Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Pooja Paath » दीपावली -Deepawali

दीपावली -Deepawali

deepawali

deepawali

 

Deepawali

Deepawali

दीपावली की रात देवी लक्ष्मी के साथ एक दंत मंगलमूर्ति गणपति की पूजा की जाती है (Laxmi Ganesha Pooja). पूजा स्थल पर गणेश लक्ष्मी  (Ganesh Laxmi) की मूर्ति या तस्वीर के पीछे शुभ और लाभ लिखा जाता है व इनके बीच में स्वास्तिक का चिन्ह बनाया जाता है. दीपावली की रात दियों की जगमगाहट के पीछे कई लोक कथाएं भी हैं. एक कथा के अनुसार दीपावली के दिन ही भगवान राम 14 वर्ष के वनवास के पश्चात अयोध्या लट कर आये थे और अयोध्यावासियों ने प्रभु राम के आगमन पर दीपों की रोशनी से पूरे अयोध्या को इस प्रकार सजा दिया था कि देखने पर यूं एहसास होता था कि गगन के तारे जमीं पर उतर आये हों. आज भी उसी शुभ दिन को याद करते हुए दीपावली का त्यहार रंगोली बनाकर और दीप जलाकर परम्परागत और हर्षो उल्लास से मनाते हैं.

दीपावली लोक कथा (Deepawali Katha)

एक अन्य लोक कथा के अनुसार देवी लक्ष्मी इस रात अपनी बहन दरिद्रा के साथ भू-लोक की सैर पर आती हैं. जिस घर में साफ सफाई और स्वच्छता रहती है वहां मां लक्ष्मी अपने कदम रखती हैं और जिस घर में ऐसा नहीं होता वहां दरिद्रा अपना डेरा जमा लेती है. यहां एक और बात ध्यान देने योग्य है कि देवी सीता जो लक्ष्मी की अवतार मानी जाती हैं वह भी भगवान श्री राम के साथ इस दिन वनवास से लट कर आयीं थी इसलिए भी इस दिन घर की साफ सफाई करके देवी लक्ष्मी का स्वागत व पूजन किया जाता है.

दीपावली के संदर्भ में एक और भी लोककथा काफी प्रचलित है जो अलग अलग प्रांतों में अलग अलग रूपों में देखने को मिलती हैं. घर में मां, दादी जो कोई बड़ी होती हैं वे रात्रि के अंतिम प्रहर में देवी लक्ष्मी का आह्ववान करती हैं और दरिद्रा को बाहर करती हैं. इसके लिए कहीं कहीं सूप को सरकंडे से पीटा जाता है तो कहीं पुराने छाज में कूरे आदि भर कर घर से बाहर कहीं फेंका जाता है. इस क्रम में महिलाएं यह बोलती हैं “अन्न, धन, लक्ष्मी घर में पधारो, दरिद्रा घर से जाओ जाओ”.

इस रात बच्चों में एवं युवओं में पटाखें जलाने की उमंग रहती है वहीं व्यवसायियों के लिए नये वर्ष का आगमन होता है वे इस दिन पूरे खाते बही का हिसाब करते हैं और नया खाता बही लिखते हैं. तंत्र साधना करने वालो के लिए यह रात सिद्धि देने वाली होती है, इस रात भूत, प्रेत, बेताल, पिशाच, डाकनी, शाकनी आदि उन्मुक्त रूप से विचरण करते हैं ऐसे में जो साधक सिद्धि चाहते हैं उन्हें आसानी से फल की प्राप्ति होती है. भगवान शिव और मां काली तंत्रिक शास्त्र के इष्ट माने जाते हैं इसलिए शैव धर्म को मानने वाले लोग इस रात देवी काली और भगवान शंकर की पूजा करते हैं. उज्जैन में आज भी दीपावली की रात तांत्रिक विधियों से महाकालेश्वर भगवान शंकर की पूजा की जाती है.

दीपावली की रात जुआ खेलने की परम्परा जाने कहां से आई यह कहना मुश्किल है लेकिन ऐसी मान्यता है कि इस रात जुआ खेलकर भाग्य की आजमाईश होती है कि वर्ष भर भाग्य कैसा रहेगा. दीपावली के साथ जुडी यह परम्परा दिन ब दिन विकृत रूप धारण करती जा रही है, यहां हमें यह ध्यान रखना होगा कि जुआ एक प्रकार की गंदगी है और जहां यह होता है वहां लक्ष्मी नहीं ठहरती बल्कि दरिद्रा का निवास होता है.

दीपावली पूजन विधान (Deepawali Pooja Vidhan)

कथा मान्यता और परम्परा की बात करते हुए हम इस रात में होने वाली पूजा के विषय में बात कर लेते हैं. इस रात घर के मुख्य दरवाजे पर रंगोली बनाई जाती है और उसके मध्य मे चमुख दीया जलाकर रखा जाता है. घर में चावल को पीसकर उससे महिलाएं अल्पना बनाती हैं और उसके पर लक्ष्मीं और गणेश की मूर्ति बैठायी जाती है कहीं कहीं पूजा के लिए घरंदा भी बनाया जाता है. लक्ष्मी जी की पूजा से पहले भगवान गणेश की फूल, अक्षत, कुमकुम, रोली, दूब, पान, सुपारी और मोदक मिष्टान से पूजा की जाती है फिर देवी लक्ष्मी की पूजा भी इस प्रकार की जाती है. इस रात जागरण करने का विधान भी है.

