Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » बेसिलिका ऑफ आर लेडी

बेसिलिका ऑफ आर लेडी

besilika-oph-aar-ledee

besilika-oph-aar-ledee

besilika oph aar ledee

besilika oph aar ledee

बेसिलिका ऑफ आर लेडी (Basilica of Our Lady) ऑफ रैन्सम पुर्तगाली मिशनरियों द्वारा निर्मित भारत में सबसे पुराने यूरोपियन चर्चों में से एक है। यह चर्च मूल रूप से वल्लरपडम की होली मैरी जो कि वल्लरपदथ अम्मा के रूप से लोकप्रिय थीं, को समर्पित है। यह चर्च केरल के शहर कोच्चि की मुख्य भूमि, एरनाकुलम से उत्तर की ओर 1 किमी दूर वेम्बनाड झील पर एक छोटे से द्वीप वल्लरपडम के केन्द्र में स्थित है।

ईसाई मान्यता (Christianity Belief)

यह 1524 में बनाया गया एक प्राचीन ईसाई चर्च है। यह पवित्र आत्मा यानि होली मैरी को समर्पित एशिया में पहला चर्च माना जाता है। वास्को द गामा की अध्यक्षता में पुर्तगाली व्यापारियों द्वारा इस चर्च में लेडी ऑफ रैन्सम की चमत्कारी तस्वीर लगवाई गई थी। यह तस्वीर होली मैरी और शिशु यीशु की है जो कि चमत्कारी शक्तियों के लिए जानी जाती है।
प्राचीन इतिहास (History of the Church)
17वीं शताब्दी में आई एक भयंकर बाढ़ के बाद यह चर्च तबाह हो गया था और ऐसा माना जाता है कि पलियथ रमन वलियाछन जो कोचीन के महाराजा के दीवान थे ने बाढ़ आने के बाद वहां एकत्रित पानी से इस तस्वीर को निकाला था। उसके बाद यह सुंदर चर्च दोबारा सन 1676 में दीवान द्वारा दी गई दान भूमि पर बनवाया गया था। यह चर्च होली मैरी और शिशु यीशु की चमत्कारी तस्वीर और एक दीपक के लिए मशहूर है जो कि कोचीन के महाराजा के दीवान द्वारा ही चर्च में भेंट की गई थी और जो सन 1676 से लेकर आज तक प्रज्वलित है।

wish4me to English

besilika oph aar ledee (basilich of our lady) oph rainsam purtagaalee mishanariyon dvaara nirmit bhaarat mein sabase puraane yooropiyan charchon mein se ek hai. yah charch mool roop se vallarapadam kee holee mairee jo ki vallarapadath amma ke roop se lokapriy theen, ko samarpit hai. yah charch keral ke shahar kochchi kee mukhy bhoomi, eranaakulam se uttar kee or 1 kimee door vembanaad jheel par ek chhote se dveep vallarapadam ke kendr mein sthit hai.

eesaee maanyata (chhristianity bailiaif)

yah 1524 mein banaaya gaya ek praacheen eesaee charch hai. yah pavitr aatma yaani holee mairee ko samarpit eshiya mein pahala charch maana jaata hai. vaasko da gaama kee adhyakshata mein purtagaalee vyaapaariyon dvaara is charch mein ledee oph rainsam kee chamatkaaree tasveer lagavaee gaee thee. yah tasveer holee mairee aur shishu yeeshu kee hai jo ki chamatkaaree shaktiyon ke lie jaanee jaatee hai.
praacheen itihaas (history of thai chhurchh)
17veen shataabdee mein aaee ek bhayankar baadh ke baad yah charch tabaah ho gaya tha aur aisa maana jaata hai ki paliyath raman valiyaachhan jo kocheen ke mahaaraaja ke deevaan the ne baadh aane ke baad vahaan ekatrit paanee se is tasveer ko nikaala tha. usake baad yah sundar charch dobaara san 1676 mein deevaan dvaara dee gaee daan bhoomi par banavaaya gaya tha. yah charch holee mairee aur shishu yeeshu kee chamatkaaree tasveer aur ek deepak ke lie mashahoor hai jo ki kocheen ke mahaaraaja ke deevaan dvaara hee charch mein bhent kee gaee thee aur jo san 1676 se lekar aaj tak prajvalit hai.

Comments

comments