Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » बिल्व वृक्ष का महत्त्व जानकर हैरान हो जाएंगे आप।

बिल्व वृक्ष का महत्त्व जानकर हैरान हो जाएंगे आप।

bilv-vrksh-ka-mahatv-jaanakar-hairaan-ho-jaenge-aap

bilv-vrksh-ka-mahatv-jaanakar-hairaan-ho-jaenge-aap

bilv vrksh

bilv vrksh

भगवान शिव से जुड़े होने के कारण बेल के पेड़ या बिल्व वृक्ष का भी काफी धार्मिक महत्त्व है। कहा जाता है कि भगवान शिव को बिल्वपत्र चढ़ाने से वे प्रसन्न होते हैं। मंदिरों और घर के आसपास बेल का पेड़ होना शुभ माना जाता है।
बिल्व अथवा बेल विश्व के कई हिस्सों में पाया जाने वाला वृक्ष है। भारत में इस वृक्ष का पीपल, नीम, आम, पारिजात और पलाश आदि वृक्षों के समान ही बहुत अधिक सम्मान है। हिन्दू धर्म में बिल्व वृक्ष भगवान शिव की अराधना का मुख्य अंग है।� धार्मिक दृष्टि से महत्त्वपूर्ण होने के कारण इसे मंदिरों के पास लगाया जाता है। बिल्व वृक्ष की तासीर बहुत शीतल होती है। गर्मी की तपिश से बचने के लिए इसके फल का शर्बत बड़ा ही लाभकारी होता है। यह शर्बत कुपचन, आंखों की रोशनी में कमी, पेट में कीड़े और लू लगने जैसी समस्याओं से निजात पाने के लिए उत्तम है। औषधीय गुणों से परिपूर्ण बिल्व की पत्तियों मे टैनिन, लोह, कैल्शियम, पोटेशियम और मैग्नेशियम जैसे रसायन पाए जाते हैं।
श्रीमद् देवी भागवत में स्पष्ट वर्णन है कि जो व्यक्ति मां भगवती को बिल्व पत्र अर्पित करता है वह कभी भी किसी भी परिस्थिति में दुखी नहीं होता। उसे हर तरह की सिद्धि प्राप्त होती है और कई जन्मों के पापों से मुक्ति मिलती है और वह भगवान भोले नाथ का प्रिय भक्त हो जाता है। उसकी सभी इच्छाएं पूरी होती हैं और अंत में मोक्ष की प्राप्ति होती है।

कैसे आया बेल का वृक्ष
बेल वृक्ष की उत्पत्ति के संबंध में ‘स्कंदपुराण’ में कहा गया है कि एक बार देवी पार्वती ने अपनी ललाट से पसीना पोछकर फेंका, जिसकी कुछ बूंदें मंदार पर्वत पर गिरीं, जिससे बेल वृक्ष उत्पन्न हुआ। इस वृक्ष की जड़ों में गिरिजा, तना में महेश्वरी, शाखाओं में दक्षयायनी, पत्तियों में पार्वती, फूलों में गौरी और फलों में कात्यायनी वास करती हैं।
कहा जाता है कि बेल वृक्ष के कांटों में भी कई शक्तियाँ समाहित हैं। यह माना जाता है कि देवी महालक्ष्मी का भी बेल वृक्ष में वास है। जो व्यक्ति शिव-पार्वती की पूजा बेलपत्र अर्पित कर करते हैं, उन्हें महादेव और देवी पार्वती दोनों का आशीर्वाद मिलता है। ‘शिवपुराण’ में इसकी महिमा विस्तृत रूप में बतायी गयी है।

To English in Wish4me

bhagavaan shiv se jude hone ke kaaran bel ke ped ya bilv vrksh ka bhee kaaphee dhaarmik mahattv hai. kaha jaata hai ki bhagavaan shiv ko bilvapatr chadhaane se ve prasann hote hain. mandiron aur ghar ke aasapaas bel ka ped hona shubh maana jaata hai.
bilv athava bel vishv ke kaee hisson mein paaya jaane vaala vrksh hai. bhaarat mein is vrksh ka peepal, neem, aam, paarijaat aur palaash aadi vrkshon ke samaan hee bahut adhik sammaan hai. hindoo dharm mein bilv vrksh bhagavaan shiv kee araadhana ka mukhy ang hai. dhaarmik drshti se mahattvapoorn hone ke kaaran ise mandiron ke paas lagaaya jaata hai. bilv vrksh kee taaseer bahut sheetal hotee hai. garmee kee tapish se bachane ke lie isake phal ka sharbat bada hee laabhakaaree hota hai. yah sharbat kupachan, aankhon kee roshanee mein kamee, pet mein keede aur loo lagane jaisee samasyaon se nijaat paane ke lie uttam hai. aushadheey gunon se paripoorn bilv kee pattiyon me tainin, loh, kailshiyam, poteshiyam aur maigneshiyam jaise rasaayan pae jaate hain.
shreemad devee bhaagavat mein spasht varnan hai ki jo vyakti maan bhagavatee ko bilv patr arpit karata hai vah kabhee bhee kisee bhee paristhiti mein dukhee nahin hota. use har tarah kee siddhi praapt hotee hai aur kaee janmon ke paapon se mukti milatee hai aur vah bhagavaan bhole naath ka priy bhakt ho jaata hai. usakee sabhee ichchhaen pooree hotee hain aur ant mein moksh kee praapti hotee hai.
kaise aaya bel ka vrksh
bel vrksh kee utpatti ke sambandh mein ‘skandapuraan’ mein kaha gaya hai ki ek baar devee paarvatee ne apanee lalaat se paseena pochhakar phenka, jisakee kuchh boonden mandaar parvat par gireen, jisase bel vrksh utpann hua. is vrksh kee jadon mein girija, tana mein maheshvaree, shaakhaon mein dakshayaayanee, pattiyon mein paarvatee, phoolon mein gauree aur phalon mein kaatyaayanee vaas karatee hain.
kaha jaata hai ki bel vrksh ke kaanton mein bhee kaee shaktiyaan samaahit hain. yah maana jaata hai ki devee mahaalakshmee ka bhee bel vrksh mein vaas hai. jo vyakti shiv-paarvatee kee pooja belapatr arpit kar karate hain, unhen mahaadev aur devee paarvatee donon ka aasheervaad milata hai. ‘shivapuraan’ mein isakee mahima vistrt roop mein bataayee gayee hai.

Comments

comments