Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » अभी तो जगाया तुझे फिर सो गया

अभी तो जगाया तुझे फिर सो गया

abhi-to-jagaya-tujhe-fir-so-gya

abhi-to-jagaya-tujhe-fir-so-gya

Abhi to jagaya tujhe fir so gya bhajan

उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया

अगर भजन आतुर करो
नदी रुखना जब तब होवे विनाश

अभी तो जगाया तुझे फिर सो गया
उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया

हम परदेसीयो की यही है निशानी
आए और चले गये ख़तम कहानी
कोई चला हंसते हंसते
कोई रो गया

उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया

क्या खबर दिल की लगी भी हो ना हो
दिल तो है ज़िंदादिली भी हो ना हो
आज ही का दिन है जो करना है कर
कल ना जाने जिंदगी हो ना हो

जब तुम जाग में आए थे
सब हँसे तुम रोए
कबीरा ऐसी कर चलो
जो पच्चे हँसी ना होये

अभी तो जगाया तुझे फिर सो गया
उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया

सारे रिस्ते नाते तेरे यही रह जाएँगे
हीरे और मोटी तेरे काम नही आएँगे
अनमोल जीवन तेरा व्यर्थ खो गया
उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया

उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया

इंसान के कंधो पेर इंसान जेया रहे है
काफनो में लिपटे हुए कुच्छ अरमान जेया रहे है
जिनको ना मिला सुकून इश्स भागती दुनिया में
अब सुकून की तलाश में शमशन जा रहे है

ना एक पल चैन से बैठो
ना मीठी नीड सो पौ
मिया इश्स मुक्तसर सी जिंदगी
में क्या चाहते हो

अब जाग मुशफिर होश में एयेए
कुच्छ मोल समझ इश्स जीवन का
सिर पेर गठरी तेरे पाप की है
पल पल पेर नागिन संताप की है
ना अपना कोई साथी है
और . सफ़र है जीवन का

अब जाग मुशफिर होश में एयेए
कुच्छ मोल समझ इश्स जीवन का

भाव सागर अब सूख गयो है
फिकर नही अब तरणं की

कुच्छ मोल समझ इश्स जीवन का
अब जाग मुशफिर होश में एयेए

अभी तो जगाया तुझे फिर सो गया
उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया

इश्स दुनिया में तेरा कोई अपना नही
कोई परदेसी यहा देर तक रुका नही
वापस ना आया एक बार जो गया
उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया

हरी बोल

अभी तो जगाया तुझे फिर सो गया
उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया
उठ परदेसी तेरा वक़्त हो गया


 

uth paradesee tera vaqt ho gaya

agar bhajan aatur karo
nadee rukhana jab tab hove vinaash

abhee to jagaaya tujhe phir so gaya
uth paradesee tera vaqt ho gaya

ham paradeseeyo kee yahee hai nishaanee
aae aur chale gaye khatam kahaanee
koee chala hansate hansate
koee ro gaya

uth paradesee tera vaqt ho gaya

kya khabar dil kee lagee bhee ho na ho
dil to hai zindaadilee bhee ho na ho
aaj hee ka din hai jo karana hai kar
kal na jaane jindagee ho na ho

jab tum jaag mein aae the
sab hanse tum roe
kabeera aisee kar chalo
jo pachche hansee na hoye

abhee to jagaaya tujhe phir so gaya
uth paradesee tera vaqt ho gaya

saare riste naate tere yahee rah jaenge
heere aur motee tere kaam nahee aaenge
anamol jeevan tera vyarth kho gaya
uth paradesee tera vaqt ho gaya

uth paradesee tera vaqt ho gaya

insaan ke kandho per insaan jeya rahe hai
kaaphano mein lipate hue kuchchh aramaan jeya rahe hai
jinako na mila sukoon ishs bhaagatee duniya mein
ab sukoon kee talaash mein shamashan ja rahe hai

na ek pal chain se baitho
na meethee need so pau
miya ishs muktasar see jindagee
mein kya chaahate ho

ab jaag mushaphir hosh mein eyee
kuchchh mol samajh ishs jeevan ka
sir per gatharee tere paap kee hai
pal pal per naagin santaap kee hai
na apana koee saathee hai
aur . safar hai jeevan ka

ab jaag mushaphir hosh mein eyee
kuchchh mol samajh ishs jeevan ka

bhaav saagar ab sookh gayo hai
phikar nahee ab taranan kee

kuchchh mol samajh ishs jeevan ka
ab jaag mushaphir hosh mein eyee

abhee to jagaaya tujhe phir so gaya
uth paradesee tera vaqt ho gaya

ishs duniya mein tera koee apana nahee
koee paradesee yaha der tak ruka nahee
vaapas na aaya ek baar jo gaya
uth paradesee tera vaqt ho gaya

haree bol

abhee to jagaaya tujhe phir so gaya
uth paradesee tera vaqt ho gaya
uth paradesee tera vaqt ho gaya

wish4me

Comments

comments