Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » योग – वियोग

योग – वियोग

yog-viyog

yog-viyog

sansaaree - vyavasaayee mein bhed

yog – viyog

जिसके साथ हमारा संबंध है नहीं, हुआ नहीं, होगा नहीं और होना संभव ही नहीं, ऐसे दु:खस्वरूप संसार – शरीर के साथ संबंध मान लिया, यहीं ‘दु:खसंयोग’ है । यह दु:खसंयोग ‘योग’ नहीं है । अगर यह योग होता अर्थात् संसार के साथ हमारा नित्य – संबंध होता, तो इस दु:खसंयोग का कभी वियोग (संबंध – विच्छेद) नहीं होता । परंतु बोध होने पर इसका वियोग हो जाता है । इससे सिद्ध होता है कि दु:खसंयोग केवल हमारा माना हुआ है, हमारा बनाया हुआ है, स्वाभाविक नहीं है । इससे कितनी ही दृढ़ता से संयोग मान लें और कितने ही लंबे काल तक संयोग मान लें, तो भी इसका कभी संयोग नहीं हो सकता । अत: हम इस माने हुए आगंतुक दु:खसंयोग का वियोग करते ही स्वाभाविक ‘योग’ की प्राप्ति हो जाती है अर्थात् स्वरूप के साथ हमारा जो नित्ययोग है, उसकी हमें अनुभूति हो जाती है । स्वरूप के साथ नित्ययोग को ही यहां ‘योग’ समझना चाहिए । जिसके साथ हमारा संबंध है नहीं, हुआ नहीं, होगा नहीं और होना संभव ही नहीं, ऐसे दु:खस्वरूप संसार – शरीर के साथ संबंध मान लिया, यहीं ‘दु:खसंयोग’ है । यह दु:खसंयोग ‘योग’ नहीं है । अगर यह योग होता अर्थात् संसार के साथ हमारा नित्य – संबंध होता, तो इस दु:खसंयोग का कभी वियोग (संबंध – विच्छेद) नहीं होता । परंतु बोध होने पर इसका वियोग हो जाता है । इससे सिद्ध होता है कि दु:खसंयोग केवल हमारा माना हुआ है, हमारा बनाया हुआ है, स्वाभाविक नहीं है । इससे कितनी ही दृढ़ता से संयोग मान लें और कितने ही लंबे काल तक संयोग मान लें, तो भी इसका कभी संयोग नहीं हो सकता । अत: हम इस माने हुए आगंतुक दु:खसंयोग का वियोग करते ही स्वाभाविक ‘योग’ की प्राप्ति हो जाती है अर्थात् स्वरूप के साथ हमारा जो नित्ययोग है, उसकी हमें अनुभूति हो जाती है । स्वरूप के साथ नित्ययोग को ही यहां ‘योग’ समझना चाहिए ।

wish4me to English

jisake saath hamaara sambandh hai nahin, hua nahin, hoga nahin aur hona sambhav hee nahin, aise du:khasvaroop sansaar – shareer ke saath sambandh maan liya, yaheen ‘du:khasanyog’ hai . yah du:khasanyog ‘yog’ nahin hai . agar yah yog hota arthaat sansaar ke saath hamaara nity – sambandh hota, to is du:khasanyog ka kabhee viyog (sambandh – vichchhed) nahin hota . parantu bodh hone par isaka viyog ho jaata hai . isase siddh hota hai ki du:khasanyog keval hamaara maana hua hai, hamaara banaaya hua hai, svaabhaavik nahin hai . isase kitanee hee drdhata se sanyog maan len aur kitane hee lambe kaal tak sanyog maan len, to bhee isaka kabhee sanyog nahin ho sakata . at: ham is maane hue aagantuk du:khasanyog ka viyog karate hee svaabhaavik ‘yog’ kee praapti ho jaatee hai arthaat svaroop ke saath hamaara jo nityayog hai, usakee hamen anubhooti ho jaatee hai . svaroop ke saath nityayog ko hee yahaan ‘yog’ samajhana chaahie . jisake saath hamaara sambandh hai nahin, hua nahin, hoga nahin aur hona sambhav hee nahin, aise du:khasvaroop sansaar – shareer ke saath sambandh maan liya, yaheen ‘du:khasanyog’ hai . yah du:khasanyog ‘yog’ nahin hai . agar yah yog hota arthaat sansaar ke saath hamaara nity – sambandh hota, to is du:khasanyog ka kabhee viyog (sambandh – vichchhed) nahin hota . parantu bodh hone par isaka viyog ho jaata hai . isase siddh hota hai ki du:khasanyog keval hamaara maana hua hai, hamaara banaaya hua hai, svaabhaavik nahin hai . isase kitanee hee drdhata se sanyog maan len aur kitane hee lambe kaal tak sanyog maan len, to bhee isaka kabhee sanyog nahin ho sakata . at: ham is maane hue aagantuk du:khasanyog ka viyog karate hee svaabhaavik ‘yog’ kee praapti ho jaatee hai arthaat svaroop ke saath hamaara jo nityayog hai, usakee hamen anubhooti ho jaatee hai . svaroop ke saath nityayog ko hee yahaan ‘yog’ samajhana chaahie

Comments

comments