Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » खुद तकलीफ का स्वाद चखे बिना किसी को दूसरे की विपत्ति का अहसास नहीं होता है

खुद तकलीफ का स्वाद चखे बिना किसी को दूसरे की विपत्ति का अहसास नहीं होता है

unable-to-understand-others-pain-until-face-problem-story

unable-to-understand-others-pain-until-face-problem-story

kind-indian

एक बादशाह अपने कुत्ते के साथ नाव में यात्रा कर रहा था । उस नाव में अन्य यात्रियों के साथ एक दार्शनिक भी था ।
.
कुत्ते ने कभी नौका में सफर नहीं किया था, इसलिए वह अपने को सहज महसूस नहीं कर पा रहा था । वह उछल-कूद कर रहा था और किसी को चैन से नहीं बैठने दे रहा था ।
.
मल्लाह उसकी उछल-कूद से परेशान था कि ऐसी स्थिति में यात्रियों की हड़बड़ाहट से नाव डूब जाएगी । वह भी डूबेगा और दूसरों को भी ले डूबेगा । परन्तु कुत्ता अपने स्वभाव के कारण उछल-कूद में लगा था । ऐसी स्थिति देखकर बादशाह भी गुस्से में था । पर, कुत्ते को सुधारने का कोई उपाय उन्हें समझ में नहीं आ रहा था ।
.
नाव में बैठे दार्शनिक से रहा नहीं गया । वह बादशाह के पास गया और बोला – “सरकार ! अगर आप इजाजत दें तो मैं इस कुत्ते को भीगी बिल्ली बना सकता हूँ ।” बादशाह ने तत्काल अनुमति दे दी । दार्शनिक ने दो यात्रियों का सहारा लिया और उस कुत्ते को नाव से उठाकर नदी में फेंक दिया । कुत्ता तैरता हुआ नाव के खूंटे को पकड़ने लगा । उसको अब अपनी जान के लाले पड़ रहे थे । कुछ देर बाद दार्शनिक ने उसे खींचकर नाव में चढ़ा लिया ।
.
——————–
.
वह कुत्ता चुपके से जाकर एक कोने में बैठ गया । नाव के यात्रियों के साथ बादशाह को भी उस कुत्ते के बदले व्यवहार पर बड़ा आश्चर्य हुआ । बादशाह ने दार्शनिक से पूछा – “यह पहले तो उछल-कूद और हरकतें कर रहा था, अब देखो कैसे यह पालतू बकरी की तरह बैठा है ?”
.
दार्शनिक बोला –

“खुद तकलीफ का स्वाद चखे बिना किसी को दूसरे की विपत्ति का अहसास नहीं होता है । इस कुत्ते को जब मैंने पानी में फेंक दिया तो इसे पानी की ताकत और नाव की उपयोगिता समझ में आ गयी ।”

मेरे देश में रहकर मेरे देश को गाली देने वालों के लिए..

In English

ek baadashaah apane kutte ke saath naav mein yaatra kar raha tha . us naav mein any yaatriyon ke saath ek daarshanik bhee tha .
.
kutte ne kabhee nauka mein saphar nahin kiya tha, isalie vah apane ko sahaj mahasoos nahin kar pa raha tha . vah uchhal-kood kar raha tha aur kisee ko chain se nahin baithane de raha tha .
.
mallaah usakee uchhal-kood se pareshaan tha ki aisee sthiti mein yaatriyon kee hadabadaahat se naav doob jaegee . vah bhee doobega aur doosaron ko bhee le doobega . parantu kutta apane svabhaav ke kaaran uchhal-kood mein laga tha . aisee sthiti dekhakar baadashaah bhee gusse mein tha . par, kutte ko sudhaarane ka koee upaay unhen samajh mein nahin aa raha tha .
.
naav mein baithe daarshanik se raha nahin gaya . vah baadashaah ke paas gaya aur bola – “sarakaar ! agar aap ijaajat den to main is kutte ko bheegee billee bana sakata hoon .” baadashaah ne tatkaal anumati de dee . daarshanik ne do yaatriyon ka sahaara liya aur us kutte ko naav se uthaakar nadee mein phenk diya . kutta tairata hua naav ke khoonte ko pakadane laga . usako ab apanee jaan ke laale pad rahe the . kuchh der baad daarshanik ne use kheenchakar naav mein chadha liya .
.
——————–
.
vah kutta chupake se jaakar ek kone mein baith gaya . naav ke yaatriyon ke saath baadashaah ko bhee us kutte ke badale vyavahaar par bada aashchary hua . baadashaah ne daarshanik se poochha – “yah pahale to uchhal-kood aur harakaten kar raha tha, ab dekho kaise yah paalatoo bakaree kee tarah baitha hai ?”
.
daarshanik bola –

“khud takaleeph ka svaad chakhe bina kisee ko doosare kee vipatti ka ahasaas nahin hota hai . is kutte ko jab mainne paanee mein phenk diya to ise paanee kee taakat aur naav kee upayogita samajh mein aa gayee .”

mere desh mein rahakar mere desh ko gaalee dene vaalon ke lie..

Comments

comments