाने से तेजस्विता बढ़ती है। तुलसी-युक्त जल से स्नान करते समय ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ का जप करने से प्रेत-बाधा से मुक्ति मिलती है।

तुलसी के पत्ते एक माह तक बासी नहीं माने जाते। तुलसी के स्तोत्र, मंत्र, कवच आदि के पठन और पूजन से भोग एवं मोक्ष की प्राप्ति होती है तथा समस्त इच्छाएं पूरी हो जाती हैं। ऐसा देवीभागवतपुराण में लिखा है। ‘वृंदा, वृंदावनी, विश्वपावनी, विश्वपूजिता, पुष्पसारा, नंदिनी, तुलसी तथा कृष्णजीवनी’ – इन आठ नामों के जप से अश्वमेश यज्ञ का फल प्राप्त होता है।

तुलसी की छाया में श्राद्ध करने से पितरों को अक्षय तृप्ति मिलती है। तुलसी का चयन गणेश-पूजन में, पूर्णिमा, अमावास्या, एकादशी, संक्रांति काल तथा कार्तिक-द्वादशी में निषिद्ध है। इसके सिवाय तेल की मालिश करके बिना नहाए, संध्या के समय, रात्रि को एवं अशुद्ध अवस्था में भी निषिद्ध है।

संक्षेप में यह तुलसी का धार्मिक एवं औषधिजनित महत्त्व है, इसलिए घर-घर में तुलसी का पौधा अवश्य लगाना चाहिए।

wish4me in English

tulasee ka hindoo sanskrti mein atyadhik dhaarmik mahattv hai – is roop mein tulasee kee pooja kee jaatee hai. tulasee ka hamaare aushadhishaastr se bhee atyant gahara sambandh hai. lagabhag sabhee rogon mein anupaan-bhed aur mishran ke saath isaka prayog kiya ja sakata hai. tulasee ya makaradhvaj aayurved jagat mein pratyek rog mein kaam aanevaalau aushadhiyon mein pramukh hai, jisakee prayog vidhi jaan lene se vaidy sansaar ke lagabhag sabhee rogon se lad sakata hai. vishnupuraan, brahmapuraan, skandapuraan, deveebhaagavat aadi ke anusaar tulasee kee utpatti kee anek kathaen hain, par ek katha ke anusaar samudr-manthan karate samay jab amrt nikala tab kalash ko dekhakar shram kee saarthakata se abhibhoot hokar devataon ke netron se ashrusraav ho utha aur un boondon se tulasee utpann huee. tulasee mukhyataya krshn tulasee, shvet tulasee, gandha tulasee, raam-tulasee, van-tulasee, bilvagandh-tulasee, barbaree-tulasee ke naam se jaanee jaatee hai.

tulasee ko sarvarog-sanhaarak-pravrtti ke kaaran hee ghar mein ghareloo vastu kee shrenee mein rakha gaya hai. isakee gandh se maleriya ke machchhar door bhaag jaate hain. tulasee ke paudhe mein prabal vidyut-shakti hotee hai, jo paudhe ke chaaron or do sau gaj tak rahatee hai. aayurved ke mat se tulasee ka katu-tikt ras hrdayagraahee aur pittanaashak hai. yah kushth, patharee, raktadosh, pasaliyon ke dard, charmarog, kaph aur vaayujanit rogon ka naashak hai. krshn aur shukl donon tulasee ke gun samaan hain. tulasee-kaashth dhaaran karane se shareer kee vidyut-shakti nasht nahin hotee, isee kaaran usakee maala pahanane ka prachalan hai.

tulasee ke paudhe kee dekhabhaal karane ke lie kuchh mukhy baaten dhyaan mein rakhanee chaahie. pratham yadi tulaseedal ko tode to usakee manjaree aur paas ke patte todane chaahie, jisase paudhe kee badhatee adhik ho. yahee nahin, manjaree ke paas todane se paudha khoob badhata hai. yadi patton mein chhed dikhaee dene lage to kandon kee raakh ka keetanaashak aushadhiyon ke roop mein prayog karana chaahie. ubalee chaay kee pattee ko dhokar tulasee kee shreshth khaad ke roop mein prayukt kiya ja sakata hai.

