Saturday , 10 June 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Krishna » कंस वध

कंस वध

कांस-वध

कांस-वध

kans vadh

kans vadh

भगवान श्री कृष्ण और बलराम ने चाणूर, मुष्टिक, कूट, शल और तोशल—इन पाँचों पहलवानो को मारा। इसके बाद जो बचे वो जान बचाकर भाग गए। उनके भाग जाने पर भगवान श्रीकृष्ण और बलरामजी अपने दोस्त ग्वाल-बालों को खींच-खींचकर उनके साथ भिड़ने और नाच-नाचकर भेरीध्वनि के साथ अपने नूपुरों की झनकार को मिलाकर मल्लक्रीडा—कुश्ती के खेल करने लगे।

भगवान श्रीकृष्ण और बलराम की इस अद्भुत लीला को देखकर सभी दर्शकों को बड़ा आनन्द हुआ। श्रेष्ठ ब्राम्हण और साधु पुरुष ‘धन्य है, धन्य है, ऐसा कहकर आशीर्वाद दे रहे थे और प्रसन्न हो रहे थे। लेकिन कंस को बहुत दुःख हुआ।

कंस चिढ गया। जब उसके प्रधान पहलवान मार डाले गये और बचे हुए सब-के-सब भाग गये, तब भोजराज कंस ने अपने बाजे-गाजे बंद करा दिये और अपने सेवकों को यह आज्ञा दी— ‘अरे, वसुदेव के इन दुश्चरित्र लड़कों को नगर से बाहर निकाल दो। गोपों का सारा धन छीन लो और दुर्बुद्धि नन्द को कैद कर लो। वसुदेव भी बड़ा कुबुद्धि और दुष्ट है। उसे शीघ्र मार डालो और उग्रसेन मेरा पिता होने पर भी अपने अनुयायियों के साथ शत्रुओं से मिला हुआ है। इसलिये उसे भी जीता मत छोडो’।
जब कंस इस तरह की बकवास कर रहा था भगवान से रहा नही गया और अविनाशी श्रीकृष्ण कुपित होकर फुर्ती से पुरे वेग से उछलकर लीला से ही उसके ऊँचे मंच पर जा चढ़े।

कंस ने भगवान को देखा तो उसे भगवान के रूप में साक्षात मृत्यु दिखाई पड़ रही है। भगवान कृष्ण उसके सामने आये तब वह सहसा अपने सिंहासन से उठ खड़ा हुआ और हाथ में ढाल तथा तलवार उठा ली । हाथ में तलवार लेकर वह चोट करने का मौका ढूँढता हुआ पैंतरा बदलने लगा। आकाश में उड़ते हुए बाज की तरह वह कभी दायीं ओर जाता तो कभी बायीं ओर।

Kans Uddhar by Krishna : कृष्ण द्वारा कंस का उद्धार
परन्तु भगवान से कौन बच सकता है। जैसे गरुड़ साँप को पकड़ लेते हैं, वैसे ही भगवान ने बलपूर्वक उसे पकड़ लिया। भगवान को आज याद आ रहा है की इस कंस ने मेरी माँ देवकी के केश पकडे थे और पिता को जेल में डाला था। इसने मेरे माता पिता, और प्रजा के साथ बहुत अन्याय किया है। इसी समय कंस का मुकुट गिर गया और भगवान ने उसके केश पकड़कर उसे भी उस ऊँचे मंच से रंगभूमि में गिरा दिया। और फिर सम्पूर्ण त्रिलोकी का भार लेकर भगवान श्री कृष्ण उसके ऊपर कूद गए। भगवान के कूदते ही कंस की मृत्यु हो गई।
सबके देखते-देखते भगवान श्रीकृष्ण कंस की लाश को धरती पर उसी प्रकार घसीटने लगे, जैसे सिंह हाथी को घसीटे। सबके मुँह से ‘हाय! हाय!’ की बड़ी ऊँची आवाज सुनायी पड़ी ।
कंस हमेशा बड़ी घबड़ाहट के साथ श्रीकृष्ण का ही चिन्तन करता रहता था। वह खाते-पीते, सोते-चलते, बोलते और साँस लेते—सब समय अपने सामने चक्र हाथ में लिये भगवान श्रीकृष्ण को ही देखता रहता था। इस नित्य चिन्तन के फलस्वरूप—वह चाहे द्वेषभाव से ही क्यों न किया गया हो—उसे भगवान के उसी रूप की प्राप्ति हुई, सारुप्य मुक्ति हुई, जिसकी प्राप्ति बड़े-बड़े तपस्वी योगियों के लिये भी कठिन है। भगवान की दयालुता देखिये, भगवान ने इस कंस को भी मुक्ति प्रदान कर दी।

