Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » त्रयंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग

त्रयंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग

yambkeshver-jyoterling

yambkeshver-jyoterling

Yambkeshver Jyoterling Story

गोदावरी के उद्गम स्थल के समीप (महाराष्ट्र के नासिक में) ही श्री त्र्यम्बकेश्वर शिव अवस्थित हैं। गौतमी तट पर स्थित इस त्र्यम्बक ज्योतिर्लिंग का जो मनुष्य भक्तिभाव पूर्वक दर्शन पूजन करता है, वह समस्त पापों से मुक्त हो जाता है।

श्री त्र्यम्बकेश्वर शिव ज्योतिर्लिंग की कथा (Story of Trimbakeshwar Shiva Temple)

पुराणों के अनुसार एक बार महर्षि गौतम के तपोवन में रहने वाले ब्राह्मणों की पत्नियां किसी बात पर उनकी पत्नी अहिल्या से नाराज हो गईं। उन्होंने अपने पतियों को ऋषि गौतम का अपकार करने के लिए प्रेरित किया। उन ब्राह्मणों ने इसके लिए भगवान गणेश की आराधना की। उनकी आराधना से प्रसन्न हो गणेशजी ने उनसे वर मांगने को कहा, उन ब्राह्मणों ने कहा- “प्रभो! किसी प्रकार ऋषि गौतम को इस आश्रम से बाहर निकाल दें।” गणेशजी को विवश होकर उनकी बात माननी पड़ी। तब श्रीगणेश ने एक दुर्बल गाय का रूप धारण करके ऋषि गौतम के खेत में जाकर रहने लगे। गाय को फसल चरते देख ऋषि ने हाथ में तृण लेकर उसे हांकने लगे। उन तृणों का स्पर्श होते ही गाय वहीं गिरकर मर गई। उस समय सारे ब्राह्मण एकत्र हो गौ-हत्यारा कहकर ऋषि गौतम की भर्त्सना करने लगे।

तब अनुनय भाव से ऋषि गौतम ने उन ब्राह्मणों से प्रायश्चित और उद्धार का उपाय पूछा। तब उन्होंने कहा- “गौतम! तुम अपने पाप को सर्वत्र सबको बताते हुए तीन बार पृथ्वी की परिक्रमा करो। फिर लौटकर यहां एक महीने तक व्रत करो। इसके बाद “ब्रह्मगिरी” की 101 परिक्रमा करो तभी तुम्हारी शुद्धि होगी अथवा यहां गंगाजी को लाकर उनके जल से स्नान करके एक करोड़ पार्थिव शिवलिंगों से शिवजी की आराधना करो। इसके बाद पुनः गंगाजी में स्नान करके इस ब्रह्मगरी की 11 बार परिक्रमा करो। फिर सौ घड़ों के पवित्र जल से पार्थिव शिवलिंगों को स्नान कराने से तुम्हारा उद्धार होगा। उसके बाद महर्षि गौतम वे सारे कार्य पूरे करके पत्नी के साथ पूर्णतः तल्लीन होकर भगवान शिव की आराधना करने लगे। इससे प्रसन्न हो भगवान शिव ने प्रकट होकर उनसे वर मांगने को कहा।

महर्षि गौतम ने कहा- “भगवान आप मुझे गौ-हत्या के पाप से मुक्त कर दें।” भगवान शिव ने कहा- “गौतम ! तुम सर्वथा निष्पाप हो। गौ-हत्या का अपराध तुम पर छलपूर्वक लगाया गया था। ऐसा करवाने वाले तुम्हारे आश्रम के ब्राह्मणों को मैं दण्ड देना चाहता हूं। इस पर महर्षि गौतम ने कहा कि प्रभु! उन्हीं के निमित्त से तो मुझे आपका दर्शन प्राप्त हुआ है। अब उन्हें मेरा परमहित समझकर उन पर आप क्रोध न करें।” बहुत से ऋषियों, मुनियों और देवगणों ने वहां एकत्र हो गौतम की बात का अनुमोदन करते हुए भगवान शिव से सदा वहां निवास करने की प्रार्थना की। वे उनकी बात मानकर वहां त्र्यम्बक ज्योतिर्लिंग के नाम से स्थित हो गए। गौतमजी द्वारा लाई गई गंगाजी भी वहां पास में गोदावरी नाम से प्रवाहित होने लगीं।


