Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » Ahoi ashtami (Ahoi Ashtami)

Ahoi ashtami (Ahoi Ashtami)

ahoi-ashtami

ahoi-ashtami

Ahoi-Ashtami1

Ahoi-Ashtami

अहोई अष्टमी का व्रत सन्तान की उन्नति, प्रगति और दीर्घायु के लिए होता है| यह व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी को किया जाता है| दीपावली के ठीक एक हफ्ते  पहले पड़ती है l

विधि

व्रत करने वाली स्त्री को इस दिन उपवास रखना चाहिए| सायं काल दीवार पर अष्ट कोष्ठक की अहोई की पुतली रंग भरकर बनाएँ| चाहें तो बिना बनाया चार्ट बाजार से खरीद सकती हैं| सूर्यास्त के बाद तारे निकलने पर अहोई माता की पूजा प्रारंभ करने से पूर्व ज़मीन को साफ करें| फिर चौक पूरकर, एक लोटे मे जल भरकर एक पटरे  पर कलश की तरह रखकर पूजा करें| पूजा के लिए माताएँ पहले से चाँदी का एक अहोई या स्याऊ और चाँदी के दो मोती बनवाकर डोरी मे डलवा लें| फिर रोली, चावल व दूध-भात से अहोई का पूजन करें| जल से भरें लोटे पर स्वास्तिक बना लें| एक कटोरी में हलवा तथा सामर्थ्य के अनुसार रूपए का बायना निकालकर रख लें और हाथ में सात दाने गेहूँ लेकर कथा सुनें| कथा सुनने के बाद अहोई की माला गले मे पहन लें और जो बायना निकाला था, उसे सासूजी का चरण स्पर्श कर उन्हें दे दें| इसके बाद चंद्रमा को अर्ध्य देकर भोजन करें| दीपावली के पश्चात किसी दिन अहोई को गले से उतारकर उसका गुड से भोग लगाएँ और जल के छीटें देकर आदर सहित स्वच्छ स्थान पर रख दें| जितने बेटे अविवाहित हों, उतनी बार १-१ तथा जितने बेटों का विवाह हो गया हो, उतनी बार २-२ चाँदी के दाने अहोई मे डालती जाएँ| ऐसा करने से अहोई देवी प्रसन्न होकर बेटों की दीर्घायु करके घर मे मंगल करती हैं| इस दिन ब्राह्माणो को पेठा दान करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है|

कथा()-

प्राचीन समय की बात है| किसी स्त्री के सात पुत्रों का भरा-पूरा परिवार था| कार्तिक मास मे दीपावली से पूर्व वह अपने मकान की लिपाई पुताई के लिए मिट्टी लाने जंगल मे गई| स्त्री एक जगह से मिट्टी खोदने लगी| वहाँ सेई की मांद थी, अचानक उसकी कुदालि सेई के बच्चे को लग गई और वह तुरंत मर गया | यह देख स्त्री दया और करुणा से भर गई| किंतु अब क्या हो सकता था, वह पश्चाताप करती हुई मिट्टी लेकर घर चली गई| कुछ दिनों बाद उसका बड़ा लड़का मर गया, फिर दूसरा लड़का भी, इसी तरह जल्दी ही उसके सातों लड़के चल बसे स्त्री बहुत दुखी रहने लगी| एक दिन वह रोती हुई पास-पड़ोस की बड़ी – बूढ़ियों के पास गई और बोली ” मैंने जान बूझकर तो कभी कोई पाप नहीं किया | हाँ, एक बार मिट्टी खोदते हुए अनजाने में सेई के बच्चे को कुदाली लग गई थी| तब से साल भर भी पूरा नहीं हुआ, मेरे सातो पुत्र मर गएँ ”

उन स्त्रियों ने उसे धैर्य बंधाते हुए कहा तुमने लोगों के सामने अपना अपराध स्वीकार कर जो पश्च्चाताप किया है, इससे तुम्हारा आधा पाप धुल गया| अब तुम उसी अष्टमी को भगवती के पास सेई और उसके बच्चों के चित्र बनाकर उनकी पूजा करो| ईश्वर की कृपा से तुम्हारा सारा पाप धुल जायेगा और तुम्हें फिर पहले की तरह पुत्र प्राप्त होंगें ”|

उस स्त्री ने आगामी कार्तिक कृष्ण अष्टमी को व्रत किया और लगातार उसी भांति व्रत-पूजन  करती रही| भगवती की कृपा से उसे फिर सात पुत्र प्राप्त हुए | तभी से इस व्रत की परम्परा चल पड़ी |

