Saturday , 24 February 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Rama » जानिए ताड़का का वध क्यों किया था श्रीराम ने

जानिए ताड़का का वध क्यों किया था श्रीराम ने

why-did-the-slaughter-tadka-sriram

why-did-the-slaughter-tadka-sriram

वाल्मीकि रामायण के ऐतिहासिक पात्रों में से एक हैं। उन्हीं में से एक थी ‘ताड़का’। ताड़का सुकेतु यक्ष की पुत्री थी, जो एक शाप के प्रभाव से राक्षसी बन गई थी। उसका विवाह सुंद नाम के दैत्य से हुआ था। ताड़का के दो पुत्र थे, उनके नाम थे सुबाहु और मारीच।
ताड़का का परिवार अयोध्या के नजदीक एक जंगल में रहता था। ताड़का का परिवार पूरी तरह से राक्षसी प्रवृत्तियों में लिप्त रहता था। वह देवी-देवताओं के लिए यज्ञ करने वाले ऋषि-मुनियों को तंग किया करते थे। सभी ऋषि मुनि ताड़का और उसके दोनों पुत्रों से परेशान थे।
जब उन्होंने यह बात ऋषि विश्वामित्र को बताई तो विश्वामित्रअपने दो शिष्यों राम और लक्ष्मण को लेकर यज्ञ भूमि पहुंचे। अयोध्या के दोनों राजकुमारों ने ताड़का के परिवार का अंत कर दिया। लेकिन मारीच बच निकला और लंका जा पहुंचा।
वह राम से प्रतिशोध लेना चाहता था क्योंकि उसकी मां ताड़का और भाई को श्रीराम ने मार दिया था। सीता-हरण के दौरान मारीच ने ही पर रावण ने मारीच की मायावी बुद्धि की सहायता ली थी। मारीच सीता हरण के दौरान सोने का हिरण बना था। जिसे देखकर ही उसका शिकार करने के लिए उधर भगवान श्रीराम उसके पीछे गए और इधर रावण ने सीता का हरण कर लिया था।
सुकेतु नाम का एक यक्ष था। उसकी कोई भी संतान नहीं थी। इसलिए उसने संतान प्राप्ति की इच्छा से ब्रह्मा जी की कठोर तपस्या की। ब्रह्मा जी प्रसन्न हुए और उन्होंने संतान प्राप्ति का वरदान दिया। कुछ समय बाद सुकेतु यज्ञ के यहां ताड़का का जन्म हुआ। वरदान स्वरूप ताड़का के शरीर में हजार हाथियों का बल था।
तब सुकेतु यक्ष ने उसका विवाह सुंद नाम के दैत्य से किया। लेकिन ताड़का( ताड़का का एक अन्य नाम ‘सुकेतुसुता’ भी था।) दैत्यों की तरह व्यवहार करने लगी तब अगस्त्य ऋषि के शाप से वह भी राक्षसी हो गयी थी।
जब ये बात सुंद को पता चली तो वो अगस्त्य ऋषि को मारने पहुंचा। तब ऋषि ने सुंद को भस्म कर दिया। जब उसने अपने पति की मृत्यु के लिए अगस्त्य ऋषि से बदला लेना चाहा। ऐसी विषम परिस्थितियों में जब अगस्त्य ऋषि ने विश्वामित्र की सहायता मांगी तब विश्वामित्र के शिष्यों राम और लक्ष्मण ने मिलकर ताड़का का संहार किया था।

translate in english

Vaalmeeki raamaayaṇa ke aitihaasik paatron men se ek hain. Unheen men se ek thee ‘taadkaa’. Taadkaa suketu yakṣ kee putree thee, jo ek shaap ke prabhaav se raakṣasee ban ga_ii thee. Usakaa vivaah sund naam ke daity se huaa thaa. Taadkaa ke do putr the, unake naam the subaahu aur maareech. Taadkaa kaa parivaar ayodhyaa ke najadeek ek jngal men rahataa thaa. Taadkaa kaa parivaar pooree tarah se raakṣasee pravrittiyon men lipt rahataa thaa. Vah devee-devataa_on ke lie yagy karane vaale rriṣi-muniyon ko tng kiyaa karate the. Sabhee rriṣi muni taadkaa aur usake donon putron se pareshaan the. Jab unhonne yah baat rriṣi vishvaamitr ko bataa_ii to vishvaamitr apane do shiṣyon raam aur lakṣmaṇa ko lekar yagy bhoomi pahunche. Ayodhyaa ke donon raajakumaaron ne taadkaa ke parivaar kaa ant kar diyaa. Lekin maareech bach nikalaa aur lnkaa jaa pahunchaa. Vah raam se pratishodh lenaa chaahataa thaa kyonki usakee maan taadkaa aur bhaa_ii ko shreeraam ne maar diyaa thaa. Seetaa-haraṇa ke dauraan maareech ne hee par raavaṇa ne maareech kee maayaavee buddhi kee sahaayataa lee thee. Maareech seetaa haraṇa ke dauraan sone kaa hiraṇa banaa thaa. Jise dekhakar hee usakaa shikaar karane ke lie udhar bhagavaan shreeraam usake peechhe ga_e aur idhar raavaṇa ne seetaa kaa haraṇa kar liyaa thaa. Suketu naam kaa ek yakṣ thaa. Usakee koii bhee sntaan naheen thee. Isalie usane sntaan praapti kee ichchhaa se brahmaa jee kee kaṭhor tapasyaa kee. Brahmaa jee prasann hue aur unhonne sntaan praapti kaa varadaan diyaa. Kuchh samay baad suketu yagy ke yahaan taadkaa kaa janm huaa. Varadaan svaroop taadkaa ke shareer men hajaar haathiyon kaa bal thaa. Tab suketu yakṣ ne usakaa vivaah sund naam ke daity se kiyaa. Lekin taadkaa( taadkaa kaa ek any naam ‘suketusutaa’ bhee thaa.) daityon kee tarah vyavahaar karane lagee tab agasty rriṣi ke shaap se vah bhee raakṣasee ho gayee thee. Jab ye baat sund ko pataa chalee to vo agasty rriṣi ko maarane pahunchaa. Tab rriṣi ne sund ko bhasm kar diyaa. Jab usane apane pati kee mrityu ke lie agasty rriṣi se badalaa lenaa chaahaa. Aisee viṣam paristhitiyon men jab agasty rriṣi ne vishvaamitr kee sahaayataa maangee tab vishvaamitr ke shiṣyon raam aur lakṣmaṇa ne milakar taadkaa kaa snhaar kiyaa thaa.

Comments

comments