yambkaishvair jyotairling storee
godaavaree ke udgam sthal ke sameep (mahaaraashtr ke naasik mein) hee shree tryambakeshvar shiv avasthit hain. gautamee tat par sthit is tryambak jyotirling ka jo manushy bhaktibhaav poorvak darshan poojan karata hai, vah samast paapon se mukt jaata hai ho.

shree tryambakeshvar shiv jyotirling kee katha (tryambakeshvar mandir kee kahaanee)

puraanon ke anusaar ek baar maharshi gautam ke tapovan mein rahane vaale braahmanon kee patniyaan kisee baat par unakee patnee ahilya se naaraaj ho gaeen. unhonne apane patiyon ko rshi gautam ka apakaar karane ke lie prerit kiya. un braahmanon ne isake lie bhagavaan ganesh kee aaraadhana kee. unakee aaraadhana se prasann ho ganeshajee ne unase var maangane ko kaha, un braahmanon ne kaha- prabho! kisee prakaar rshi gautam ko is aashram se baahar nikaal den. ” ganeshajee ko vivash hokar unakee baat maananee padee. tab shreeganesh ne ek durbal gaay ka roop dhaaran karake rshi gautam ke khet mein jaakar rahane lage. gaay ko phasal charate dekh rshi ne haath mein trn lekar use haankane lage. un trnon ka sparsh hote hee gaay vaheen girakar mar gaee. us samay saare braahman ekatr ho gau-hatyaara kahakar rshi gautam kee bhartsana karane lage.

tab anunay bhaav se rshi gautam ne un braahmanon se praayashchit aur uddhaar ka upaay poochha. tab unhonne kaha- “gautam! tum apane paap ko sarvatr sabako bataate hue teen baar prthvee kee parikrama karo. phir lautakar yahaan ek maheene tak vrat karo. isake baad brahmagiree kee 101 parikrama karo tabhee tumhaaree shuddhi hogee athava yahaan gangaajee ko laakar unake jal se snaan karake ek karod paarthiv shivalingon se shivajee kee aaraadhana karo. isake baad punah gangaajee mein snaan karake is brahmagaree kee 11 baar parikrama karo. phir sau ghadon ke pavitr jal se paarthiv shivalingon ko snaan karaane se tumhaara uddhaar hoga. usake baad maharshi gautam ve saare kaary poore karake patnee ke saath poornatah talleen hokar bhagavaan shiv kee aaraadhana karane lage. isase prasann ho bhagavaan shiv ne prakat hokar unase var maangane ko kaha.

maharshi gautam ne kaha- “bhagavaan aap mujhe gau-hatya ke paap se mukt kar den.” bhagavaan shiv ne kaha- “gautam! tum sarvatha nishpaap ho. gau-hatya ka aparaadh tum par chhalapoorvak lagaaya gaya tha. aisa karavaane vaale tumhaare aashram ke braahmanon ko main dand dena chaahata hoon. is par maharshi gautam ne kaha ki prabhu! unheen ke nimitt se to mujhe aapaka darshan praapt hua hai. ab unhen mera paramahit samajhakar un par aap krodh na karen. ” bahut se rshiyon, muniyon aur devaganon ne vahaan ekatr ho gautam kee baat ka anumodan karate hue bhagavaan shiv se sada vahaan nivaas karane kee praarthana kee. ve unakee baat maanakar vahaan tryambak jyotirling ke naam se sthit ho gae. gautamajee dvaara laee gaee gangaajee bhee vahaan paas mein godaavaree naam se pravaahit hone lageen.

Comments

comments