Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » व्यर्थ है मोह का बंधन

व्यर्थ है मोह का बंधन

vyarth-hai-moh-ka-bandhan

vyarth-hai-moh-ka-bandhan

sanskaar kya hain ?

vyarth hai moh ka bandhan

इतना मिल गया, इतना और मिल जाए फिर ऐसा मिलता ही रहें – ऐसे धन, जमीन, मकान, आदर, प्रशंसा, पद, अधिकार आदि की तरह बढ़ती हुई वृत्ति का नाम ‘लोभ’ है । जहां लड़ाई होती है, वहां समय, सम्पत्ति, शक्ति का नाश हो जाता है । तरह – तरह की चिंताएं और आपत्तियां आ जाती हैं । दो मित्रों में भी आपस में खटपट मच जाती है, मनोमालिन्य हो जाता है । कई तरह का मतभेद हो जाता है । मतभेद होने से वैरभाव हो जाता है । अभी हमारे पास जिन वस्तुओं का अभाव है, उन वस्तुओं के बिना भी हमारा काम चल रहा है, हम अच्छी तरह से जी रहे हैं । परंतु जब वे वस्तुएं हमें मिलने के बाद फिर बिछुड़ जाती हैं, तब उनके अभाव का बड़ा दु:ख होता है । तात्पर्य है कि पहले वस्तुओं का जो निरंतर अभाव था, वह इतना दु:खदायी नहीं था, जितना वस्तुओं का संयोग होकर फिर उनसे वियोग होना दु:खदायी है । ऐसे होने पर भी मनुष्य अपने पास जिन वस्तुओं का अभाव मानता है, उन वस्तुओं को वह लोभ के कारण पाने की चेष्टा करता रहता है । विचार किया जाएं तो जिन वस्तुओं का अभी अभाव है, बीच में प्रारब्धानुसार उनकी प्राप्ति होने पर भी अंत में उनका अभाव ही रहेगा । अत: हमारी तो वहीं अवस्था रही, जो कि वस्तुओं के मिलने से पहले थी । बीच में लोभ के कारण उन वस्तुओं को पाने के लिए केवल परिश्रम – ही – परिश्रम पल्ले पड़ा, दु:ख ही दु:ख भोगना पड़ा । बीच में वस्तुओं के संयोग से जो थोड़ा सा सुख हुआ है, वह तो केवल लोभ के कारण ही हुआ है । अगर भीतर में लोभ – रूपी दोष न हो, तो वस्तुओं के संयोग से सुख हो ही नहीं सकता । ऐसे ही मोहरूपी दोष न हो, तो कुटुम्बियों से सुख हो ही नहीं सकता । लालच रूपी दोष न हो, तो संग्रह का सुख हो ही नहीं सकता । तात्पर्य है कि संसार का सुख किसी न किसी दोष से ही होता है । कोई भी दोष न होने पर संसार से सुख हो ही नहीं सकता । परंतु लोभ के कारण मनुष्य ऐसा विचार कर ही नहीं सकता । यह लोभ उसके विवेक – विचार को लुप्त कर देता है । यह नियम है कि मनुष्य की दृष्टि जबतक दूसरों के दोष की तरह रहती है, तब तक उसको अपना दोष नहीं दिखता, उल्टे एक अभिमान होता है कि इनमें तो यह दोष है, पर हमारे में यह दोष नहीं है । ऐसी अवस्था में वह यह सोच ही नहीं सकता कि अगर इनमें कोई दोष है तो हमारे में भी कोई दूसरा दोष हो सकता है । दूसरा दोष यदि न भी हो, तो भी दूसरों का दोष देखना – यह दोष तो है ही । अत: स्वयं से मोहरूपी दोष को त्याग कर उचित पथ पर अग्रसित हो ।

wish4me to English

itana mil gaya, itana aur mil jae phir aisa milata hee rahen – aise dhan, jameen, makaan, aadar, prashansa, pad, adhikaar aadi kee tarah badhatee huee vrtti ka naam ‘lobh’ hai . jahaan ladaee hotee hai, vahaan samay, sampatti, shakti ka naash ho jaata hai . tarah – tarah kee chintaen aur aapattiyaan aa jaatee hain . do mitron mein bhee aapas mein khatapat mach jaatee hai, manomaaliny ho jaata hai . kaee tarah ka matabhed ho jaata hai . matabhed hone se vairabhaav ho jaata hai . abhee hamaare paas jin vastuon ka abhaav hai, un vastuon ke bina bhee hamaara kaam chal raha hai, ham achchhee tarah se jee rahe hain . parantu jab ve vastuen hamen milane ke baad phir bichhud jaatee hain, tab unake abhaav ka bada du:kh hota hai . taatpary hai ki pahale vastuon ka jo nirantar abhaav tha, vah itana du:khadaayee nahin tha, jitana vastuon ka sanyog hokar phir unase viyog hona du:khadaayee hai . aise hone par bhee manushy apane paas jin vastuon ka abhaav maanata hai, un vastuon ko vah lobh ke kaaran paane kee cheshta karata rahata hai . vichaar kiya jaen to jin vastuon ka abhee abhaav hai, beech mein praarabdhaanusaar unakee praapti hone par bhee ant mein unaka abhaav hee rahega . at: hamaaree to vaheen avastha rahee, jo ki vastuon ke milane se pahale thee . beech mein lobh ke kaaran un vastuon ko paane ke lie keval parishram – hee – parishram palle pada, du:kh hee du:kh bhogana pada . beech mein vastuon ke sanyog se jo thoda sa sukh hua hai, vah to keval lobh ke kaaran hee hua hai . agar bheetar mein lobh – roopee dosh na ho, to vastuon ke sanyog se sukh ho hee nahin sakata . aise hee moharoopee dosh na ho, to kutumbiyon se sukh ho hee nahin sakata . laalach roopee dosh na ho, to sangrah ka sukh ho hee nahin sakata . taatpary hai ki sansaar ka sukh kisee na kisee dosh se hee hota hai . koee bhee dosh na hone par sansaar se sukh ho hee nahin sakata . parantu lobh ke kaaran manushy aisa vichaar kar hee nahin sakata . yah lobh usake vivek – vichaar ko lupt kar deta hai . yah niyam hai ki manushy kee drshti jabatak doosaron ke dosh kee tarah rahatee hai, tab tak usako apana dosh nahin dikhata, ulte ek abhimaan hota hai ki inamen to yah dosh hai, par hamaare mein yah dosh nahin hai . aisee avastha mein vah yah soch hee nahin sakata ki agar inamen koee dosh hai to hamaare mein bhee koee doosara dosh ho sakata hai . doosara dosh yadi na bhee ho, to bhee doosaron ka dosh dekhana – yah dosh to hai hee . at: svayan se moharoopee dosh ko tyaag kar uchit path par agrasit ho

Comments

comments