Monday , 18 September 2017
Latest Happenings
Home » books » अपने आत्मविश्वास और मेहनत के बल पर अपना भाग्य खुद लिख सकते है

अपने आत्मविश्वास और मेहनत के बल पर अपना भाग्य खुद लिख सकते है

you-can-write-your-own-destiny-on-the-strength-of-your-self-confidence-and-hard-work

you-can-write-your-own-destiny-on-the-strength-of-your-self-confidence-and-hard-work

you-can-write-your-own-destiny-on-the-strength-of-your-self-confidence-and-hard-work

बाहर बारिश हो रही थी और अन्दर क्लास चल रही थी, तभी टीचर ने बच्चों से पूछा कि अगर तुम सभी को 100-100 रुपये दिए जाए तो तुम सब क्या क्या खरीदोगे ?.किसी ने कहा कि मैं वीडियो गेम खरीदुंगा, किसी ने कहा मैं क्रिकेट का बेट खरीदुंगा, किसी ने कहा कि मैं अपने लिए प्यारी सी गुड़िया खरीदुंगी,.तो किसी ने कहा मैं बहुत सी चॉकलेट्स खरीदुंगी | एक बच्चा कुछ सोचने में डुबा हुआ था, टीचर ने उससे पुछा कि तुम क्या सोच रहे हो ? तुम क्या खरीदोगे ?.बच्चा बोला कि टीचर जी, मेरी माँ को थोड़ा कम दिखाई देता है तो मैं अपनी माँ के लिए एक चश्मा खरीदूंगा ‌।.. टीचर ने पूछाः तुम्हारी माँ के लिए चश्मा तो तुम्हारे पापा भी खरीद सकते है, तुम्हें अपने लिए कुछ नहीं खरीदना ? बच्चे ने जो जवाब दिया उससे टीचर का भी गला भर आया | बच्चे ने कहा कि मेरे पापा अब इस दुनिया में नहीं है | मेरी माँ लोगों के कपड़े सिलकर मुझे पढ़ाती है और कम दिखाई देने की वजह से वो ठीक से कपड़े नहीं सिल पाती है इसीलिए मैं मेरी माँ को चश्मा देना चाहता हुँ ताकि मैं अच्छे से पढ़ सकूँ, बड़ा आदमी बन सकूँ और माँ को सारे सुख दे सकूँ !टीचर:-बेटा तेरी सोच ही तेरी कमाई है। ये 100 रूपये मेरे वादे के अनुसार और ये 100 रूपये और उधार दे रहा हूँ। जब कभी कमाओ तो लौटा देना। और मेरी इच्छा है तू इतना बड़ा आदमी बने कि तेरे सर पे हाथ फेरते वक्त मैं धन्य हो जाऊं। 15 वर्ष बाद……बाहर बारिश हो रही है, अंदर क्लास चल रही है।अचानक स्कूल के आगे जिला कलेक्टर की बत्ती वालीगाड़ी आकर रूकती है। स्कूल स्टाफ चौकन्ना हो जाता हैं।स्कूल में सन्नाटा छा जाता है। मगर ये क्या ? जिला कलेक्टर एक वृद्ध टीचर के पैरों में गिर जाते हैंऔर कहते हैं:-” सर मैं दामोदर दास उर्फ़ झंडू!! आपके उधार के 100 रूपये लौटाने आया हूँ “पूरा स्कूल स्टॉफ स्तब्ध!!! वृद्ध टीचर झुके हुए नौजवान कलेक्टर को उठाकर भुजाओं में कस लेता है और रो पड़ता हैं। हम चाहें तो अपने आत्मविश्वास और मेहनत के बल पर अपना भाग्य खुद लिख सकते है और अगर हमको अपना भाग्य लिखना नहीं आता तो परिस्थितियां हमारा भाग्य लिख देंगी….!

Translate Into Hindi To English

When the class was running out and the class was going on, then the teacher asked the children if you were given 100-100 rupees to all, then what would you all buy? Anyone said that I will buy video games, someone said I Buy a bit of cricket, someone said that I will buy sweet doll for myself, so someone said that I will buy many chocolates. A child was drowned in thinking something, the teacher asked her what are you thinking? What would you buy? I said that the teacher, my mother is a little less then I will buy a glass for my mother … The teacher asked: The glasses for your mother can buy your papa too, for you Nothing to buy? The reply of the child came to the throat of the teacher. The child said that my father is no longer in this world. My mother teaches me with the clothes of the people and because of less visible she does not wear the cloth properly, so I want to give glasses to my mother so that I can read well, become a big man and give mother all the pleasures Teacher! Teacher: -Dear your thinking is your earnings. These are 100 rupees and I am lending this as per my promise. Whenever you earn, then return. And I want you to become such a big man that I should be blessed when you strode on my head. After 15 years …… it is raining out, the class is running inside. Near the school, the collector’s lights come packing in front of the school. The school staff gets stunned. The school is full of silence. But what about this? District collectors fall under the feet of an old teacher and say: “Sir I have been returning 100 rupees of your loan” Sir Damdar Das alias Jhandu “stunned the whole school staff !!! The old teacher takes the young lad, the tilted and collector in the arms and weeps. If we want, we can write our own destiny on our own strength and strength, and if we do not want to write our destiny, then the circumstances will write our destiny ….!

Comments

comments