[To English Wish4me]

Deepaavalee kee raat devee lakṣmee ke saath ek dnt mngalamoorti gaṇaapati kee poojaa kee jaatee hai (laxmi ganesha pooja). Poojaa sthal par gaṇaesh lakṣmee (ganesh laxmi) kee moorti yaa tasveer ke peechhe shubh aur laabh likhaa jaataa hai v inake beech men svaastik kaa chinh banaayaa jaataa hai. Deepaavalee kee raat diyon kee jagamagaahaṭ ke peechhe kaii lok kathaaen bhee hain. Ek kathaa ke anusaar deepaavalee ke din hee bhagavaan raam 14 varṣ ke vanavaas ke pashchaat ayodhyaa laṭ kar aaye the aur ayodhyaavaasiyon ne prabhu raam ke aagaman par deepon kee roshanee se poore ayodhyaa ko is prakaar sajaa diyaa thaa ki dekhane par yoon ehasaas hotaa thaa ki gagan ke taare jameen par utar aaye hon. Aaj bhee usee shubh din ko yaad karate hue deepaavalee kaa tyahaar rngolee banaakar aur deep jalaakar paramparaagat aur harṣo ullaas se manaate hain.

Deepaavalee lok kathaa (deepawali katha)

ek any lok kathaa ke anusaar devee lakṣmee is raat apanee bahan daridraa ke saath bhoolok kee sair par aatee hain. Jis ghar men saaf safaaii aur svachchhataa rahatee hai vahaan maan lakṣmee apane kadam rakhatee hain aur jis ghar men aisaa naheen hotaa vahaan daridraa apanaa ḍaeraa jamaa letee hai. Yahaan ek aur baat dhyaan dene yogy hai ki devee seetaa jo lakṣmee kee avataar maanee jaatee hain vah bhee bhagavaan shree raam ke saath is din vanavaas se laṭ kar aayeen thee isalie bhee is din ghar kee saaf safaaii karake devee lakṣmee kaa svaagat v poojan kiyaa jaataa hai. Deepaavalee ke sndarbh men ek aur bhee lokakathaa kaafee prachalit hai jo alag alag praanton men alag alag roopon men dekhane ko milatee hain. Ghar men maan, daadee jo koii badee hotee hain ve raatri ke antim prahar men devee lakṣmee kaa aahvavaan karatee hain aur daridraa ko baahar karatee hain. Isake lie kaheen kaheen soop ko saraknḍae se peeṭaa jaataa hai to kaheen puraane chhaaj men koore aadi bhar kar ghar se baahar kaheen fenkaa jaataa hai. Is kram men mahilaaen yah bolatee hain “ann, dhan, lakṣmee ghar men padhaaro, daridraa ghar se jaao jaao”. Is raat bachchon men evn yuvaon men paṭaakhen jalaane kee umng rahatee hai vaheen vyavasaayiyon ke lie naye varṣ kaa aagaman hotaa hai ve is din poore khaate bahee kaa hisaab karate hain aur nayaa khaataa bahee likhate hain. Tntr saadhanaa karane vaalo ke lie yah raat siddhi dene vaalee hotee hai, is raat bhoot, pret, betaal, pishaach, ḍaakanee, shaakanee aadi unmukt roop se vicharaṇa karate hain aise men jo saadhak siddhi chaahate hain unhen aasaanee se fal kee praapti hotee hai. Bhagavaan shiv aur maan kaalee tntrik shaastr ke iṣṭ maane jaate hain isalie shaiv dharm ko maanane vaale log is raat devee kaalee aur bhagavaan shnkar kee poojaa karate hain. Ujjain men aaj bhee deepaavalee kee raat taantrik vidhiyon se mahaakaaleshvar bhagavaan shnkar kee poojaa kee jaatee hai. Deepaavalee kee raat juaa khelane kee paramparaa jaane kahaan se aaii yah kahanaa mushkil hai lekin aisee maanyataa hai ki is raat juaa khelakar bhaagy kee aajamaaiish hotee hai ki varṣ bhar bhaagy kaisaa rahegaa. Deepaavalee ke saath juḍaee yah paramparaa din b din vikrit roop dhaaraṇa karatee jaa rahee hai, yahaan hamen yah dhyaan rakhanaa hogaa ki juaa ek prakaar kee gndagee hai aur jahaan yah hotaa hai vahaan lakṣmee naheen ṭhaharatee balki daridraa kaa nivaas hotaa hai.

Deepaavalee poojan vidhaan (deepawali pooja idhan)

kathaa maanyataa aur paramparaa kee baat karate hue ham is raat men hone vaalee poojaa ke viṣay men baat kar lete hain. Is raat ghar ke mukhy daravaaje par rngolee banaaii jaatee hai aur usake madhy me chamukh deeyaa jalaakar rakhaa jaataa hai. Ghar men chaaval ko peesakar usase mahilaaen alpanaa banaatee hain aur usake par lakṣmeen aur gaṇaesh kee moorti baiṭhaayee jaatee hai kaheen kaheen poojaa ke lie gharndaa bhee banaayaa jaataa hai. Lakṣmee jee kee poojaa se pahale bhagavaan gaṇaesh kee fool, akṣat, kumakum, rolee, doob, paan, supaaree aur modak miṣṭaan se poojaa kee jaatee hai fir devee lakṣmee kee poojaa bhee is prakaar kee jaatee hai. Is raat jaagaraṇa karane kaa vidhaan bhee hai.

Comments

comments