Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » चाणक्य नीति : द्वितीय अध्याय (Chanakya Niti: Chapter two)

चाणक्य नीति : द्वितीय अध्याय (Chanakya Niti: Chapter two)

chanakya-niti-chapter-two

chanakya-niti-chapter-two

Chanakya Niti

Chanakya Niti

1. झूठ बोलना, कठोरता, छल करना, बेवकूफी करना, लालच, अपवित्रता  और निर्दयता ये औरतो के कुछ नैसर्गिक दुर्गुण है।  

2.भोजन के योग्य पदार्थ और भोजन करने की क्षमता, सुन्दर स्त्री और उसे भोगने के लिए काम शक्ति, पर्याप्त धनराशी तथा दान देने की भावना – ऐसे संयोगों का होना सामान्य तप का फल नहीं है।

३. उस व्यक्ति ने धरती पर ही स्वर्ग को पा लिया :

१. जिसका पुत्र आज्ञांकारी है,
२. जिसकी पत्नी उसकी इच्छा के अनुरूप व्यव्हार करती है,
३. जिसे अपने धन पर संतोष  है।
४. पुत्र वही है जो पिता का कहना मानता हो, पिता वही है जो पुत्रों का पालन-पोषण करे, मित्र वही है जिस पर आप विश्वास कर सकते हों और पत्नी वही है जिससे सुख प्राप्त हो। 
५. ऐसे लोगों से बचे जो आपके मुह पर तो मीठी बातें करते हैं, लेकिन आपके पीठ पीछे आपको बर्बाद करने की योजना बनाते है, ऐसा करने वाले तो उस विष के घड़े के समान है जिसकी उपरी सतह दूध से भरी है।
६. एक बुरे मित्र पर तो कभी विश्वास ना करे। एक अच्छे मित्र पर भी विश्वास ना करें। क्यूंकि यदि ऐसे लोग आपसे रुष्ट होते है तो आप के सभी राज से पर्दा खोल देंगे। 
७. मन में सोंचे हुए कार्य को किसी के सामने प्रकट न करें बल्कि मनन पूर्वक उसकी सुरक्षा करते हुए उसे कार्य में परिणत कर दें।
wish4me to English
1. jhooth bolana, kathorata, chhal karana, bevakoophee karana, laalach, apavitrata aur nirdayata ye aurato ke kuchh naisargik durgun hai.

2.bhojan ke yogy padaarth aur bhojan karane kee kshamata, sundar stree aur use bhogane ke lie kaam shakti, paryaapt dhanaraashee tatha daan dene kee bhaavana – aise sanyogon ka hona saamaany tap ka phal nahin hai.

3. us vyakti ne dharatee par hee svarg ko pa liya :

1. jisaka putr aagyaankaaree hai,
2. jisakee patnee usakee ichchha ke anuroop vyavhaar karatee hai,
3. jise apane dhan par santosh hai.

4. putr vahee hai jo pita ka kahana maanata ho, pita vahee hai jo putron ka paalan-poshan kare, mitr vahee hai jis par aap vishvaas kar sakate hon aur patnee vahee hai jisase sukh praapt ho.

5. aise logon se bache jo aapake muh par to meethee baaten karate hain, lekin aapake peeth peechhe aapako barbaad karane kee yojana banaate hai, aisa karane vaale to us vish ke ghade ke samaan hai jisakee uparee satah doodh se bharee hai.

6. ek bure mitr par to kabhee vishvaas na kare. ek achchhe mitr par bhee vishvaas na karen. kyoonki yadi aise log aapase rusht hote hai to aap ke sabhee raaj se parda khol denge.

7. man mein sonche hue kaary ko kisee ke saamane prakat na karen balki manan poorvak usakee suraksha karate hue use kaary mein parinat kar den

Comments

comments