Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Vrat & Festivals » SAKAT CHAUTH

SAKAT CHAUTH

sakat-chauth

sakat-chauth

sakat chauth

sakat chauth

SAKAT CHAUTH VRAT KATHA

व्रत कथाएक बार राक्षसों से भयभीत होकर देवता भगवान शंकर की शरण में गए। उस समय भगवान शिव के पास भगवान कार्तिकेय तथा गणेश भी उपस्थित थे। शिवजी ने दोनों से पूछा – तुममे से कौन देवताओं के कष्ट समाप्त करेगा।

तब कार्तिकेय और गणेश दोनो ही जाने की इच्छा प्रकट की। ऐसा जान मुस्कारते हुए शिव ने दोनो बालको को पृथ्वी की परिक्रमा करने को कहा तथा यह शर्त रखी – जो सबसे पहले पूरी पृथ्वी की परिक्रमा करके आ जाएगा, वही सबसे वीर तथा सर्वश्रेष्ठ देवता घोषित किया जाएगा।

ऐसा सुनते ही कार्तिकेय अपने वाहन मोर पर चढ़कर पृथ्वी की परिक्रमा करने चल दिए। इधर गणेश जी के लिए चूहे के बल पूरी पृथ्वी का चक्कर लगाना असम्भव था। इसलिए वे सात बार माता-पिता की परिक्रमा करके बैठ गए।

उधर रास्ते में कार्तिकेय को पूरे पृथ्वी मण्डल में उनके आगे चूहे के पद चिन्ह दिखाई दिए। परिक्रमा करके लौटने पर निर्णय की बारी आई। तब कार्तिकेय जी ने स्वयं को विजेता बताया। इस पर गणेश ने भगवान शिव से कहा माता-पिता में ही समस्त तीर्थ निहित है। इसलिए मैने आपकी सात बार परिक्रमा की है।

गणेश जी की बात सुनकर समस्त देवताओं तथा गौरी-शंकर ने गणेश की भरपूर प्रशंसा की तथा आशीर्वाद दिया की तीनों लोको में सर्व प्रथम तुम्हारी ही पूजा होगी।

तब शिव की आज्ञा पाकर गणेश जी ने देवताओं का संकट दूर किया। चन्द्रमा से गणेश जी के विजय का समाचार सुनकर भगवान शंकर ने चन्द्रमा को वरदान दिया कि चौथ के दिन चन्द्रमा पूरे विश्व को शीतलता प्रदान करेगा। जो स्त्री पुरुष इस तिथि पर चन्द्रमा का पूजन तथा चन्द्रमा को अर्घ्य देगा उसे एश्वर्य, पुत्र, सौभाग्य की प्राप्ति होगी।

माना जाता है  तभी से पुत्रवती माताएँ पुत्र तथा पति की सुख-समृद्धि के लिए यह व्रत करती हैं।

In English

vrat katha -ek baar raakshason se bhayabheet hokar devata bhagavaan shankar kee sharan mein gae. us samay bhagavaan shiv ke paas bhagavaan kaartikey tatha ganesh bhee upasthit the. shivajee ne donon se poochha – tumame se kaun devataon ke kasht samaapt karega.

tab kaartikey aur ganesh dono hee jaane kee ichchha prakat kee. aisa jaan muskaarate hue shiv ne dono baalako ko prthvee kee parikrama karane ko kaha tatha yah shart rakhee – jo sabase pahale pooree prthvee kee parikrama karake aa jaega, vahee sabase veer tatha sarvashreshth devata ghoshit kiya jaega.

aisa sunate hee kaartikey apane vaahan mor par chadhakar prthvee kee parikrama karane chal die. idhar ganesh jee ke lie choohe ke bal pooree prthvee ka chakkar lagaana asambhav tha. isalie ve saat baar maata-pita kee parikrama karake baith gae.

udhar raaste mein kaartikey ko poore prthvee mandal mein unake aage choohe ke pad chinh dikhaee die. parikrama karake lautane par nirnay kee baaree aaee. tab kaartikey jee ne svayan ko vijeta bataaya. is par ganesh ne bhagavaan shiv se kaha maata-pita mein hee samast teerth nihit hai. isalie maine aapakee saat baar parikrama kee hai.

ganesh jee kee baat sunakar samast devataon tatha gauree-shankar ne ganesh kee bharapoor prashansa kee tatha aasheervaad diya kee teenon loko mein sarv pratham tumhaaree hee pooja hogee.

tab shiv kee aagya paakar ganesh jee ne devataon ka sankat door kiya. chandrama se ganesh jee ke vijay ka samaachaar sunakar bhagavaan shankar ne chandrama ko varadaan diya ki chauth ke din chandrama poore vishv ko sheetalata pradaan karega. jo stree purush is tithi par chandrama ka poojan tatha chandrama ko arghy dega use eshvary, putr, saubhaagy kee praapti hogee.

maana jaata hai tabhee se putravatee maataen putr tatha pati kee sukh-samrddhi ke lie yah vrat karatee hain.

Comments

comments