Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Goddess » वेदवती का रावण को श्राप

वेदवती का रावण को श्राप

vedvati-ka-ravan-ko-shrap

vedvati-ka-ravan-ko-shrap

 

vedvati ka ravan ko shrap Story

राजा धर्मद्वज का कुशध्वज नामक एक धर्मात्मा भाई था। उसका विवाह मालावती नामक युवती से हुआ। धर्मध्वज के भांति कुशध्वज भी भगवती जगदम्बा का अनन्य भक्त था। वह प्रतिदिन उनके मायाबीज मंत्र का जाप करता था। भगवती कि कृपा से कुशध्वज के घर एक सुन्दर कन्या उत्पन्न हुई। वह कन्या महालक्ष्मी का अंश थी। जन्म लेते ही वह कन्या वेद मंत्रो का उच्चारण करते हुए सुतिकाग्रिः से बाहर निकल आई। अतःविद्वानों ने उसका नाम वेदवती रखा।
माता पिता के भांति वेदवती के ह्रदय में भी भक्ति का अथाह सागर उमड़ रहा था। युवा होने पर उसने घर त्याग दिया और पुष्कर क्षेत्र मे जाकर कठोर तपस्या करने लगी। उसने कई वर्षों तक निराहार रहकर कठोर तप किया, लेकिन फिर भी उसका शरीर सुन्दर और हृष्ट पृष्ट रहा। उसकी तपस्या का एकमात्र उद्देश्य भगवान विष्णु को प्राप्त करना था।
एक दिन वह ध्यान में लीन थी कि तभी एक आकाशवाणी हुई-“देवी! तुम जिन परब्रम्ह को पाने के लिए कठोर तप कर रही हो,अगले जन्म में तुम्हे उनकी पत्नी बनने का सौभाग्य प्राप्त होगा। भगवान् विष्णु स्वयं पत्नी रूप में तुम्हारा वरण करेंगे। सहस्रों वर्षो तक कठोर तप करने के बाद भी ऋषि-मुनिगण जिनके दुर्लभ दर्शनों के लिए तरसते रहते है, वे परब्रम्ह अपने चरणों में स्थान प्रदान करेंगे।”
आकाशवाणी सुनकर वेदवती का उद्वेलित ह्रदय शांत हो गया फिर वह हिमालय पर जाकर पहले से अधिक कठोर तप करने लगी।
उन दिनों सम्पूर्ण दक्षिण दिशा में दैत्यराज रावण का अधिकार था। रावण ने अपने बल, पराक्रम और दिव्य शक्तियों द्वारा देवताओं को भी पराजित कर दिया था। उसके नाम से दसों दिशाएं कापती थी। यक्ष, गन्धर्व, देवगण सभी भयभीत होकर उसकी स्तुति करते थे।
एक दिन भ्रमण करते हुए रावण कि दृष्टि वेदवती पर पड़ी। वेदवती के रूप सौंदर्य और यौवन को देखकर वह उस पर मोहित हो गया। वह वेदवती के पास गया और बोला,”हे सुंदरी, तुम कौन हो और इस निर्जन वन में क्या कर रही हो? तुम्हारा सौन्दर्य अप्सराओं को भी चुनौती दे रहा है। अवश्य तुम देवलोक की कोई सुंदरी हो। सुंदरी मै तुमसे विवाह कर तुम्हे अपनी पटरानी बनाना चाहता हूं। तुम मेरे साथ लंका चलो। मै तुम्हारे चरणों में अपना सारा ऐश्वर्य और वैभव अर्पित कर दूंगा।”
वेदवती ने रावण का प्रस्ताव अस्वीकार कर दिया और उसे लौट जाने के लिए कहा लेकिन रावण ने बल पूर्वक वेदवती का हाथ पकड़ लिया। तब वेदवती क्रोध में भर कर बोली,”पापी! तुने मुझे स्पर्श कर अपने काल को आमंत्रित किया है। मै तुझे श्राप देती हूं अगले जन्म में मै तेरे और तेरे वंश के नाश का कारण बनूँगी!”
इसके बाद वेदवती ने योगाग्नि में स्वयं को भस्म कर लिया शापित रावण लंका लौट गया।
त्रेता युग में वेदवती राजा जनक की कन्या सीता हुई। भगवान विष्णु के अंशावतार श्री राम ने सीता जी का वरण किया। वनवास के समय रावन सीता का हरण कर उन्हें लंका ले गया बाद में सीता को प्राप्त करने के लिए श्री राम ने रावण सहित उसके संपूर्ण वंश को नष्ट कर डाला। कहा जाता है कि द्वापर में वेदवती ने द्रौपदी के रूप में भी जन्म लिया था।


