Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Pooja Paath » विवाह पंचमी Vivah Panchami

विवाह पंचमी Vivah Panchami

vivah-panchami

vivah-panchami

 Vivah Panchami

Vivah Panchami

भारत में कई स्थानों पर विवाह पंचमी को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। मार्गशीर्ष (अगहन) मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को भगवान श्रीराम तथा जनकपुत्री जानकी (सीता) का विवाह हुआ था। तभी से इस पंचमी को ‘विवाह पंचमी पर्व’ के रूप में मनाया जाता है।

पौराणिक धार्मिक ग्रथों के अनुसार इस तिथि को भगवान राम ने जनक नंदिनी सीता से विवाह किया था। जिसका वर्णन श्रीरामचरितमानस में महाकवि गोस्वामी तुलसीदासजी ने बड़ी ही सुंदरता से किया है।
श्रीरामचरितमानस के अनुसार- महाराजा जनक ने सीता के विवाह हेतु स्वयंवर रचाया। सीता के स्वयंवर में आए सभी राजा-महाराजा जब भगवान शिव का धनुष नहीं उठा सकें, तब ऋषि विश्वामित्र ने प्रभु श्रीराम से आज्ञा देते हुए कहा- हे राम! उठो, शिवजी का धनुष तोड़ो और जनक का संताप मिटाओ।
गुरु विश्वामित्र के वचन सुनकर श्रीराम तत्पर उठे और धनुष पर प्रत्यंचा चढ़ाने के लिए आगे बढ़ें। यह दृश्य देखकर सीता के मन में उल्लास छा गया। प्रभु की ओर देखकर सीताजी ने मन ही मन निश्चय किया कि यह शरीर इन्हीं का होकर रहेगा या तो रहेगा ही नहीं।
माता सीता के मन की बात प्रभु श्रीराम जान गए और उन्होंने देखते ही देखते भगवान शिव का महान धनुष उठाया। इसके बाद उस पर प्रत्यंचा चढ़ाते ही एक भयंकर ध्वनि के साथ धनुष टूट गया। यह देखकर सीता के मन को संतोष हुआ।
फिर सीता श्रीराम के निकट आईं। सखियों के बीच में जनकपुत्री सीता ऐसी शोभित हो रही थ‍ी, जैसे बहुत-सी छबियों के बीच में महाछबि हो। तब एक सखी ने सीता से जयमाला पहनाने को कहा। उस समय उनके हाथ ऐसे सुशोभित हो रहे थे, मानो डंडियोंसहित दो कमल चंद्रमा को डरते हुए जयमाला दे रहे हो। तब सीताजी ने श्रीराम के गले में जयमाला पहना दी। यह दृश्य देखकर देवता फूल बरसाने लगे। नगर और आकाश में बाजे बजने लगे।
श्रीराम-सीता की जोड़ी इस प्रकार सुशोभित हो रही थी, मानो सुंदरता और श्रृंगार रस एकत्र हो गए हो। पृथ्वी, पाताल और स्वर्ग में यश फैल गया कि श्रीराम ने धनुष तोड़ दिया और सीताजी का वरण कर लिया। इसी के मद्देनजर प्रतिवर्ष अगहन मास की शुक्ल पंचमी को प्रमुख राम मंदिरों में विशेष उत्सव मनाया जाता है।
मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम-सीता के शुभ विवाह के कारण ही यह दिन अत्यंत पवित्र माना जाता है। भारतीय संस्कृति में राम-सीता आदर्श दम्पत्ति माने गए हैं।
जिस प्रकार प्रभु श्रीराम ने सदा मर्यादा पालन करके पुरुषोत्तम का पद पाया, उसी तरह माता सीता ने सारे संसार के समक्ष पतिव्रता स्त्री होने का सर्वोपरि उदाहरण प्रस्तुत किया। इस पावन दिन सभी को राम-सीता की आराधना करते हुए अपने सुखी दाम्पत्य जीवन के लिए प्रभु से आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए।
 [To English Wish4me]