जब कंस मरा तो कंस के कंक और न्यग्रोध आदि आठ छोटे भाई थे। वे अपने बड़े भाई का बदला लेने के लिये क्रोध से आगबबूले होकर भगवान श्रीकृष्ण और बलराम की ओर दौड़े । जब भगवान बलरामजी ने देखा कि वे बड़े वेग से युद्ध के लिये तैयार होकर दौड़े आ रहे हैं, तब उन्होंने परिघ उठाकर उन्हें वैसे ही मार डाला, जैसे सिंह पशुओं को मार डालता है ।

उस समय आकाश में दुन्दुभियाँ बजने लगीं। भगवान के विभूतिस्वरुप ब्रम्हा, शंकर आदि देवता बड़े आनन्द से पुष्पों की वर्षा करते हुए उनकी स्तुति करने लगे। अप्सराएँ नाचने लगीं ।
महाराज! कंस और उसके भाइयों कि स्त्रियाँ अपने आत्मीय स्वजनों की मृत्यु से अत्यन्त दुःखित हुईं। वे अपने सिर पीटती हुई आँखों में आँसू भरे वहाँ आयीं । वीरशय्या पर सोये हुए अपने पतियों से लिपटकर वे शोकग्रस्त हो गयीं और बार-बार आँसू बहाती हुई ऊँचे स्वर से विलाप करने लगीं । ‘हा नाथ! हे प्यारे! हे धर्मज्ञ! हे करुणामय! हे अनाथवत्सल! आपकी मृत्यु से हम सबकी मृत्यु हो गयी। आज हमारे घर उजड़ गये। हमारी सन्तान अनाथ हो गयी । पुरुषश्रेष्ठ! इस पुरी के आप ही स्वामी थे। आपके विरह से इसके उत्सव समाप्त हो गये और मंगलचिन्ह उतर गये।
यह हमारी ही भाँति विधवा होकर शोभाहीन हो गयी । स्वामी! आपने निरपराध प्राणियों के साथ घोर द्रोह किया था, अन्याय किया था; इसी से आपकी यह गति हुई। सच है, जो जगत् के जीवों से द्रोह करता है, उनका अहित करता है, ऐसा कौन पुरुष शान्ति पा सकता है ? ये भगवान श्रीकृष्ण जगत् के समस्त प्राणियों की उत्पत्ति और प्रलय के आधार हैं। यही रक्षक भी हैं। जो इसका बुरा चाहता है, इनका तिरस्कार करता है; वह कभी सुखी नहीं हो सकता ।

श्रीशुकदेवजी कहते हैं—परीक्षित! भगवान श्रीकृष्ण ही सारे संसार के जीवनदाता हैं। उन्होंने रानियों को ढाढ़स बँधाया, सान्त्वना दी; फिर लोक-रीति के अनुसार मरने वालों का जैसा क्रिया-कर्म होता है, वह सब कराया।

इस तरह भगवान ने कंस का उद्धार करके मथुरा पूरी और सब प्रजा को सुख प्रदान किया।

To  English Wish4me

Bhagavāna śrī kr̥ṣṇa aura balarāma nē cāṇūra, muṣṭika, kūṭa, śala aura tōśala—ina pām̐cōṁ pahalavānō kō mārā. Isakē bāda jō bacē vō jāna bacākara bhāga ga’ē. Unakē bhāga jānē para bhagavāna śrīkr̥ṣṇa aura balarāmajī apanē dōsta gvāla-bālōṁ kō khīn̄ca-khīn̄cakara unakē sātha bhiṛanē aura nāca-nācakara bhērīdhvani kē sātha apanē nūpurōṁ kī jhanakāra kō milākara mallakrīḍā—kuśtī kē khēla karanē lagē.