कथा ()-

प्राचीन समय की बात है| दतिया नामक नगर में चन्द्रभान नाम का एक साहूकार रहता था | उसकी पत्नी का नाम चन्द्रिका था | चन्द्रिका बहुत गुणवानशील, सौंदर्यपूर्ण, चरित्रवान और पतिव्रता स्त्री थी | उनके कई संताने हुईं, लेकिन वे अल्पकाल में ही चल बसीं | संतानों के इस प्रकार मर जाने से दोनों बहुत दुखी रहते थें | पति – पत्नी सोचा करते थे की मरने के बाद हमारी धन संपत्ति का वारिस कौन होगा | एक दिन धन आदि का मोह – त्याग दोनों ने जंगल में वास करने का निश्चय किया | अगले दिन घर – बार भगवान के भरोसे छोड़ के वन को चल पड़े | चलते – चलते कई दिनों बाद दोनों बदरिकाश्रम के समीप एक शीतल कुंड पर पहुंचे | कुंड के निकट अन्न – जल त्याग कर दोनों ने मरने का निश्चय किया | इस प्रकार बैठे – बैठे उन्हें सात दिन हो गएँ | सातवें दिन आकाशवाणी हुई- ” तुम लोग अपने प्राण मत त्यागो | यह दुःख तुम्हे पूर्व जन्म के पापो के कारण हुआ है | यदि चन्द्रिका अहोई अष्टमी का व्रत रखे तो अहोई देवी प्रसन्न होंगी और वरदान देने आएँगी | तब तुम उनसे अपने पुत्रो की दीर्घायु मांगना | इसके बाद दोनों घर वापस आ गए | अष्टमी के दिन चन्द्रिका ने विधि- विधान से श्रद्धापूर्वक व्रत किया | रात्रि को पति पत्नी ने स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण की उसी समय उन्हें अहोई देवी ने दर्शन दियें और वर माँगने को कहा | तब चन्द्रिका ने वर मांगा की मेरे बच्चे कम आयु में ही देव लोक चले जाते है | उन्हें दीर्घायु होने का वरदान दे दें | अहोई देवी ने तथास्तु कहा और अंतरध्यान हो गई | कुछ दिनों के बाद चन्द्रिका को पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई | जो बहुत विद्वान, प्रतापी और दीर्घायु हुआ |

जिस स्त्री के बेटा अथवा बेटी का विवाह हुआ हो, उसे अहोई माता का उजमन करना चाहिए | एक थाल में चार – चार पूड़ियां सात जगह रखें| फिर उन पर थोड़ा – थोड़ा हलवा रख दें | थाल में एक साड़ी, ब्लाउज  और सामर्थ्य के अनुसार रूपए रख कर, थाल के चारो ओर हाथ फेरकर सासू जी के चरण स्पर्श करें तथा उसे सादर उन्हें दें | सासूजी तीयल व रूपए स्वयं रख लें एवं हलवा पूरी प्रसाद के रूप में बाँट दें | हलवा पूरी का बायना बहन बेटी के यहाँ भी भेजना चाहिए |

wish4me to English

Ahoii aṣṭamee kaa vrat santaan kee unnati, pragati aur deerghaayu ke lie hotaa hai. Yah vrat kaartik kriṣṇa pakṣ kee aṣṭamee ko kiyaa jaataa hai. Deepaavalee ke ṭheek ek hafte pahale padatee hai l

vidhi-

vrat karane vaalee stree ko is din upavaas rakhanaa chaahie. Saayn kaal deevaar par aṣṭ koṣṭhak kee ahoii kee putalee rng bharakar banaaen. Chaahen to binaa banaayaa chaarṭ baajaar se khareed sakatee hain. Sooryaast ke baad taare nikalane par ahoii maataa kee poojaa praarnbh karane se poorv zameen ko saaf karen. Fir chauk poorakar, ek loṭe me jal bharakar ek paṭare par kalash kee tarah rakhakar poojaa karen. Poojaa ke lie maataa_en pahale se chaandee kaa ek ahoii yaa syaaoo aur chaandee ke do motee banavaakar ḍaoree me ḍaalavaa len. Fir rolee, chaaval v doodh-bhaat se ahoii kaa poojan karen. Jal se bharen loṭe par svaastik banaa len. Ek kaṭoree men halavaa tathaa saamarthy ke anusaar roopae kaa baayanaa nikaalakar rakh len aur haath men saat daane gehoon lekar kathaa sunen. Kathaa sunane ke baad ahoii kee maalaa gale me pahan len aur jo baayanaa nikaalaa thaa, use saasoojee kaa charaṇa sparsh kar unhen de den. Isake baad chndramaa ko ardhy dekar bhojan karen. Deepaavalee ke pashchaat kisee din ahoii ko gale se utaarakar usakaa guḍa se bhog lagaaen aur jal ke chheeṭen dekar aadar sahit svachchh sthaan par rakh den. Jitane beṭe avivaahit hon, utanee baar 1-1 tathaa jitane beṭon kaa vivaah ho gayaa ho, utanee baar 2-2 chaandee ke daane ahoii me ḍaalatee jaaen. Aisaa karane se ahoii devee prasann hokar beṭon kee deerghaayu karake ghar me mngal karatee hain. Is din braahmaaṇao ko peṭhaa daan karane se visheṣ fal kee praapti hotee hai. Kathaa(1)-