Bhaarat men kaii sthaanon par vivaah pnchamee ko badee dhoomadhaam se manaayaa jaataa hai. Maargasheerṣ (agahan) maas kee shukl pakṣ kee pnchamee ko bhagavaan shreeraam tathaa janakaputree jaanakee (seetaa) kaa vivaah huaa thaa. Tabhee se is pnchamee ko ‘vivaah pnchamee parv’ ke roop men manaayaa jaataa hai.
Pauraaṇaik dhaarmik grathon ke anusaar is tithi ko bhagavaan raam ne janak nndinee seetaa se vivaah kiyaa thaa. Jisakaa varṇaan shreeraamacharitamaanas men mahaakavi gosvaamee tulaseedaasajee ne badee hee sundarataa se kiyaa hai.
Shreeraamacharitamaanas ke anusaar- mahaaraajaa janak ne seetaa ke vivaah hetu svaynvar rachaayaa. Seetaa ke svaynvar men aae sabhee raajaa-mahaaraajaa jab bhagavaan shiv kaa dhanuṣ naheen uṭhaa saken, tab rriṣi vishvaamitr ne prabhu shreeraam se aagyaa dete hue kahaa- he raam! Uṭho, shivajee kaa dhanuṣ todo aur janak kaa sntaap miṭaao.
Guru vishvaamitr ke vachan sunakar shreeraam tatpar uṭhe aur dhanuṣ par pratynchaa chaḍhxaane ke lie aage baḍhxen. Yah drishy dekhakar seetaa ke man men ullaas chhaa gayaa. Prabhu kee or dekhakar seetaajee ne man hee man nishchay kiyaa ki yah shareer inheen kaa hokar rahegaa yaa to rahegaa hee naheen.
Maataa seetaa ke man kee baat prabhu shreeraam jaan gae aur unhonne dekhate hee dekhate bhagavaan shiv kaa mahaan dhanuṣ uṭhaayaa. Isake baad us par pratynchaa chaḍhxaate hee ek bhaynkar dhvani ke saath dhanuṣ ṭooṭ gayaa. Yah dekhakar seetaa ke man ko sntoṣ huaa.
Fir seetaa shreeraam ke nikaṭ aaiin. Sakhiyon ke beech men janakaputree seetaa aisee shobhit ho rahee th‍ee, jaise bahut-see chhabiyon ke beech men mahaachhabi ho. Tab ek sakhee ne seetaa se jayamaalaa pahanaane ko kahaa. Us samay unake haath aise sushobhit ho rahe the, maano ḍanḍaiyonsahit do kamal chndramaa ko ḍaarate hue jayamaalaa de rahe ho. Tab seetaajee ne shreeraam ke gale men jayamaalaa pahanaa dee. Yah drishy dekhakar devataa fool barasaane lage. Nagar aur aakaash men baaje bajane lage.
Shreeraam-seetaa kee jodee is prakaar sushobhit ho rahee thee, maano sundarataa aur shrringaar ras ekatr ho gae ho. Prithvee, paataal aur svarg men yash fail gayaa ki shreeraam ne dhanuṣ tod diyaa aur seetaajee kaa varaṇa kar liyaa. Isee ke maddenajar prativarṣ agahan maas kee shukl pnchamee ko pramukh raam mndiron men visheṣ utsav manaayaa jaataa hai.
Maryaadaa puruṣottam shreeraam-seetaa ke shubh vivaah ke kaaraṇa hee yah din atynt pavitr maanaa jaataa hai. Bhaarateey snskriti men raam-seetaa aadarsh dampatti maane gae hain.
Jis prakaar prabhu shreeraam ne sadaa maryaadaa paalan karake puruṣottam kaa pad paayaa, usee tarah maataa seetaa ne saare snsaar ke samakṣ pativrataa stree hone kaa sarvopari udaaharaṇa prastut kiyaa. Is paavan din sabhee ko raam-seetaa kee aaraadhanaa karate hue apane sukhee daampaty jeevan ke lie prabhu se aasheervaad praapt karanaa chaahie.

Comments

comments