Bhagavāna śrīkr̥ṣṇa aura balarāma kī isa adbhuta līlā kō dēkhakara sabhī darśakōṁ kō baṛā ānanda hu’ā. Śrēṣṭha brāmhaṇa aura sādhu puruṣa ‘dhan’ya hai, dhan’ya hai, aisā kahakara āśīrvāda dē rahē thē aura prasanna hō rahē thē. Lēkina kansa kō bahuta duḥkha hu’ā.

Kansa ciḍha gayā. Jaba usakē pradhāna pahalavāna māra ḍālē gayē aura bacē hu’ē saba-kē-saba bhāga gayē, taba bhōjarāja kansa nē apanē bājē-gājē banda karā diyē aura apanē sēvakōṁ kō yaha ājñā dī— ‘arē, vasudēva kē ina duścaritra laṛakōṁ kō nagara sē bāhara nikāla dō. Gōpōṁ kā sārā dhana chīna lō aura durbud’dhi nanda kō kaida kara lō. Vasudēva bhī baṛā kubud’dhi aura duṣṭa hai. Usē śīghra māra ḍālō aura ugrasēna mērā pitā hōnē para bhī apanē anuyāyiyōṁ kē sātha śatru’ōṁ sē milā hu’ā hai. Isaliyē usē bhī jītā mata chōḍō’.
Jaba kansa isa taraha kī bakavāsa kara rahā thā bhagavāna sē rahā nahī gayā aura avināśī śrīkr̥ṣṇa kupita hōkara phurtī sē purē vēga sē uchalakara līlā sē hī usakē ūm̐cē man̄ca para jā caṛhē.

Kansa nē bhagavāna kō dēkhā tō usē bhagavāna kē rūpa mēṁ sākṣāta mr̥tyu dikhā’ī paṛa rahī hai. Bhagavāna kr̥ṣṇa usakē sāmanē āyē taba vaha sahasā apanē sinhāsana sē uṭha khaṛā hu’ā aura hātha mēṁ ḍhāla tathā talavāra uṭhā lī. Hātha mēṁ talavāra lēkara vaha cōṭa karanē kā maukā ḍhūm̐ḍhatā hu’ā paintarā badalanē lagā. Ākāśa mēṁ uṛatē hu’ē bāja kī taraha vaha kabhī dāyīṁ ōra jātā tō kabhī bāyīṁ ōra.

Kans Uddhar by Krishna: Kr̥ṣṇa dvārā kansa kā ud’dhāra
parantu bhagavāna sē kauna baca sakatā hai. Jaisē garuṛa sām̐pa kō pakaṛa lētē haiṁ, vaisē hī bhagavāna nē balapūrvaka usē pakaṛa liyā. Bhagavāna kō āja yāda ā rahā hai kī isa kansa nē mērī mām̐ dēvakī kē kēśa pakaḍē thē aura pitā kō jēla mēṁ ḍālā thā. Isanē mērē mātā pitā, aura prajā kē sātha bahuta an’yāya kiyā hai. Isī samaya kansa kā mukuṭa gira gayā aura bhagavāna nē usakē kēśa pakaṛakara usē bhī usa ūm̐cē man̄ca sē raṅgabhūmi mēṁ girā diyā. Aura phira sampūrṇa trilōkī kā bhāra lēkara bhagavāna śrī kr̥ṣṇa usakē ūpara kūda ga’ē. Bhagavāna kē kūdatē hī kansa kī mr̥tyu hō ga’ī.
Sabakē dēkhatē-dēkhatē bhagavāna śrīkr̥ṣṇa kansa kī lāśa kō dharatī para usī prakāra ghasīṭanē lagē, jaisē sinha hāthī kō ghasīṭē. Sabakē mum̐ha sē ‘hāya! Hāya!’ Kī baṛī ūm̐cī āvāja sunāyī paṛī.
Kansa hamēśā baṛī ghabaṛāhaṭa kē sātha śrīkr̥ṣṇa kā hī cintana karatā rahatā thā. Vaha khātē-pītē, sōtē-calatē, bōlatē aura sām̐sa lētē—saba samaya apanē sāmanē cakra hātha mēṁ liyē bhagavāna śrīkr̥ṣṇa kō hī dēkhatā rahatā thā. Isa nitya cintana kē phalasvarūpa—vaha cāhē dvēṣabhāva sē hī kyōṁ na kiyā gayā hō—usē bhagavāna kē usī rūpa kī prāpti hu’ī, sārupya mukti hu’ī, jisakī prāpti baṛē-baṛē tapasvī yōgiyōṁ kē liyē bhī kaṭhina hai. Bhagavāna kī dayālutā dēkhiyē, bhagavāna nē isa kansa kō bhī mukti pradāna kara dī.