 

raaja dharmadvaj ka kushadhvaj naamak ek dharmaatma bhaee tha. usaka vivaah maalaavatee naamak yuvatee se hua. dharmadhvaj ke bhaanti kushadhvaj bhee bhagavatee jagadamba ka anany bhakt tha. vah pratidin unake maayaabeej mantr ka jaap karata tha. bhagavatee ki krpa se kushadhvaj ke ghar ek sundar kanya utpann huee. vah kanya mahaalakshmee ka ansh thee. janm lete hee vah kanya ved mantro ka uchchaaran karate hue sutikaagrih se baahar nikal aaee. atahvidvaanon ne usaka naam vedavatee rakha.
maata pita ke bhaanti vedavatee ke hraday mein bhee bhakti ka athaah saagar umad raha tha. yuva hone par usane ghar tyaag diya aur pushkar kshetr me jaakar kathor tapasya karane lagee. usane kaee varshon tak niraahaar rahakar kathor tap kiya, lekin phir bhee usaka shareer sundar aur hrsht prsht raha. usakee tapasya ka ekamaatr uddeshy bhagavaan vishnu ko praapt karana tha.
ek din vah dhyaan mein leen thee ki tabhee ek aakaashavaanee huee- “devee! tum jin parabramh ko paane ke lie kathor tap kar rahee ho, agale janm mein tumhe unakee patnee banane ka saubhaagy praapt hoga. bhagavaan vishnu svayan patnee roop mein tumhaara varan karenge . sahasron varsho tak kathor tap karane ke baad bhee rshi-munigan jinake durlabh darshanon ke lie tarasate rahate hai, ve parabramh apane charanon mein sthaan pradaan karenge. ”
aakaashavaanee sunakar vedavatee ka udvelit hraday shaant ho gaya phir vah himaalay par jaakar pahale se adhik kathor tap karane lagee.
un dinon sampoorn dakshin disha mein daityaraaj raavan ka adhikaar tha. raavan ne apane bal, paraakram aur divy shaktiyon dvaara devataon ko bhee paraajit kar diya tha. usake naam se dason dishaen kaapatee thee. yaksh, gandharv, devagan sabhee bhayabheet hokar usakee stuti karate the.
ek din bhraman karate hue raavan ki drshti vedavatee par padee. vedavatee ke roop saundary aur yauvan ko dekhakar vah us par mohit ho gaya. vah vedavatee ke paas gaya aur bola, “he sundaree, tum kaun ho aur is nirjan van mein kya kar rahee ho? tumhaara saundary apsaraon ko bhee chunautee de raha hai. avashy tum devalok kee koee sundaree ho. sundaree mai tumase vivaah kar tumhe apanee pataraanee banaana chaahata hoon. tum mere saath lanka chalo. mai tumhaare charanon mein apana saara aishvary aur vaibhav arpit kar doonga. ”
vedavatee ne raavan ka prastaav asveekaar kar diya aur use laut jaane ke lie kaha lekin raavan ne bal poorvak vedavatee ka haath pakad liya. tab vedavatee krodh mein bhar kar bolee, “paapee! tune mujhe sparsh kar apane kaal ko aamantrit kiya hai. mai tujhe shraap detee hoon agale janm mein mai tere aur tere vansh ke naash ka kaaran banoongee!”
isake baad vedavatee ne yogaagni mein svayan ko bhasm kar liya shaapit raavan lanka laut gaya.
treta yug mein vedavatee raaja janak kee kanya seeta huee. bhagavaan vishnu ke anshaavataar shree raam ne seeta jee ka varan kiya. vanavaas ke samay raavan seeta ka haran kar unhen lanka le gaya baad mein seeta ko praapt karane ke lie shree raam ne raavan sahit usake sampoorn vansh ko

Comments

comments