Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Pooja Paath » तुलसी-विवाह Tulasee vivaah

तुलसी-विवाह Tulasee vivaah

tulasee-vivaah

tulasee-vivaah

Tulasee vivaah

Tulasee vivaah

प्राचीन ग्रंथों में तुलसी विवाह व्रत की अनेक कथाएं दी हुई हैं. उन कथाओं में से एक कथा निम्न है. इस कथा के अनुसार एक कुटुम्ब में ननद तथा भाभी साथ रहती थी. ननद का विवाह अभी नहीं हुआ था. वह तुलसी के पौधे की बहुत सेवा करती थी. लेकिन उसकी भाभी को यह सब बिलकुल भी पसन्द नहीं था. जब कभी उसकी भाभी को अत्यधिक क्रोध आता तब वह उसे ताना देते हुए कहती कि जब तुम्हारा विवाह होगा तो मैं तुलसी ही बारातियों को खाने को दूंगी और तुम्हारे दहेज में भी तुलसी ही दूंगी.

कुछ समय बीत जाने पर ननद का विवाह पक्का हुआ. विवाह के दिन भाभी ने अपनी कथनी अनुसार बारातियों के सामने तुलसी का गमला फोड़ दिया और खाने के लिए कहा. तुलसी की कृपा से वह फूटा हुआ गमला अनेकों स्वादिष्ट पकवानों में बदल गया. भाभी ने गहनों के नाम पर तुलसी की मंजरी से बने गहने पहना दिए. वह सब भी सुन्दर सोनेजवाहरात में बदल गए. भाभी ने वस्त्रों के स्थान पर तुलसी का जनेऊ रख दिया. वह रेशमी तथा सुन्दर वस्त्रों में बदल गया.

ननद की ससुराल में उसके दहेज की बहुत प्रशंसा की गई. यह बात भाभी के कानों तक भी पहुंची. उसे बहुत आश्चर्य हुआ. उसे अब तुलसी माता की पूजा का महत्व समझ आया. भाभी की एक लड़की थी. वह अपनी लड़की से कहने लगी कि तुम भी तुलसी की सेवा किया करो. तुम्हें भी बुआ की तरह फल मिलेगा. वह जबर्दस्ती अपनी लड़की से सेवा करने को कहती लेकिन लड़की का मन तुलसी सेवा में नहीं लगता था.

लड़की के बडी़ होने पर उसके विवाह का समय आता है. तब भाभी सोचती है कि जैसा व्यवहार मैने अपनी ननद के साथ किया था वैसा ही मैं अपनी लड़की के साथ भी करती हूं तो यह भी गहनों से लद जाएगी और बारातियों को खाने में पकवान मिलेंगें. ससुराल में इसे भी बहुत इज्जत मिलेगी. यह सोचकर वह बारातियों के सामने तुलसी का गमला फोड़ देती है. लेकिन इस बार गमले की मिट्टी, मिट्टी ही रहती है. मंजरी तथा पत्ते भी अपने रुप में ही रहते हैं. जनेऊ भी अपना रुप नही बदलता है. सभी लोगों तथा बारातियों द्वारा भाभी की बुराई की जाती है. लड़की के ससुराल वाले भी लड़की की बुराई करते हैं.

भाभी कभी ननद को नहीं बुलाती थी. भाई ने सोचा मैं बहन से मिलकर आता हूँ. उसने अपनी पत्नी से कहा और कुछ उपहार बहन के पास ले जाने की बात कही. भाभी ने थैले में ज्वार भरकर कहा कि और कुछ नहीं है तुम यही ले जाओ. वह दुखी मन से बहन के पास चल दिया. वह सोचता रहा कि कोई भाई अपने बहन के घर जुवार कैसे ले जा सकता है. यह सोचकर वह एक गौशला के पास रुका और जुवार का थैला गाय के सामने पलट दिया. तभी गाय पालने वाले ने कहा कि आप गाय के सामने हीरेमोती तथा सोना क्यों डाल रहे हो. भाई ने सारी बात उसे बताई और धन लेकर खुशी से अपनी बहन के घर की ओर चल दिया. दोनों बहनभाई एकदूसरे को देखकर अत्यंत प्रसन्न होते हैं.