praacheen samay kee baat hai. Kisee stree ke saat putron kaa bharaa-pooraa parivaar thaa. Kaartik maas me deepaavalee se poorv vah apane makaan kee lipaaii putaa_ii ke lie miṭṭee laane jngal me gaii. Stree ek jagah se miṭṭee khodane lagee. Vahaan seii kee maand thee, achaanak usakee kudaali seii ke bachche ko lag ga_ii aur vah turnt mar gayaa . Yah dekh stree dayaa aur karuṇaa se bhar gaii. Kintu ab kyaa ho sakataa thaa, vah pashchaataap karatee huii miṭṭee lekar ghar chalee gaii. Kuchh dinon baad usakaa badaa ladkaa mar gayaa, fir doosaraa ladkaa bhee, isee tarah jaldee hee usake saaton ladke chal base stree bahut dukhee rahane lagee. Ek din vah rotee huii paas-pados kee badee – booḍhxiyon ke paas gaii aur bolee ” mainne jaan boojhakar to kabhee koii paap naheen kiyaa . Haan, ek baar miṭṭee khodate hue anajaane men seii ke bachche ko kudaalee lag gaii thee. Tab se saal bhar bhee pooraa naheen huaa, mere saato putr mar gaen ”

un striyon ne use dhairy bndhaate hue kahaa tumane logon ke saamane apanaa aparaadh sveekaar kar jo pashchchaataap kiyaa hai, isase tumhaaraa aadhaa paap dhul gayaa. Ab tum usee aṣṭamee ko bhagavatee ke paas seii aur usake bachchon ke chitr banaakar unakee poojaa karo. Iishvar kee kripaa se tumhaaraa saaraa paap dhul jaayegaa aur tumhen fir pahale kee tarah putr praapt hongen ”. Us stree ne aagaamee kaartik kriṣṇa aṣṭamee ko vrat kiyaa aur lagaataar usee bhaanti vrat-poojan karatee rahee. Bhagavatee kee kripaa se use fir saat putr praapt hue . Tabhee se is vrat kee paramparaa chal padee . Kathaa (2)-

praacheen samay kee baat hai. Datiyaa naamak nagar men chandrabhaan naam kaa ek saahookaar rahataa thaa . Usakee patnee kaa naam chandrikaa thaa . Chandrikaa bahut guṇaavaanasheel, saundaryapoorṇa, charitravaan aur pativrataa stree thee . Unake kaii sntaane huiin, lekin ve alpakaal men hee chal baseen . Sntaanon ke is prakaar mar jaane se donon bahut dukhee rahate then . Pati – patnee sochaa karate the kee marane ke baad hamaaree dhan snpatti kaa vaaris kaun hogaa . Ek din dhan aadi kaa moh – tyaag donon ne jngal men vaas karane kaa nishchay kiyaa . Agale din ghar – baar bhagavaan ke bharose chhod ke van ko chal pade . Chalate – chalate ka_ii dinon baad donon badarikaashram ke sameep ek sheetal kunḍa par pahunche . Kunḍa ke nikaṭ ann – jal tyaag kar donon ne marane kaa nishchay kiyaa . Is prakaar baiṭhe – baiṭhe unhen saat din ho ga_en . Saataven din aakaashavaaṇaee huii- ” tum log apane praaṇa mat tyaago . Yah duahkh tumhe poorv janm ke paapo ke kaaraṇa huaa hai . Yadi chandrikaa ahoii aṣṭamee kaa vrat rakhe to ahoii devee prasann hongee aur varadaan dene aaengee . Tab tum unase apane putro kee deerghaayu maanganaa . Isake baad donon ghar vaapas aa gae . Aṣṭamee ke din chandrikaa ne vidhi- vidhaan se shraddhaapoorvak vrat kiyaa . Raatri ko pati patnee ne snaan kar svachchh vastr dhaaraṇa kee usee samay unhen ahoii devee ne darshan diyen aur var maangane ko kahaa . Tab chandrikaa ne var maangaa kee mere bachche kam aayu men hee dev lok chale jaate hai . Unhen deerghaayu hone kaa varadaan de den . Ahoii devee ne tathaastu kahaa aur antaradhyaan ho ga_ii . Kuchh dinon ke baad chandrikaa ko putr ratn kee praapti huii . Jo bahut vidvaan, prataapee aur deerghaayu huaa . Jis stree ke beṭaa athavaa beṭee kaa vivaah huaa ho, use ahoii maataa kaa ujaman karanaa chaahie . Ek thaal men chaar – chaar poodiyaan saat jagah rakhen. Fir un par thodaa – thodaa halavaa rakh den . Thaal men ek saadee, blaauj aur saamarthy ke anusaar roopa_e rakh kar, thaal ke chaaro or haath ferakar saasoo jee ke charaṇa sparsh karen tathaa use saadar unhen den . Saasoojee teeyal v roopa_e svayn rakh len evn halavaa pooree prasaad ke roop men baanṭ den . Halavaa pooree kaa baayanaa bahan beṭee ke yahaan bhee bhejanaa chaahie .

Comments

comments