joon, julaee agast – in maason mein ropane se tulasee sheeghr ankurit hotee hai. tulasee-kaashth ke tukadon kee maala pahanane se kisee prakaar kee sankraamak beemaaree ka bhay nahin rahata. isake patte daanton se nahin chabaane chaahie; kyonki pattiyon mein paara hone ke kaaran dantashool ho jaata hai, at: ise nigalana hee shreyaskar hai. barre, bhaunra, bichchhoo ke kaatane par us sthaan par tulasee ke patte ka ras ya patta peesakar pulatis kee bhaanti baandh dene se jalan nasht ho jaatee hai. sarpadanshit vyakti ko tulasee ke patton ka ras pila dene se vish utar sakata hai. kushtharogee, vaat-rakt, maleriya se peedit vyaktiyon ko ek se saat patte tak nigalane chaahie.

hindoo shaastron mein likha hai ki jinake ghar mein lahalahaata tulasee ka paudha rahata hai, unake yahaan vajrapaat nahin ho sakata arthaat jab tulasee achaanak praakrtik roop se nasht ho jae, tab samajhana chaahie ki ghar pare koee bhaaree sankat aane vaala hai. kaalee tulasee ka ras shareer se paare ka vish nasht kar sakata hai. tulasee kee chaay nity kaee baar peena svaasthy ka prateek hai, jabaki saamaany chaay vyavashaar mein haani pahunchaatee hai. karnashool aur jukaam mein tulasee ke patte ka ras nikaalakar garam karake thanda hone par sevan karane se turant aaraam milata hai.

manjaree (phool) ko sukhaakar usake beej nikaalakar bachchon ko khaana khaane ke baad dena chaahie, jisase mukhashuddhi ke saath-saath pet ke krmi bhee mar jaate hain. yah napunsakata ko nasht kar detee hai. manjaree haaramons kee vrddhi bhee karatee hai. isamen proteen bhaaree maatra mein hai. patton ke ras mein neembee ka ras milaakar prayog karane se charmarogon mein vishesh taur se prayog kiya ja sakata hai. tulasee ke patton mein ek prakaar kee peelee aabha lie hare rang ka tel hota hai. kuchh der tak rakh dene se isamen daana banata hai. isaka naam besil kaimphar (basil champhor) hai, jo ki aushadhi upayog kee vastu hai, jise nirmit kar aur videshon mein niryaat kar videshee mudra ka saadhan banaaya ja sakata hai.

ab tulasee ka dhaarmik aur saanskrtik mahattv bhee jaan lena ka aavashyak hai. apane ghar mein tulasee ka paudha ropane se tatha usaka darshan karane se brahmahatya jaise paap bhee nasht ho jaate hain. hajaaron aam aur peepal lagaane ka jo phal hai, vah ek tulasee ko ropane ka hai. kaartik maas mein tulasee kee jad mein jo shaam ko deepak jalaate hain, unake ghar mein shree aur santaan kee vrddhi hotee hai tatha jo tulasee kee manjaree ko shravan-bhaadrapad mein bhagavaan vishnu ko chandanasahit arpit karate hain, ve log mrty ke pashchaat vishnulok ko jaate hain. tulasee ko ropane tatha use doodh se seenchane par sthir lakshmee kee praapti hotee hai. tulasee kee mrttika ko maathe par lagaane se tejasvita badhatee hai. tulasee-yukt jal se snaan karate samay ‘om namo bhagavate vaasudevaay’ ka jap karane se pret-baadha se mukti milatee hai.

tulasee ke patte ek maah tak baasee nahin maane jaate. tulasee ke stotr, mantr, kavach aadi ke pathan aur poojan se bhog evan moksh kee praapti hotee hai tatha samast ichchhaen pooree ho jaatee hain. aisa deveebhaagavatapuraan mein likha hai. ‘vrnda, vrndaavanee, vishvapaavanee, vishvapoojita, pushpasaara, nandinee, tulasee tatha krshnajeevanee’ – in aath naamon ke jap se ashvamesh yagy ka phal praapt hota hai.

tulasee kee chhaaya mein shraaddh karane se pitaron ko akshay trpti milatee hai. tulasee ka chayan ganesh-poojan mein, poornima, amaavaasya, ekaadashee, sankraanti kaal tatha kaartik-dvaadashee mein nishiddh hai. isake sivaay tel kee maalish karake bina nahae, sandhya ke samay, raatri ko evan ashuddh avastha mein bhee nishiddh hai.

sankshep mein yah tulasee ka dhaarmik evan aushadhijanit mahattv hai, isalie ghar-ghar mein tulasee ka paudha avashy lagaana chaahie.

Comments

comments