Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Pooja Paath » नरक चतुर्दशी

नरक चतुर्दशी

narak-chaturdashi

narak-chaturdashi

Narak-Chaturdashi

Narak-Chaturdashi

कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को “नरक चतुर्दशी कहा जाता है। कुछ जगहों पर इसे रूप चतुर्दशी और “छोटी दीपावली” के नाम से भी जाना जाता है।
पूजा विधि (Narak Chaturdashi in Hindi): भविष्य पुराण के अनुसार इस दिन प्रभात के समय नरक के भय को दूर करने के लिए स्नान अवश्य करना चाहिए। इसके बाद देवताओं का पूजन करके दीपदान करना चाहिए। स्नान के दौरान अपामार्ग (चिचड़ा) के पत्ते को सिर के ऊपर निम्न मंत्र पढ़ते हुए घुमाना चाहिए।
हर पाप मार्ग भ्राम्यमाणं पुन: पुन:।
आपदं किल्बिषं चापि ममापहर सवर्श:। अपामार्ग नमस्तेस्तु शरीरं मम शोधय॥

[To English Wish4me]

Kaartik kriṣṇa pakṣ kee chaturdashee ko “narak chaturdashee kahaa jaataa hai. Kuchh jagahon par ise roop chaturdashee” aur “Chhoṭee deepaavalee” ke naam se bhee jaanaa jaataa hai.

Poojaa vidhi (narak chaturdashi in English)

ah bhaviṣy puraaṇa ke anusaar is din prabhaat ke samay narak ke bhay ko door karane ke lie snaan avashy karanaa chaahie. Isake baad devataa_on kaa poojan karake deepadaan karanaa chaahie. Snaan ke dauraan apaamaarg (chichadaa) ke patte ko sir ke oopar nimn mntr paḍhate hue ghumaanaa chaahie. Har paap maarg bhraamyamaaṇan punah punah. Aapadn kilbiṣn chaapi mamaapahar savarshah. Apaamaarg namastestu shareern mam shodhay॥

 

Comments

comments