Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » चावल का एक दाना

चावल का एक दाना

chaaval-kaa-ek-daanaa

chaaval-kaa-ek-daanaa

Chawal ka ek dana

Chawal ka ek dana

शोभित एक मेधावी छात्र था। उसने हाई स्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा में पूरे जिले में टॉप किया था। पर इस सफलता के बावजूद उसके माता-पिता उसे खुश नहीं थे। कारण था पढाई को लेकर उसका घमंड ओर अपने बड़ों से तमीज से बात न करना। वह अक्सर ही लोगों से ऊंची आवाज़ मे बात किया करता और अकारण ही उनका मजाक उड़ा देता। खैर दिन बीतते गए और देखते-देखते शोभित स्नातक भी हो गया।

स्नातक होने के बाद सोभित नौकरी की खोज में निकला| प्रतियोगी परीक्षा पास करने के बावजूद उसका इंटरव्यू में चयन नहीं हो पाता था| शोभित को लगा था कि अच्छे अंक के दम पर उसे आसानी से नौकरी मिल जायेगी पर ऐसा हो न सका| काफी प्रयास के बाद भी वो सफल ना हो सका| हर बार उसका घमंड, बात करने का तरीका इंटरव्यू लेने वाले को अखर जाता और वो उसे ना लेते| निरंतर मिल रही असफलता से शोभित हताश हो चुका था , पर अभी भी उसे समझ नहीं आ रहा था कि उसे अपना व्यवहार बदलने की आवश्यता है।

एक दिन रस्ते में शोभित की मुलाकात अपने स्कूल के प्रिय अध्यापक से हो गयी| वह उन्हें बहुत मानता था ओर अध्यापक भी उससे बहुत स्नेह करते थे | सोभित ने अध्यापक को सारी बात बताई| चूँकि अध्यापक सोभित के वयवहार से परिचित थे, तो उन्होने कहा की कल तुम मेरे घर आना तब मैं तुम्हे इसका उपाय बताऊंगा|

शोभित अगले दिन मास्टर साहब के घर गया| मास्टर साहब घर पर चावल पका रहे थे| दोनों आपस में बात ही कर रहे थे की मास्टर साहब ने शोभित से कहा जाके देख के आओ की चावल पके की नहीं| शोभित अन्दर गया उसने अन्दर से ही कहा की सर चावल पक गए हैं, मैं गैस बंद कर देता हूँ| मास्टर साहब ने भी ऐसा ही करने को कहा|

अब सोभित और मास्टर साहब आमने सामने बैठे थे| मास्टर साहब शोभित की तरफ मुस्कुराते हर बोले –शोभित तुमने कैसे पता लगया की चावल पक गए हैं?

शोभित बोला ये तो बहुत आसान था| मैंने चावल का एक दाना उठाया और उसे चेक किया कि वो पका है कि नहीं ,वो पक चुका था तो मतलब चावल पक चुके हैं|

मास्टर जी गंभीर होते हुए बोले यही तुम्हारे असफल होने का कारण है|

शोभित उत्सुकता वश मास्टर जी की और देखने लगा|

मास्टर साहब समझाते हुए बोले की एक चावल के दाने ने पूरे चावल का हाल बयां कर दिया| सिर्फ एक चावल का दाना काफी है ये बताने को की अन्य चावल पके या नहीं| हो सकता है कुछ चावल न पके हों पर तुम उन्हें नहीं खोज सकते वो तो सिर्फ खाते वक्त ही अपना स्वाभाव बताएँगे|

इसी प्रकार मनुष्य कई गुणों से बना होता है, पढाई-लिखाई में अच्छा होना उन्ही गुणोँ में से एक है , पर इसके आलावा, अच्छा व्यवहार, बड़ों के प्रति सम्मान , छोटों की प्रति प्रेम , सकारात्मक दृष्टिकोण , ये भी मनुष्य के आवश्यक गुण हैं, और सिर्फ पढाई-लिखाई में अच्छा होना से कहीं ज्यादा ज़रुरी हैं।

तुमने अपना एक गुण तो पका लिया पर बाकियो की तऱफ ध्यान ही नहीं दिया। इसीलिए जब कोई इंटरव्यूवर तुम्हारा इंटरव्यू लेता है तो तुम उसे कहीं से पके और कहीं से कच्चे लगते हो , और अधपके चावलों की तरह ही कोई इस तरह के कैंडिडेट्स भी  पसंद नही करता।

शोभित को अपनी गलती का अहसास हो चुका था| वो अब मास्टर जी के यहाँ से नयी एनर्जी ले के जा रहा था|

तो दोस्तों हमारे जीवन में भी कोई न कोई बुराई होती है, जो हो सकता है हमें खुद नज़र न आती हो पर सामने वाला बुराई तुरंत भाप लेता है| अतः हमें निरंतर यह प्रयास करना चाहिए कि हमारे गुणों से बना चावल का एक-एक दाना अच्छी तरह से पका हो, ताकि कोई हमें कहीं से चखे उसे हमारे अन्दर पका हुआ दाना ही मिले।

 

