Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » चाणक्य नीति : छठवां अध्याय (Chanakya Niti eighth chapter)

चाणक्य नीति : छठवां अध्याय (Chanakya Niti eighth chapter)

chanakya-niti-eighth-chapter-3

chanakya-niti-eighth-chapter-3

Chanakya Niti eighth chapter

Chanakya Niti eighth chapter

श्रवण करने से धर्मं का ज्ञान होता है, द्वेष दूर होता है, ज्ञान की प्राप्ति होती है और माया की आसक्ति से मुक्ति होती है.

पक्षीयों में कौवा नीच है. पशुओ में कुत्ता नीच है. जो तपस्वी पाप करता है वो घिनौना है. लेकिन जो दूसरो की निंदा करता है वह सबसे बड़ा चांडाल है.

राख से घिसने पर पीतल चमकता है . ताम्बा इमली से साफ़ होता है. औरते प्रदर से शुद्ध होती है. नदी बहती रहे तो साफ़ रहती है.

राजा, ब्राह्मण और तपस्वी योगी जब दुसरे देश जाते है, तो आदर पाते है. लेकिन औरत यदि भटक जाती है तो बर्बाद हो जाती है.

धनवान व्यक्ति के कई मित्र होते है. उसके कई सम्बन्धी भी होते है. धनवान को ही आदमी कहा जाता है और पैसेवालों को ही पंडित कह कर नवाजा जाता है.

सर्व शक्तिमान के इच्छा से ही बुद्धि काम करती है, वही कर्मो को नियंत्रीत करता है. उसी की इच्छा से आस पास में मदद करने वाले आ जाते है.

काल सभी जीवो को निपुणता प्रदान करता है. वही सभी जीवो का संहार भी करता है. वह जागता रहता है जब सब सो जाते है. काल को कोई जीत नहीं सकता.

जो जन्म से अंध है वो देख नहीं सकते. उसी तरह जो वासना के अधीन है वो भी देख नहीं सकते. अहंकारी व्यक्ति को कभी ऐसा नहीं लगता की वह कुछ बुरा कर रहा है. और जो पैसे के पीछे पड़े है उनको उनके कर्मो में कोई पाप दिखाई नहीं देता.
जीवात्मा अपने कर्म के मार्ग से जाता है. और जो भी भले बुरे परिणाम कर्मो के आते है उन्हें भोगता है. अपने ही कर्मो से वह संसार में बंधता है और अपने ही कर्मो से बन्धनों से छूटता है.

राजा को उसके नागरिको के पाप लगते है. राजा के यहाँ काम करने वाले पुजारी को राजा के पाप लगते है. पति को पत्नी के पाप लगते है. गुरु को उसके शिष्यों के पाप लगते है.

अपने ही घर में व्यक्ति के ये शत्रु हो सकते है…
उसका बाप यदि वह हरदम कर्ज में डूबा रहता है.
उसकी माँ यदि वह दुसरे पुरुष से संग करती है.
सुन्दर पत्नी
वह लड़का जिसने शिक्षा प्राप्त नहीं की.

एक लालची आदमी को भेट वास्तु दे कर संतुष्ट करे. एक कठोर आदमी को हाथ जोड़कर संतुष्ट करे. एक मुर्ख को सम्मान देकर संतुष्ट करे. एक विद्वान् आदमी को सच बोलकर संतुष्ट करे.

एक बेकार राज्य का राजा होने से यह बेहतर है की व्यक्ति किसी राज्य का राजा ना हो.
एक पापी का मित्र होने से बेहतर है की बिना मित्र का हो.
एक मुर्ख का गुरु होने से बेहतर है की बिना शिष्य वाला हो.
एक बुरीं पत्नी होने से बेहतर है की बिना पत्नी वाला हो.

एक बेकार राज्य में लोग सुखी कैसे हो? एक पापी से किसी शान्ति की प्राप्ति कैसे हो? एक बुरी पत्नी के साथ घर में कौनसा सुख प्राप्त हो सकता है. एक नालायक शिष्य को शिक्षा देकर कैसे कीर्ति प्राप्त हो?

शेर से एक बात सीखे. बगुले से एक. मुर्गे से चार. कौवे से पाच. कुत्ते से छह. और गधे से तीन.

शेर से यह बढ़िया बात सीखे की आप जो भी करना चाहते हो एकदिली से और जबरदस्त प्रयास से करे.

बुद्धिमान व्यक्ति अपने इन्द्रियों को बगुले की तरह वश में करते हुए अपने लक्ष्य को जगह, समय और योग्यता का पूरा ध्यान रखते हुए पूर्ण करे.

मुर्गे से हे चार बाते सीखे…
१. सही समय पर उठे. २. नीडर बने और लढ़े. ३. संपत्ति का रिश्तेदारों से उचित बटवारा करे. ४. अपने कष्ट से अपना रोजगार प्राप्त करे.

कौवे से ये पाच बाते सीखे… १. अपनी पत्नी के साथ एकांत में प्रणय करे. २. नीडरता ३. उपयोगी वस्तुओ का संचय करे. ४. सभी ओर दृष्टी घुमाये. ५. दुसरो पर आसानी से विश्वास ना करे.

कुत्ते से ये बाते सीखे १. बहुत भूख हो पर खाने को कुछ ना मिले या कम मिले तो भी संतोष करे. २. गाढ़ी नींद में हो तो भी क्षण में उठ जाए. ३. अपने स्वामी के प्रति बेहिचक इमानदारी रखे ४. नीडरता.