Jaba kansa marā tō kansa kē kaṅka aura n’yagrōdha ādi āṭha chōṭē bhā’ī thē. Vē apanē baṛē bhā’ī kā badalā lēnē kē liyē krōdha sē āgababūlē hōkara bhagavāna śrīkr̥ṣṇa aura balarāma kī ōra dauṛē. Jaba bhagavāna balarāmajī nē dēkhā ki vē baṛē vēga sē yud’dha kē liyē taiyāra hōkara dauṛē ā rahē haiṁ, taba unhōnnē parigha uṭhākara unhēṁ vaisē hī māra ḍālā, jaisē sinha paśu’ōṁ kō māra ḍālatā hai.

Usa samaya ākāśa mēṁ dundubhiyām̐ bajanē lagīṁ. Bhagavāna kē vibhūtisvarupa bramhā, śaṅkara ādi dēvatā baṛē ānanda sē puṣpōṁ kī varṣā karatē hu’ē unakī stuti karanē lagē. Apsarā’ēm̐ nācanē lagīṁ.
Mahārāja! Kansa aura usakē bhā’iyōṁ ki striyām̐ apanē ātmīya svajanōṁ kī mr̥tyu sē atyanta duḥkhita hu’īṁ. Vē apanē sira pīṭatī hu’ī ām̐khōṁ mēṁ ām̐sū bharē vahām̐ āyīṁ. Vīraśayyā para sōyē hu’ē apanē patiyōṁ sē lipaṭakara vē śōkagrasta hō gayīṁ aura bāra-bāra ām̐sū bahātī hu’ī ūm̐cē svara sē vilāpa karanē lagīṁ. ‘Hā nātha! Hē pyārē! Hē dharmajña! Hē karuṇāmaya! Hē anāthavatsala! Āpakī mr̥tyu sē hama sabakī mr̥tyu hō gayī. Āja hamārē ghara ujaṛa gayē. Hamārī santāna anātha hō gayī. Puruṣaśrēṣṭha! Isa purī kē āpa hī svāmī thē. Āpakē viraha sē isakē utsava samāpta hō gayē aura maṅgalacinha utara gayē.
Yaha hamārī hī bhām̐ti vidhavā hōkara śōbhāhīna hō gayī. Svāmī! Āpanē niraparādha prāṇiyōṁ kē sātha ghōra drōha kiyā thā, an’yāya kiyā thā; isī sē āpakī yaha gati hu’ī. Saca hai, jō jagat kē jīvōṁ sē drōha karatā hai, unakā ahita karatā hai, aisā kauna puruṣa śānti pā sakatā hai? Yē bhagavāna śrīkr̥ṣṇa jagat kē samasta prāṇiyōṁ kī utpatti aura pralaya kē ādhāra haiṁ. Yahī rakṣaka bhī haiṁ. Jō isakā burā cāhatā hai, inakā tiraskāra karatā hai; vaha kabhī sukhī nahīṁ hō sakatā.

Śrīśukadēvajī kahatē haiṁ—parīkṣita! Bhagavāna śrīkr̥ṣṇa hī sārē sansāra kē jīvanadātā haiṁ. Unhōnnē rāniyōṁ kō ḍhāṛhasa bam̐dhāyā, sāntvanā dī; phira lōka-rīti kē anusāra maranē vālōṁ kā jaisā kriyā-karma hōtā hai, vaha saba karāyā.

Isa taraha bhagavāna nē kansa kā ud’dhāra karakē mathurā pūrī aura saba prajā kō sukha pradāna kiyā.

Comments

comments