Wish4me to Engish

Shobhit ek medhaavee chhaatr thaa. Usane haa_ii skool aur inṭarameeḍaieṭ kee pareekṣaa men poore jile men ṭŏp kiyaa thaa. Par is safalataa ke baavajood usake maataa-pitaa use khush naheen the. Kaaraṇa thaa paḍhaa_ii ko lekar usakaa ghamnḍa or apane badon se tameej se baat n karanaa. Vah aksar hee logon se oonchee aavaaz me baat kiyaa karataa aur akaaraṇa hee unakaa majaak udaa detaa. Khair din beetate ga_e aur dekhate-dekhate shobhit snaatak bhee ho gayaa. Snaatak hone ke baad sobhit naukaree kee khoj men nikalaa. Pratiyogee pareekṣaa paas karane ke baavajood usakaa inṭaravyoo men chayan naheen ho paataa thaa. Shobhit ko lagaa thaa ki achchhe ank ke dam par use aasaanee se naukaree mil jaayegee par aisaa ho n sakaa. Kaafee prayaas ke baad bhee vo safal naa ho sakaa. Har baar usakaa ghamnḍa, baat karane kaa tareekaa inṭaravyoo lene vaale ko akhar jaataa aur vo use naa lete. Nirntar mil rahee asafalataa se shobhit hataash ho chukaa thaa , par abhee bhee use samajh naheen aa rahaa thaa ki use apanaa vyavahaar badalane kee aavashyataa hai. Ek din raste men shobhit kee mulaakaat apane skool ke priy adhyaapak se ho gayee. Vah unhen bahut maanataa thaa or adhyaapak bhee usase bahut sneh karate the . Sobhit ne adhyaapak ko saaree baat bataa_ii. Choonki adhyaapak sobhit ke vayavahaar se parichit the, to unhone kahaa kee kal tum mere ghar aanaa tab main tumhe isakaa upaay bataa_oongaa. Shobhit agale din maasṭar saahab ke ghar gayaa. Maasṭar saahab ghar par chaaval pakaa rahe the. Donon aapas men baat hee kar rahe the kee maasṭar saahab ne shobhit se kahaa jaake dekh ke aao kee chaaval pake kee naheen. Shobhit andar gayaa usane andar se hee kahaa kee sar chaaval pak ga_e hain, main gais bnd kar detaa hoon. Maasṭar saahab ne bhee aisaa hee karane ko kahaa. Ab sobhit aur maasṭar saahab aamane saamane baiṭhe the. Maasṭar saahab shobhit kee taraf muskuraate har bole –shobhit tumane kaise pataa lagayaa kee chaaval pak ga_e hain? Shobhit bolaa ye to bahut aasaan thaa. Mainne chaaval kaa ek daanaa uṭhaayaa aur use chek kiyaa ki vo pakaa hai ki naheen ,vo pak chukaa thaa to matalab chaaval pak chuke hain. Maasṭar jee gnbheer hote hue bole yahee tumhaare asafal hone kaa kaaraṇa hai. Shobhit utsukataa vash maasṭar jee kee aur dekhane lagaa. Maasṭar saahab samajhaate hue bole kee ek chaaval ke daane ne poore chaaval kaa haal bayaan kar diyaa. Sirf ek chaaval kaa daanaa kaafee hai ye bataane ko kee any chaaval pake yaa naheen. Ho sakataa hai kuchh chaaval n pake hon par tum unhen naheen khoj sakate vo to sirf khaate vakt hee apanaa svaabhaav bataa_enge. Isee prakaar manuṣy ka_ii guṇaon se banaa hotaa hai, paḍhaa_ii-likhaa_ii men achchhaa honaa unhee guṇaon men se ek hai , par isake aalaavaa, achchhaa vyavahaar, badon ke prati sammaan , chhoṭon kee prati prem , sakaaraatmak driṣṭikoṇa , ye bhee manuṣy ke aavashyak guṇa hain, aur sirf paḍhaa_ii-likhaa_ii men achchhaa honaa se kaheen jyaadaa zaruree hain. Tumane apanaa ek guṇa to pakaa liyaa par baakiyo kee taraf dhyaan hee naheen diyaa. Iseelie jab koii inṭaravyoovar tumhaaraa inṭaravyoo letaa hai to tum use kaheen se pake aur kaheen se kachche lagate ho , aur adhapake chaavalon kee tarah hee koii is tarah ke kainḍaiḍaeṭs bhee pasnd nahee karataa. Shobhit ko apanee galatee kaa ahasaas ho chukaa thaa. Vo ab maasṭar jee ke yahaan se nayee enarjee le ke jaa rahaa thaa. To doston hamaare jeevan men bhee koii n koii buraa_ii hotee hai, jo ho sakataa hai hamen khud nazar n aatee ho par saamane vaalaa buraa_ii turnt bhaap letaa hai. Atah hamen nirntar yah prayaas karanaa chaahie ki hamaare guṇaon se banaa chaaval kaa ek-ek daanaa achchhee tarah se pakaa ho, taaki koii hamen kaheen se chakhe use hamaare andar pakaa huaa daanaa hee mile.

Comments

comments