Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » वेलांकन्नी

वेलांकन्नी

velaankannee

velaankannee

velaankannee

velaankannee

वेलांकन्नी तमिलनाडु राज्य में बसा हुआ एक छोटा सा शहर है। यह तमिलनाडु के कोरोमंडल तट पर नागपट्टिनम के 12 किमी दक्षिण में स्थित है। यहां मौजूद तीर्थस्थान वेलांकन्नी (Velankanni) है जो कि “आर लेडी ऑफ हेल्थ” (Our Lady of Health) जिन्हें वर्जिन मैरी भी कहते हैं, को समर्पित है। रोगियों को दूर करने की क्षमता के कारण  यह स्थान बेहद लोकप्रिय है।

ईसाई मान्यता (Historical Belief and Story of Virgin Mary)
वर्जिन मैरी के बारे में माना जाता था कि वह चमत्कारी उपचार कर सकती थीं। उनके प्रति हमारी आस्था 16वीं शताब्दी के कुछ जाने माने चमत्कार के किस्सों से जुड़ी है। सन 1560 में वर्जिन मैरी ने एक चरवाहे से शिशु यीशु की प्यास बुझाने के लिए उससे दूध मांगा। जब वह चरवाहा यह नेक काम करने के बाद अपने गुरु के पास पहुंचा तो उसका घड़ा दूध से भरता रहा। नतीजतन वहां पर एक छोटा सा गिरजा घर बनवा दिया गया। 16वीं शताब्दी में एक बार फिर वर्जिन मैरी एक लंगड़े बच्चे के सामने प्रकट हुईं जिसके बाद से वह लड़का ठीक हो गया। तब इन किस्सों के बाद वर्जिन मैरी का यह चर्च बेसिलिका बनवाया गया।
परंपराएं (Tradition in Hindi)
इस बेसिलिका चर्च में वर्जिन मैरी से अच्छा स्वास्थ्य पाने के लिए कई तरह के रीति-रिवाज जुड़े हुए हैं जैसे कि यदि किसी को दिल की बीमारी है तो वह यहां दिल के आकार की कैंडल चढ़ाता है। ऐसा माना जाता है कि जब यहां पर प्रार्थना करने के बाद किसी की बीमारी ठीक हो रही हो तो वह अपने शरीर के उन बीमार अंगों से मिलते जुलते सोने और चांदी की प्रतिकृति चढ़ाते हैं। इस चर्च में एक छोटा सा संग्रहालय भी है जहां जिन लोगों की प्रार्थना स्वीकार कर ली गई हो उनके द्वारा चर्च में चढ़ाए गए भेंट की प्रदर्शनी लगी है।

wish4me to English

velaankannee tamilanaadu raajy mein basa hua ek chhota sa shahar hai. yah tamilanaadu ke koromandal tat par naagapattinam ke 12 kimee dakshin mein sthit hai. yahaan maujood teerthasthaan velaankannee (vailankanni) hai jo ki “aar ledee oph helth” (our lady of haialth) jinhen varjin mairee bhee kahate hain, ko samarpit hai. rogiyon ko door karane kee kshamata ke kaaran yah sthaan behad lokapriy hai.

eesaee maanyata (historichal bailiaif and story of virgin mary)
varjin mairee ke baare mein maana jaata tha ki vah chamatkaaree upachaar kar sakatee theen. unake prati hamaaree aastha 16veen shataabdee ke kuchh jaane maane chamatkaar ke kisson se judee hai. san 1560 mein varjin mairee ne ek charavaahe se shishu yeeshu kee pyaas bujhaane ke lie usase doodh maanga. jab vah charavaaha yah nek kaam karane ke baad apane guru ke paas pahuncha to usaka ghada doodh se bharata raha. nateejatan vahaan par ek chhota sa giraja ghar banava diya gaya. 16veen shataabdee mein ek baar phir varjin mairee ek langade bachche ke saamane prakat hueen jisake baad se vah ladaka theek ho gaya. tab in kisson ke baad varjin mairee ka yah charch besilika banavaaya gaya.
paramparaen (tradition in hindi)
is besilika charch mein varjin mairee se achchha svaasthy paane ke lie kaee tarah ke reeti-rivaaj jude hue hain jaise ki yadi kisee ko dil kee beemaaree hai to vah yahaan dil ke aakaar kee kaindal chadhaata hai. aisa maana jaata hai ki jab yahaan par praarthana karane ke baad kisee kee beemaaree theek ho rahee ho to vah apane shareer ke un beemaar angon se milate julate sone aur chaandee kee pratikrti chadhaate hain. is charch mein ek chhota sa sangrahaalay bhee hai jahaan jin logon kee praarthana sveekaar kar lee gaee ho unake dvaara charch mein chadhae gae bhent kee pradarshanee lagee hai.

Comments

comments