गधे से ये तीन बाते सीखे. १. अपना बोझा ढोना ना छोड़े. २. सर्दी गर्मी की चिंता ना करे. ३. सदा संतुष्ट रहे.

जो व्यक्ति इन बीस गुणों पर अमल करेगा वह जो भी करेगा सफल होगा.
wish4me to English

shravan karane se dharman ka gyaan hota hai, dvesh door hota hai, gyaan kee praapti hotee hai aur maaya kee aasakti se mukti hotee hai.

paksheeyon mein kauva neech hai. pashuo mein kutta neech hai. jo tapasvee paap karata hai vo ghinauna hai. lekin jo doosaro kee ninda karata hai vah sabase bada chaandaal hai.

raakh se ghisane par peetal chamakata hai . taamba imalee se saaf hota hai. aurate pradar se shuddh hotee hai. nadee bahatee rahe to saaf rahatee hai.

raaja, braahman aur tapasvee yogee jab dusare desh jaate hai, to aadar paate hai. lekin aurat yadi bhatak jaatee hai to barbaad ho jaatee hai.

dhanavaan vyakti ke kaee mitr hote hai. usake kaee sambandhee bhee hote hai. dhanavaan ko hee aadamee kaha jaata hai aur paisevaalon ko hee pandit kah kar navaaja jaata hai.

sarv shaktimaan ke ichchha se hee buddhi kaam karatee hai, vahee karmo ko niyantreet karata hai. usee kee ichchha se aas paas mein madad karane vaale aa jaate hai.

kaal sabhee jeevo ko nipunata pradaan karata hai. vahee sabhee jeevo ka sanhaar bhee karata hai. vah jaagata rahata hai jab sab so jaate hai. kaal ko koee jeet nahin sakata.

jo janm se andh hai vo dekh nahin sakate. usee tarah jo vaasana ke adheen hai vo bhee dekh nahin sakate. ahankaaree vyakti ko kabhee aisa nahin lagata kee vah kuchh bura kar raha hai. aur jo paise ke peechhe pade hai unako unake karmo mein koee paap dikhaee nahin deta.
jeevaatma apane karm ke maarg se jaata hai. aur jo bhee bhale bure parinaam karmo ke aate hai unhen bhogata hai. apane hee karmo se vah sansaar mein bandhata hai aur apane hee karmo se bandhanon se chhootata hai.

raaja ko usake naagariko ke paap lagate hai. raaja ke yahaan kaam karane vaale pujaaree ko raaja ke paap lagate hai. pati ko patnee ke paap lagate hai. guru ko usake shishyon ke paap lagate hai.

apane hee ghar mein vyakti ke ye shatru ho sakate hai…
usaka baap yadi vah haradam karj mein dooba rahata hai.
usakee maan yadi vah dusare purush se sang karatee hai.
sundar patnee
vah ladaka jisane shiksha praapt nahin kee.

ek laalachee aadamee ko bhet vaastu de kar santusht kare. ek kathor aadamee ko haath jodakar santusht kare. ek murkh ko sammaan dekar santusht kare. ek vidvaan aadamee ko sach bolakar santusht kare.

ek bekaar raajy ka raaja hone se yah behatar hai kee vyakti kisee raajy ka raaja na ho.
ek paapee ka mitr hone se behatar hai kee bina mitr ka ho.
ek murkh ka guru hone se behatar hai kee bina shishy vaala ho.
ek bureen patnee hone se behatar hai kee bina patnee vaala ho.

ek bekaar raajy mein log sukhee kaise ho? ek paapee se kisee shaanti kee praapti kaise ho? ek buree patnee ke saath ghar mein kaunasa sukh praapt ho sakata hai. ek naalaayak shishy ko shiksha dekar kaise keerti praapt ho?

sher se ek baat seekhe. bagule se ek. murge se chaar. kauve se paach. kutte se chhah. aur gadhe se teen.

sher se yah badhiya baat seekhe kee aap jo bhee karana chaahate ho ekadilee se aur jabaradast prayaas se kare.

buddhimaan vyakti apane indriyon ko bagule kee tarah vash mein karate hue apane lakshy ko jagah, samay aur yogyata ka poora dhyaan rakhate hue poorn kare.

murge se he chaar baate seekhe…
1. sahee samay par uthe. 2. needar bane aur ladhe. 3. sampatti ka rishtedaaron se uchit batavaara kare. 4. apane kasht se apana rojagaar praapt kare.

kauve se ye paach baate seekhe… 1. apanee patnee ke saath ekaant mein pranay kare. 2. needarata 3. upayogee vastuo ka sanchay kare. 4. sabhee or drshtee ghumaaye. 5. dusaro par aasaanee se vishvaas na kare.

kutte se ye baate seekhe 1. bahut bhookh ho par khaane ko kuchh na mile ya kam mile to bhee santosh kare. 2. gaadhee neend mein ho to bhee kshan mein uth jae. 3. apane svaamee ke prati behichak imaanadaaree rakhe 4. needarata.

gadhe se ye teen baate seekhe. 1. apana bojha dhona na chhode. 2. sardee garmee kee chinta na kare. 3. sada santusht rahe.

jo vyakti in bees gunon par amal karega vah jo bhee karega saphal hoga

Comments

comments