[To English Wish4me]

praacheen grnthon men tulasee vivaah vrat kee anek kathaaen dee huii hain. Un kathaaon men se ek kathaa nimn hai. Is kathaa ke anusaar ek kuṭumb men nanad tathaa bhaabhee saath rahatee thee. Nanad kaa vivaah abhee naheen huaa thaa. Vah tulasee ke paudhe kee bahut sevaa karatee thee. Lekin usakee bhaabhee ko yah sab bilakul bhee pasand naheen thaa. Jab kabhee usakee bhaabhee ko atyadhik krodh aataa tab vah use taanaa dete hue kahatee ki jab tumhaaraa vivaah hogaa to main tulasee hee baaraatiyon ko khaane ko doongee aur tumhaare dahej men bhee tulasee hee doongee.

Kuchh samay beet jaane par nanad kaa vivaah pakkaa huaa. Vivaah ke din bhaabhee ne apanee kathanee anusaar baaraatiyon ke saamane tulasee kaa gamalaa fod diyaa aur khaane ke lie kahaa. Tulasee kee kripaa se vah fooṭaa huaa gamalaa anekon svaadiṣṭ pakavaanon men badal gayaa. Bhaabhee ne gahanon ke naam par tulasee kee mnjaree se bane gahane pahanaa die. Vah sab bhee sundar sone – javaaharaat men badal gae. Bhaabhee ne vastron ke sthaan par tulasee kaa janeoo rakh diyaa. Vah reshamee tathaa sundar vastron men badal gayaa.

Nanad kee sasuraal men usake dahej kee bahut prashnsaa kee gaii. Yah baat bhaabhee ke kaanon tak bhee pahunchee. Use bahut aashchary huaa. Use ab tulasee maataa kee poojaa kaa mahatv samajh aayaa. Bhaabhee kee ek ladkee thee. Vah apanee ladkee se kahane lagee ki tum bhee tulasee kee sevaa kiyaa karo. Tumhen bhee buaa kee tarah fal milegaa. Vah jabardastee apanee ladkee se sevaa karane ko kahatee lekin ladkee kaa man tulasee sevaa men naheen lagataa thaa.

Ladkee ke baḍaeex hone par usake vivaah kaa samay aataa hai. Tab bhaabhee sochatee hai ki jaisaa vyavahaar maine apanee nanad ke saath kiyaa thaa vaisaa hee main apanee ladkee ke saath bhee karatee hoon to yah bhee gahanon se lad jaaegee aur baaraatiyon ko khaane men pakavaan milengen. Sasuraal men ise bhee bahut ijjat milegee. Yah sochakar vah baaraatiyon ke saamane tulasee kaa gamalaa fod detee hai. Lekin is baar gamale kee miṭṭee, miṭṭee hee rahatee hai. Mnjaree tathaa patte bhee apane rup men hee rahate hain. Janeoo bhee apanaa rup nahee badalataa hai. Sabhee logon tathaa baaraatiyon dvaaraa bhaabhee kee buraaii kee jaatee hai. Ladkee ke sasuraal vaale bhee ladkee kee buraaii karate hain.

Bhaabhee kabhee nanad ko naheen bulaatee thee. Bhaaii ne sochaa main bahan se milakar aataa hoon. Usane apanee patnee se kahaa aur kuchh upahaar bahan ke paas le jaane kee baat kahee. Bhaabhee ne thaile men jvaar bharakar kahaa ki aur kuchh naheen hai tum yahee le jaao. Vah dukhee man se bahan ke paas chal diyaa. Vah sochataa rahaa ki koii bhaaii apane bahan ke ghar juvaar kaise le jaa sakataa hai. Yah sochakar vah ek gaushalaa ke paas rukaa aur juvaar kaa thailaa gaay ke saamane palaṭ diyaa. Tabhee gaay paalane vaale ne kahaa ki aap gaay ke saamane heere-motee tathaa sonaa kyon ḍaal rahe ho. Bhaaii ne saaree baat use bataaii aur dhan lekar khushee se apanee bahan ke ghar kee or chal diyaa. Donon bahan-bhaaii ek-doosare ko dekhakar atynt prasann hote hain.

Comments

comments