Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » मजदूर के जूते (Worker’s shoes)

मजदूर के जूते (Worker’s shoes)

workers-shoes

workers-shoes

Majdur-ke-Jutte

Majdur-ke-Jutte

एक बार एक शिक्षक संपन्न परिवार से सम्बन्ध रखने वाले एक युवा शिष्य के साथ कहीं टहलने निकले . उन्होंने देखा की रास्ते में पुराने हो चुके एक जोड़ी जूते उतरे पड़े हैं , जो संभवतः पास के खेत में काम कर रहे गरीब मजदूर के थे जो अब अपना काम ख़त्म कर घर वापस जाने की तयारी कर रहा था .

शिष्य को मजाक सूझा उसने शिक्षक से कहा , “ गुरु जी क्यों न हम ये जूते कहीं छिपा कर झाड़ियों के पीछे छिप जाएं ; जब वो मजदूर इन्हें यहाँ नहीं पाकर घबराएगा तो बड़ा मजा आएगा !!”

शिक्षक गंभीरता से बोले , “ किसी गरीब के साथ इस तरह का भद्दा मजाक करना ठीक नहीं है . क्यों ना हम इन जूतों में कुछ सिक्के डाल दें और छिप कर देखें की इसका मजदूर पर क्या प्रभाव पड़ता है !!”

शिष्य ने ऐसा ही किया और दोनों पास की झाड़ियों में छुप गए .

मजदूर जल्द ही अपना काम ख़त्म कर जूतों की जगह पर आ गया . उसने जैसे ही एक पैर जूते में डाले उसे किसी कठोर चीज का आभास हुआ , उसने जल्दी  से जूते हाथ में लिए और देखा की अन्दर कुछ सिक्के पड़े थे , उसे बड़ा आश्चर्य हुआ और वो सिक्के हाथ में लेकर बड़े गौर से उन्हें पलट -पलट कर देखने लगा . फिर उसने इधर -उधर देखने लगा , दूर -दूर तक कोई नज़र नहीं आया तो उसने सिक्के अपनी जेब में डाल लिए . अब उसने दूसरा जूता उठाया , उसमे भी सिक्के पड़े थे …मजदूर भावविभोर हो गया , उसकी आँखों में आंसू आ गए , उसने हाथ जोड़ ऊपर देखते हुए कहा – “हे भगवान् , समय पर प्राप्त इस सहायता के लिए उस अनजान सहायक का लाख -लाख धन्यवाद , उसकी सहायता और दयालुता के कारण आज मेरी बीमार पत्नी को दावा और भूखें बच्चों को रोटी मिल सकेगी .”

मजदूर की बातें सुन शिष्य की आँखें भर आयीं . शिक्षक ने शिष्य से कहा – “ क्या तुम्हारी मजाक वाली बात की अपेक्षा जूते में सिक्का डालने से तुम्हे कम ख़ुशी मिली ?”

शिष्य बोला , “ आपने आज मुझे जो पाठ पढाया है , उसे मैं जीवन भर नहीं भूलूंगा . आज मैं उन शब्दों का मतलब समझ गया हूँ जिन्हें मैं पहले कभी नहीं समझ पाया था कि लेने  की अपेक्षा देना कहीं अधिक आनंददायी है . देने का आनंद असीम है . देना देवत्त है .”

 

Wish4me to English

Ek baar ek shikṣak snpann parivaar se sambandh rakhane vaale ek yuvaa shiṣy ke saath kaheen ṭahalane nikale . Unhonne dekhaa kee raaste men puraane ho chuke ek jodee joote utare pade hain , jo snbhavatah paas ke khet men kaam kar rahe gareeb majadoor ke the jo ab apanaa kaam khatm kar ghar vaapas jaane kee tayaaree kar rahaa thaa . Shiṣy ko majaak soojhaa usane shikṣak se kahaa , “ guru jee kyon n ham ye joote kaheen chhipaa kar jhaadiyon ke peechhe chhip jaaen ; jab vo majadoor inhen yahaan naheen paakar ghabaraaegaa to badaa majaa aaegaa !!”

shikṣak gnbheerataa se bole , “ kisee gareeb ke saath is tarah kaa bhaddaa majaak karanaa ṭheek naheen hai . Kyon naa ham in jooton men kuchh sikke ḍaal den aur chhip kar dekhen kee isakaa majadoor par kyaa prabhaav padtaa hai !!”

shiṣy ne aisaa hee kiyaa aur donon paas kee jhaadiyon men chhup gae . Majadoor jald hee apanaa kaam khatm kar jooton kee jagah par aa gayaa . Usane jaise hee ek pair joote men ḍaale use kisee kaṭhor cheej kaa aabhaas huaa , usane jaldee se joote haath men lie aur dekhaa kee andar kuchh sikke pade the , use badaa aashchary huaa aur vo sikke haath men lekar bade gaur se unhen palaṭ -palaṭ kar dekhane lagaa . Fir usane idhar -udhar dekhane lagaa , door -door tak koii nazar naheen aayaa to usane sikke apanee jeb men ḍaal lie . Ab usane doosaraa jootaa uṭhaayaa , usame bhee sikke pade the …majadoor bhaavavibhor ho gayaa , usakee aankhon men aansoo aa ga_e , usane haath jod oopar dekhate hue kahaa – “he bhagavaan , samay par praapt is sahaayataa ke lie us anajaan sahaayak kaa laakh -laakh dhanyavaad , usakee sahaayataa aur dayaalutaa ke kaaraṇa aaj meree beemaar patnee ko daavaa aur bhookhen bachchon ko roṭee mil sakegee .”

majadoor kee baaten sun shiṣy kee aankhen bhar aayeen . Shikṣak ne shiṣy se kahaa – “ kyaa tumhaaree majaak vaalee baat kee apekṣaa joote men sikkaa ḍaalane se tumhe kam khaushee milee ?”

shiṣy bolaa , “ aapane aaj mujhe jo paaṭh paḍhaayaa hai , use main jeevan bhar naheen bhooloongaa . Aaj main un shabdon kaa matalab samajh gayaa hoon jinhen main pahale kabhee naheen samajh paayaa thaa ki lene kee apekṣaa denaa kaheen adhik aanndadaayee hai . Dene kaa aannd aseem hai . Denaa devatt hai .”

Comments

comments